50%नामांकित छात्र भी नहीं पहुंच रहे स्कूल, सरकारी प्रयास विफल

Lakhisarai News - सरकारी स्कूलों में ड्रेस, भोजन, किताबें आदि मुफ्त दिये जाने के बावजूद सरकारी स्कूलों में बच्चों की संख्या में...

Feb 12, 2020, 07:16 AM IST
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail

सरकारी स्कूलों में ड्रेस, भोजन, किताबें आदि मुफ्त दिये जाने के बावजूद सरकारी स्कूलों में बच्चों की संख्या में कमी आ रही है। वहीं छोटे से छोटे स्तर पर गली-मोहल्लों में खोले गये निजी स्कूलों में बच्चों की संख्या बढ़ रही है। संसाधन और पढ़ाई की गुणवत्ता की वजह से यह बड़ा अंतर देखा जा रहा है। सरकारी स्कूलों में शिक्षा का स्तर कब सुधरेगा आखिर यह सुधरेगा भी या नहीं सह एक बड़ा सवाल है। कम से कम जो हाल है उसमें तो उसके सुधरने की उम्मीद दूर-दूर तक कहीं दिख नहीं रही है। इन स्थितियों से अभिभावक बेहद चिंतित हैं। सरकारी स्कूलों में घटती बच्चों की संख्या इसी का नतीजा भी है।

सरकारी स्कूलों की दयनीय दशा और गिरती शिक्षा से सभी वाकिफ हैं। कहने को शिक्षा का स्तर सुधारने की दिशा में भले ही सरकार गंभीर है लेकिन वास्तविकता के धरातल पर स्थिति भिन्न है। तमाम प्रयास किए गए कि बच्चों का शिक्षा के प्रति लगाव बढ़े। इसको दृष्टिगत रखते हुए विद्यालयों में आकर्षक छात्रवृत्ति, मध्याह्न भोजन, नि:शुल्क पुस्तकें, स्कूल यूनिफार्म जैसी कई योजनाएं संचालित की जा रही हैं। यही नहीं, बल्कि विद्यालयों में कुशल शिक्षकों की तैनाती की गई है ताकि नौनिहालों को बेहतर शिक्षा दी जा सके। बावजूद इसके शिक्षा का स्तर ऊपर उठने को कौन कहे और गिरता जा रहा है। यही कारण है कि लोगों का सरकारी शिक्षा व्यवस्था से मोह भंग हो चुका है। लोग अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में भेजना ही नहीं चाहते। इस बाबत अभिभावकों का कहना है कि सरकारी स्कूलों में दाखिला कराने का मतलब बच्चों का भविष्य बर्बाद करना है।

निजी स्कूलों की भारी फीस मेन्टेनेंस का खर्च उठाना सबके बस की बात नहीं है फिर भी लोग बच्चों को सरकारी स्कूलों में भेजने से परहेज कर रहे हैं। कुल मिलाकर एक बच्चे पर 15 से 20 हजार रुपया सालाना शिक्षा खर्च का बोझ पड़ रहा है। इसका कारण यही है कि शासकीय स्कूलों में सरकार भले ही शिक्षा मद में करोड़ों रुपये खर्च कर रही है लेकिन नतीजे में कोई ख़ास परिवर्तन नहीं हुआ। न तो समय से स्कूल खुल रहे हैं न ही गुरुजन समय पर उपस्थित हो रहे हैं। यही कारण है कि लोगों का सरकारी स्कूलों से मोह भंग होता जा रहा है।छात्रों की उपस्थिति में गिरावट का बड़ा कारण स्कूलों में फर्जी एडमिशन हैं। दरअसल, शिक्षक तबादलों से बचने के लिए फर्जी एडमिशन दिखाते हैं। ताकि पसंद के स्थान से कहीं ओर जाना न पड़े। ये छात्र बाद में स्कूल नहीं आते। जिससे उपस्थिति प्रभावित होती है। इसी कारण स्कूलों में छात्र-शिक्षक अनुपात भी गड़बड़ा जाता है। दूसरी ओर शिक्षकों की उपस्थिति की भी समस्या बरकरार है। शिक्षा विभाग शिक्षकों के गैरहाजिर रहने से परेशान हैं। विभाग के आला अधिकारियों की मानें तो 40 फीसदी से ज्यादा शिक्षक गैरहाजिर रहते हैं। जिससे पढ़ाई प्रभावित हो रही है।

