--Advertisement--

सूरजापूरी की दयनीय दशा के लिए सीमांचल के प्रतिनिधि हैं जिम्मेदार : अख्तरूल ईमान

Kishanganj News - सूरजापूरी डेवलमेंट ऑर्गेनाइजेशन के बैनर तले सूरजापूरी बिरादरी ने मांगोें के समर्थन में शनिवार को समाहरणालय के...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 03:50 AM IST
kishanganj News - simangal39s representative is responsible for surajapuri39s pathetic condition akhtarul iman
सूरजापूरी डेवलमेंट ऑर्गेनाइजेशन के बैनर तले सूरजापूरी बिरादरी ने मांगोें के समर्थन में शनिवार को समाहरणालय के सामने एक दिवसीय धरना दिया। धरने में सूरजापूरी डेवलमेंट ऑर्गेनाइजेशन के समर्थन में विभिन्न राजनीतिक दलों के कद्दावर नेता भी शामिल हुए। धरना की अध्यक्षता करते हुए सूरजापूरी डेवलमेंट ऑर्गेनाइजेशन के अध्यक्ष अधिवक्ता फिरोज अहमद ने कहा कि पूर्णिया प्रमंडल के चार जिलों में सूरजापूरी बिरादरी की संख्या लाखों में है। इसके बाजूद सूरजपुरी जाति सामाजिक शैक्षणिक एवं आर्थिक रूप से पिछड़ा है। इसके लिए सीमांचल के प्रतिनिधि जिम्मेदार हैं। 2009 में इस जाति को ओबीसी में शामिल करने के लिए राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग नई दिल्ली को भेजा गया, जिसकी सुनवाई 28 नवंबर 2014 को हुई। लेकिन भारत सरकार द्वारा अबतक सूरजापूरी बिरादरी को ओबीसी में शामिल नहीं किया गया है।

उपेक्षा बर्दाश्त नहीं, ओबीसी में शामिल हो सूरजापूरी विरादरी

समाहरणालय के सामने धरना में शामिल एसडीओ के कार्यकर्ता व अन्य ।

बिरादरी को वोट बैंक बना कर रखा

एआई एमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष सह पूर्व विधायक अख्तरूल ईमान ने कहा कि सूरजापूरी बिरादरी के लोगों की दयनीय हालत के लिए इलाके के जनप्रतिनिधि भी दोषी है। जिन्होंने सिर्फ इलाके के लोगों को अपना वोट बैंक बनाकर रखा। सत्ता पर काबिज होते ही उनकी माली हालत को मजाक बनाकर रखा। सूरजापूरी बिरादरी के लिए मुखर होकर किसी ने आवाज बुलंद नहीं की। हैरत की बात तो यह कि बड़े आंदोलन के बाद राज्य सरकार अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी लिए 224 एकड़ जमीन देने पर बाध्य हो गई। लेकिन न तो कांग्रेस की सरकार और न ही एनडीए की सरकार ने इस विश्वविद्यालय के लिए राशि जारी की। मुर्शीदाबाद एवं मल्लपुरम में 60-60 करोड़ राशि भारत सरकार द्वारा दी जा चुकी है। 38 से 50 कर्मियों को भी नियुक्ति हुई। लेकिन इस जिले के साथ सौतेलापन व्यवहार किया जा रहा है। यहां बीएड व एमबीए की पढ़ाई किराए के मकान में चालू किया गया,जिसमें बीएड की पढ़ाई बंद हो चुकी है।

मांगें पूरी होने तक संघर्ष जारी रहेगा

जन अधिकार पार्टी के प्रदेश सचिव प्रो. मुसब्बिर आलम ने कहा कि सूरजापूरी क्षेत्र मे रहने वाले सभी समुदाय के लोग स्वभाव से सीधे हैं। इसी भोलेपन का फायदा सरकार उठाती रही है। लेकिन अब लोगों में जागरूकता आ चुकी है। अपने हक व अधिकार के लिए यहां के निवासी अब संवैधानिक तरीके से अपनी बात रखने के लिए आगे आने लगे हैं। उन्होंने कहा कि सूरजापूरी डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन ने जिस आवाज को आज मंच दिया है। उसकी संघर्ष यात्रा जारी रहेगी। धरना के बाद एक शिष्टमंडल ने मांगों के समर्थन में प्रधानमंत्री को डीएम के माध्यम से एक ज्ञापन भी सौंपा। धरना में फिरोज अहमद, मंजर शफीक, कमरूल हुदा, अब्दुल गफ्फर, मुसब्बिर आलम, जमील अख्तर, शाहिदुर्रहमान, शौकत अली, रागीब आलम, खलीलुर्रहमान, हसनैन आलम, सईद अख्तर, मंसूर आलम, विधायक हाजी सुबहान, ह्यूमेन चेन के असलम अलीद, अधिवक्ता लाल मोहम्मद, शाहिद रब्बानी सहित कई लोग मौजूद थे।

X
kishanganj News - simangal39s representative is responsible for surajapuri39s pathetic condition akhtarul iman
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..