अभिभावक सुरेंद्र महतो कहते है की सरकारी स्कूलों में शिक्षा का स्तर बेहद खराब है।

अभिभावक बच्चों को निजी संस्थान में भेजते हैं

डीपीओ सर्व शिक्षा अभियान उपेंद्र कुमार सिंह कहते हैं की सरकारी विद्यालयों में बच्चे अधिक से अधिक पहुंचे सरकार इसके लिए कई योजनाएं जैसे एमडीएम ,पोशाक ,सायकिल ,स्मार्ट क्लास सहित कई योजनाओं का संचालन कर रही है। सरकारी विद्यालयों में बच्चों को मिलनेवाली योजनाओं का लाभ तो ले लेते हैं लेकिन अभिभावक अपने बच्चों को निजी कोचिंग में भेज देते हैं। अवैध रूप से निजी कोचिंग सेंटर चलानेवालों को चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी।

बीते जीवन में घटित बातों को किया याद

क्विज प्रतियोगिता का मंच संचालन कर रही नवम वर्ग की छात्रा अंतरा सिंह और मुस्कान ने दसवीं के छात्र-छात्राओं के बीच ग्लास से पानी समाप्त होंगे विजयी प्रतियोगिता में उनके स्कूल और जीवन में घटित बुरी और अच्छी यादों को ताजा किया गया। क्विज में पूछा गया कि बचपन में किस वजह से माता पिता से मार खायी,स्कूल के दौरान शरारत करते हुए किन्ही ने चेारी की,12 बजे के बाद कौन कौन मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं और क्या अब आपलोगों को हमारे साथ बिताए पल याद आयेगी।

टर्की स्कॉलरशिप 2020

किसके लिए है : टर्की के टॉप इंस्टीट्यूट्स से ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन या पीएचडी करने के इच्छुक स्टूडेंट्स को यह स्कॉलरशिप प्रदान की जाती है। इस स्कॉलरशिप का उद्देश्य दुनिया भर के स्टूडेंट्स को टर्की में पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करना है ।

योग्यता : ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन के लिए 12वीं में न्यूनतम 70% अंक होना अनिवार्य है। वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन में एडमिशन के लिए यूजी में 75% और पीएचडी में एडमिशन के लिए पीजी में 75% अंक होना चाहिए। हेल्थ साइंस से जुड़े कोर्सेस में एडमिशन के लिए पिछली परीक्षा में 90% अंक होना अनिवार्य है। ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन और पीएचडी के लिए आयु सीमा क्रमश: 21 वर्ष, 30 वर्ष और 35 वर्ष है। आवेदक के पास पासपोर्ट होना भी अनिवार्य है।

क्या मिलेगा : चयनित स्टूडेंट्स को ट्यूशन फीस के साथ फ्लाइट टिकट और एकोमोडेशन प्रदान किया जाएगा।

आवेदन की अंतिम तिथि : 20 फरवरी, 2020

अधिक जानकारी के लिए देखें : https://turkiyeburslari.gov.tr/en/announcement/turkiye-scholarships-2020-applications-open

रॉयल थाई गवर्नमेंट एचएम क्वीन्स मास्टर्स स्कॉलरशिप 2020

किसके लिए है : थाइलैंड स्थित एशियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी द्वारा उन स्टूडेंट्स को यह स्कॉलरशिप प्रदान की जाएगी, जो एनवायरनमेंट से जुड़े विषयों से पोस्ट ग्रेजुएशन करना चाहते हैं।

योग्यता : आवेदक का एशियाई देश का नागरिक होना अनिवार्य है। इसके साथ ही वही कैंडिडेट्स आवेदन कर सकते हैं, जिन्होंने चार वर्षीय ग्रेजुएशन कोर्स किया है। जिस इंस्टीट्यूट से ग्रेजुएशन किया है, उसका क्यूएस वर्ल्ड रैंकिंग में टॉप 1000 में शामिल होना या फिर क्यूएस टॉप एशियन यूनिवर्सिटीज की सूची में टॉप 350 में होना अनिवार्य है। आवेदन करते समय कैंडिडेट के पास यूनिवर्सिटी द्वारा दिया गया एडमिशन का ऑफर लेटर होना अनिवार्य है।

क्या मिलेगा : 22 माह के पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स के लिए फुल ट्यूशन फीस के साथ एकोमोडेशन उपलब्ध कराया जाएगा।

आवेदन की अंतिम तिथि : 29 फरवरी, 2020

अधिक जानकारी के लिए देखें : https://www.buddy4study.com/scholarship/royal-thai-government-hm-queen-s-masters-scholarship

ग्लोबल स्कॉलरशिप टू स्टडी ऑनलाइन ऐट यूनिकैफ यूनिवर्सिटी

किसके लिए है : यूनिकैफ यूनिवर्सिटी अपने ई-लर्निंग प्रोग्राम के तहत उन स्टूडेंट्स को यह स्कॉलरशिप प्रदान करती है, जो क्लासरूम एजुकेशन की बजाए ऑनलाइन एजुकेशन में रुचि रखते हैं। इस स्कॉलरशिप के तहत मैनेजमेंट, फाइनेंस, हेल्थकेयर, कम्प्यूटर, लॉ और साइकोलॉजी के विभिन्न कोर्सेस में छात्रों को ट्यूशन फीस में छूट दी जाती है।

योग्यता : ग्रेजुएशन से लेकर पोस्ट ग्रेजुएशन करने के इच्छुक छात्र इस स्कॉलरशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं। विभिन्न कोर्सेस के लिए शैक्षणिक योग्यता अलग-अलग है। जिसकी जानकारी ऑफिशियल वेबसाइट पर विजिट कर ली जा सकती है।

क्या मिलेगा : चयनित कैंडिडे्टस को 75% फीस स्कॉलरशिप के रूप में दी जाएगी।

आवेदन की अंतिम तिथि : इस स्कॉलरशिप के लिए सालभर आवेदन प्रक्रिया जारी रहती है। कोई अंतिम तिथि नहीं है।

अधिक जानकारी के लिए देखें : https://www.buddy4study.com/scholarship/unicaf-university-global-scholarships-2018

यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल अर्कानास इंटरनेशनल स्टूडेंट मेरिट स्कॉलरशिप

किसके लिए है : यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल अर्कानास द्वारा उन स्टूडेंट्स को यह स्कॉलरशिप दी जाती है, जो इस यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन करना चाहते हैं। स्कॉलरशिप प्रोग्राम में आवेदन करने के बाद कैंडिडेट्स को 250 शब्दों का एक एस्से और एक लेटर ऑफ रिकमंेडेशन भी संस्थान को भेजना होगा। इससे जुड़ी विस्तृत जानकारी ऑफिशियल वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है।

योग्यता : यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल अर्कानास में एडमिशन के लिए आवेदन करने वाले स्टूडेंट्स इस स्कॉलरशिप के लिए पात्र होंगे। इसके साथ ही स्टूडेंट का फॉरेन एजुकेशन के लिए कराई जाने वाली सैट परीक्षा में न्यूनतम 1160 स्कोर होना चाहिए।

क्या मिलेगा : चयनित स्टूडेंट्स को लगभग 5 लाख रुपए स्कॉलरशिप प्रदान की जाएगी।

आवेदन की अंतिम तिथि : 31 मार्च, 2020

अधिक जानकारी के लिए देखें : https://www.buddy4study.com/scholarship/university-of-central-arkansas-international-student-merit-scholarship

सीबीएसई बोर्ड एग्जाम हेल्प डेस्क 2020

{ क्या बोर्ड परीक्षा में सैंपल पेपर्स से भी प्रश्न पूछे जाएंगे?

मीना शर्मा - सैंपल पेपर आपको डिजाइन, पैटर्न और प्रश्नों के प्रकारों को जानने में मदद करते हैं। लेकिन परीक्षा में सिलेबस के किसी भी हिस्से से प्रश्न पूछे जा सकते हैं। इसलिए पूरे सिलेबस की अच्छे से तैयारी करें।

{क्या मैं हेडिंग लिखने या कीवर्ड्स हाइलाइट करने के लिए रंग-बिरंगे पेन का उपयोग कर सकता हूं?

नेहा शर्मा - नहीं, स्टूडेंट्स एग्जाम में ब्लैक या किसी रंगीन पेन का उपयोग नहीं कर सकते हैं। वे सिर्फ ब्लू या रॉयल ब्लू इंक जेल पेन का ही यूज कर सकते हैं। यदि उन्हें डायग्राम, टेबल या फ्लो चार्ट बनाना है तो उसके लिए पेंसिल का इस्तेमाल किया जा सकता है।

नोट : स्टूडेंट्स परीक्षा से संबंधित अपनी शंकाओं के समाधान के लिए नीचे दी गई ई-मेल आईडी पर प्रश्न भेज सकते हैं। इनके जवाब विशेषज्ञों द्वारा दिए जाएंगे। जिनका समय-समय पर इस कॉलम में प्रकाशन किया जाएगा।

उपयोगिता प्रमाणपत्र जमा करने का दिया निर्देश

टेटिया बम्बर | प्रखंड संसाधन केंद्र टेटिया बम्बर में एक आवश्यक बैठक संपन्न हुई। जिसकी अध्यक्षता प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी चंदकिशोर सिंह ने की। बैठक में प्रखंड अंतर्गत सभी विद्यालयों के प्रधानाध्यापक या प्रभारी प्रधानाध्यापक उपस्थित रहे। इस बैठक में जीओबी मदर अंतर्गत वित्तीय वर्ष 17 -18 एवं 18 ।19 में प्राप्त राशि की उपयोगिता के विषय में चर्चा की गई। इसके अलावा डीबीटी के दुर्गति से क्रियान्वयन हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया। वैसे विद्यालयों की जांच की बात ही की गई, जिनकी 75% उपस्थिति की संख्या कुल उपस्थिति के सापेक्ष 70% से अधिक पूर्ण हुआ है। बैठक में डीडीओ भुवनेश्वर मुर्मू, बीआरपी अमरकांत पटेल, संकुल समन्वयक दिलीप कुमार, रजनीश बिहारी, सुनील कुमार सिंह, शिवशंकर प्रसाद, प्रधानाध्यापक समित मानकर, कुमार देवानंद, संतलाल मांझी सहित अन्य उपस्थित थे।

मोहन भगत बने जदयू प्रदेश महासचिव

भास्कर न्यूज | पिपरिया

बिहार प्रदेश जदयू अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष संतोष कुमार महतो ने पिपरिया पंचायत के पूर्व मुखिया व पार्टी के वरिष्ठ नेता मोहन भगत को प्रदेश महासचिव के पद पर मनोनित किया है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी के हित एवं संगठन को मजबूत करने तथा जनहित के हर समस्याओं को हर संभव निदान किए जाने का निर्देश दिया गया है। उनके मनोनयन पर जिला जदयू अध्यक्ष रामानंद मंडल, जिला परिषद अध्यक्ष रामशंकर शर्मा, उर्फ नुनू बाबू, पार्टी के वरिष्ठ नेता अशोक सिंह, प्रखंड युवा अध्यक्ष गीता कुमार भारती, जिला महासचिव मुखिया राय, प्रखंड जदयू अध्यक्ष कारेलाल राय आदि नेताओं ने हार्दिक बधाई दी है।

शिक्षा सूचना प्रणाली प्लस फार्म भरने की दी जानकारी

भास्कर न्यूज़ | रामगढ़ चौक

प्रखंड अंतर्गत बीआरसी भवन में समग्र शिक्षा अभियान के केआरपी अतीकुर रहमान के द्वारा प्रखंड के प्राथमिक, उत्क्रमित मध्य एवं उच्च विद्यालय के सभी प्रधानाध्यापकों को एकीकृत जिला शिक्षा सूचना प्रणाली प्लस फार्म भरने की पूर्ण जानकारी दी। जिसमें रामगढ़ चौक प्रखंड के दस उच्च विद्यालय के प्रधानाध्यापक एवं 69 प्राथमिक व मध्य विद्यालय के प्रधानाध्यापक उपस्थित थे। बैठक में केआरपी अतीकुर रहमान के द्वारा फाॅर्म से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी हॉल में उपस्थित सभी प्रधानाध्यापक को दिया। उन्होंने बताया कि सभी प्रधानाध्यापक को 2 दिनों के अंदर अपने विद्यालय से संबंधित सभी प्रकार के डाटा को इस फॉर्म में समाहित कर कार्यालय में जमा करना अति आवश्यक है। ईसी डाटा के आधार पर सरकार के द्वारा विद्यालय का बजट तैयार किया जाता है इसलिए इस फॉर्म को गुणवत्तापूर्ण भरना अति आवश्यक होता है। मौके पर उपस्थित प्रधानाध्यापक सुभाष महतो, राजन रंजन, सीआरसीसी प्रवीण कुमार, मोहम्मद मनीष कुमार, शहीदुल रहमान, बीआरपी वीरेंद्र कुमार आदि दर्जनों लोग उपस्थित थे।

ग्लोबल सीमांचल एक्सलेंस अवार्ड से सम्मानित हुए शाह

भास्कर न्यूज| सूर्यगढ़ा

8 फरवरी को पूर्णिया का 250वां साल पूरा होने के अवसर पर ग्लोबल सीमांचल एक्सलेन्स अवार्ड 2020 का आयोजन किया गया। जिसमें सूर्यगढ़ा के शाह फहद यासिन को अन्तर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न प्रकार के खेल में बेहतर प्रदर्शन करने को लेकर ग्लोबल सीमांचल एक्सलेन्स अवार्ड से सम्मानित किया गया।

यह अवार्ड भारत के विभिन्न राज्यों से आए 100 लोगों को विभिन्न क्षेत्रों में बेहतर कार्य करने के लिए दिया गया। मुख्य अतिथि पूर्णिया के विधायक सहित अन्य लोगों के द्वारा यासिन को सम्मानित किया गया।

उल्लेखनीय हो कि यासिन को इससे पहले भी कई अवार्डों से सम्मानित किया जा चुका है। 12 जनवरी को पटना के श्री कृष्णा साइंस सेंटर में आयोजित विवेकानंद लीडरशिप अवार्ड 2020 से आइपीएस अधिकारी विकास वैभव ने उन्हें सम्मानित किया था। जबकि 14 सितंबर 2019 को अंडमान निकोबार में आयोजित अंतरराष्ट्रीय शिखर सम्मान पुरस्कार समारोह 2019 में भी शाह फहद यासिन को इंटरनेशनल प्लेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया। 25 अगस्त को पटना के चैम्बर आॅफ काॅमर्स में इन्द्रप्रस्था एजुकेशनल रिसर्च एण्ड चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा उन्हें इंडिया राइजिंग स्टार अवार्ड-2019 से सम्मानित किया गया था।

शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति 17 से रहेंगे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

भास्कर न्यूज| लखीसराय

शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति ने एकजुटता प्रदर्शित करते हुए 17 फरवरी से अनिश्चित हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया। मंगलवार को शिक्षक संघर्ष समिति की बैठक महिला विद्या मंदिर मिडिल स्कूल प्रांगण में हुई। अनिश्चितकालीन हड़ताल को सफल बनाने पर चर्चा की गई। वरूण कुमार को समन्वय समिति का संयोजक बनाया गया। बैठक में हड़ताल में नहीं शामिल होने एवं असमंजस में रहने वाले शिक्षकों के आने वाली समस्याओं के पर भी चर्चा हुई।

सभी जिला डीइओ से हड़ताल पर जाने वाले शिक्षकों की सूची मांगने पर आपत्ति जताई। शिक्षकों ने कहा कि यह लोकतंत्र के खिलाफ है। समन्वय समिति ने कहा कि सरकार के किसी भी निर्देश का अनुपालन नहीं करेंगे। कुछ शिक्षक संगठनों द्वारा हड़ताल के लिए टाल मटोल की नीति अपनाई जा रही है। उनके बहकावे में नहीं आने की शिक्षकों से अपील की गई है। कहा हम सभी नियोजित शिक्षक मिलकर एकजुट होकर हड़ताल को सफल बनाएंगे। बैठक में बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष बबलू कुमार, नवनियुक्त माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष डा. संजय कुमार, शिक्षक संघ के राज्य प्रतिनिधि मो. सिराज कादरी, सुजीत कुमार, वरूण कुमार, शिक्षक संघ के महासचिव ओमप्रकाश रजक, रविन्द्र कुमार, विजय कुमार, शंभु सिंह सहित शिक्षक संघों के नेता बैठक में मौजूद थे।

मैट्रिक परीक्षा वीक्षण कार्य में अन्य विभाग के होंगे कर्मी

भास्कर न्यूज़ | चानन

बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर जिले के सभी नियोजित शिक्षक संघों ने आगामी 17 फरवरी से अपनी कई मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है। इसको लेकर जिला शिक्षा पदाधिकारी सुनैना कुमारी ने पत्र जारी कर मैट्रिक परीक्षा संचालन में बाधा पहुंचाते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने वाले सभी नियोजित शिक्षकों की सूची संबंधित विद्यालयों के प्रधानाध्यापक से उपलब्ध कराने को कहा है।

जबकि दूसरी तरफ निर्धारित समय पर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जानेवाले नियोजित शिक्षकों की सूची उपलब्ध अपेक्षाकृत उपलब्ध नहीं होने की स्थिति को भांपते हुए विभाग ने आगामी मैट्रिक परीक्षा में वीक्षण कार्य के लिए अन्य विभागों में कार्यरत कर्मियों पंचायत रोजगार सेवक ,एएनएम ,ब्लॉक में कार्यरत कार्यपालक सहायक ,कृषि समन्यवक तथा किसान सलाहकार की सेवा लेने का फैसला किया है। जिसको लेकर जिलाधिकारी ने संबंधित सभी विभागों को पत्र लिखकर कर्मियों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। विदित हो की आगामी 17 फरवरी से ही वार्षिक माध्यमिक परीक्षा 2020 का आयोजन जिले के कुल 18 परीक्षा केंद्रों पर शुरू हो रहा है जिसमे 9 परीक्षा केंद्र बालिकाओं का है।

वासुकीनाथ सिंह किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव हुए मनोनित

बड़हिया| बिहार प्रदेश जदयू किसान प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मनोज कुमार ने बड़हिया वार्ड नंबर छह निवासी वासुकी नाथ सिंह को किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव मनोनीत किया गया। वासुकी नाथ सिंह को किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव मनोनीत किए जाने पर जिला अध्यक्ष रामनंदन मंडल,जिला पार्षद रामशंकर सिंह उर्फ नूनू बाबू , नगर परिषद अध्यक्ष अरविंद पासवान ,गंगासराय पंचायत के पूर्व मुखिया
राजेश सिंह, विजय राम, वसंती देवी, हरेश सिंह सहित कई लोगों ने बधाई दी है।

फेयरवेल पार्टी में क्विज प्रतियोगिता का आयोजन

भास्कर न्यूज| सूर्यगढ़ा

प्रखंड के राजा बाजार स्थित न्यू डीपीएस पब्लिक स्कूल के प्रांगण में स्कूल के सचिव अभिषेक आंनद की देखरेख में मंगलवार को अष्टम और नवम के छात्र-छात्राओं ने एकेडमी सत्र के अंतिम दिन दशम वर्ग के 12 छात्र-छात्रओं राजा, प्रिंस, सुधाशु, गौरव, निलेश, साक्षी रंजन, अमिषा, निकिता, नेहा, ओशी, रीचा एवं वर्षा के लिए फेयरवेल पार्टी सह मिलन समारोह का आयोजन किया गया।

आयोजित समारोह का मंच संचालन नवम वर्ग की छात्रा मुस्कान और अंतरा सिंह ने किया। आयोजित कार्यक्रम की शुरूआत स्कूल के संचालक अभिषेक आनंद,प्रिसिंपल लालतेन्दु मोहंती, शिक्षक दयानंद मिश्रा, मो. साकिब, रवि कुमार, अमरेन्द्र वर्मा, भारत भूषण, चन्द्रशेखर सिंह,अनुपम,श्रावणी मोहंती सहित छात्र-छात्राओं ने केक काटकर किया। इस दौरान अष्टम और नवम वर्ग के छात्र-छात्राओं ने दशम के छात्र-छात्राओं को गिफ्ट देकर समारोह पूर्वक विदाई दी एवं आगे बढ़ने की शुभकामना दी। फेयरवेल पार्टी के दौरान दशम के छात्र-छात्राओं के बीच विद्यालय में बिताए गए पल पर आधारित क्विज प्रतियोगिता के आयोजन के साथ-साथ अष्टम और नवम के बच्चों ने गीत-संगीत और ड्रामा कर फेरवेल पार्टी में जलवा विखेरा। नवम की छात्रा निकिता ने विदाई समारोह के अवसर पर दोस्तों से विदा होने के संबंध में काफी रोचक स्पीच दिया। नवम वर्ग के कृष्णा के डाॅस परफोर्मेंस की काफी सराहना की गयी। अष्टम वर्ग की पल्लवी,अतंरा सिंह, मुस्कान, निकिता, संध्या,नीरज,सुमित रंजन, कृष्णा, रागिनी, आयुषा, पियूष और राहुल के द्वारा सामूहिक हास्य ड्रामा का आयोजन किया गया जिसमें लोग हंस-हंस कर लोट पोट हो गये।

प्रशिक्षण की समाप्ति पर मिस्त्रियों को मिला प्रमाण पत्र

भास्कर न्यूज़ | रामगढ़ चौक

अंचल कार्यालय के द्वारा ई कृषि भवन में सात दिवसीय गैर आवासीय राजमिस्त्री का चल रहा प्रशिक्षण मंगलवार को समाप्त हुआ। इस अवसर पर सभी को प्रमाण पत्र दिया गया। प्रशिक्षण ले रहे कुल 26 राज मिस्त्रियों को प्रशिक्षित करने के बाद प्रशिक्षक गोविंद गौरव, दिलीप कुमार एवं अंचल कार्यालय के प्रधान लिपिक अरुण कुमार, अंचल निरीक्षक बासुकीनाथ, कार्यपालक सहायक त्रिभुवन कुमार के द्वारा प्रमाण पत्र दिया गया। वहीं प्रति राज मिस्त्रियों को 4 हजार 900 रुपए नगद राशि दी गई। प्रशिक्षक गोविंद गौरव एवं दिलीप कुमार ने संयुक्त रूप से बताया कि भूकंप रोधी मकान बनाने में कभी भी 5 इंच का दीवार का निर्माण नहीं करना चाहिए। जब भी हम लोग दीवाल का निर्माण करें तो 10 इंच का ही करें ताकि उस पर भूकंप का असर कम हो।

नियोजित शिक्षक नहीं जाएंगे हड़ताल पर

बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर निर्धारित आगामी 17 फरवरी से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के निर्णय लिया है। जबकि शिक्षक संगठनों के द्वारा नियोजित शिक्षकों को भी विद्यालय से पठन-पाठन से अलग होकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के निर्देश को नियोजित शिक्षक नहीं मान रहे हैं। और विभाग द्वारा कार्रवाई के भय से अधिकांश नियोजित शिक्षकों ने हड़ताल पर जाने का फैसला वापस लेते हुए विद्यालय में बने रहकर कार्य करने का फैसला किया है।

बच्चों की संख्या कम होने की बड़ी वजह

अभिभावक सुधीर मोदी कहते है की शिक्षा के लिए सबसे अहम चीज है शिक्षकों की उपलब्धता। शिक्षकों की कमी इस कदर देखने को मिल रही है कि अधिकांश विद्यालयों में एक दो-शिक्षकों पर कई कक्षाओं के डेढ़ से दौ सौ बच्चों को पढ़ाने का भार है। ऐसी स्थिति में तो नहीं लगता कि शिक्षा व्यवस्था पटरी पर आ पाएगी। व्यवस्था को सुधारने के लिए विषयवार शिक्षकों की तैनाती करनी होगी।

स्कॉलरशिप/फेलोशिप

सवाल और सुझाव के लिए ई-मेल कीिजए
[email protected]


17 फरवरी से होने वाली हड़ताल पर चर्चा करते शिक्षक संघ के नेता

प्रशिक्षण प्रमाण पत्र के साथ राजमिस्त्री।

ग्लोबल सीमांचल एक्सलेंस अवार्ड ग्रहण करते शाह फहद यासिन।

फेयरवेल कार्यक्रम के दौरान समूह में छात्र-छात्रा व शिक्षक।

स्कूल में पढ़ते बच्चे।

शिक्षक के हड़ताल को देखते हुए लिया गया फैसला

कार्यक्रम }क्विज में बिताए गए पलों पर आधारित प्रश्नों को पूछ की गई यादें ताजा, नम हुई सभी की आंखें

Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
X
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail
Chanan News - 50 of enrolled students are not even reaching schools government efforts fail

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना