13वें दिन भी हड़ताल पर डटे हुए हैं नगर परिषद के दैनिक सफाईकर्मी

Lakhisarai News - जहां दो शिफ्ट में सड़कों पर लगता था झाड़ू, अब एक बार भी मुश्किल नगर परिषद के 20 स्थाई सफाईकर्मियों के सहारे शहर की...

Feb 15, 2020, 08:26 AM IST
Lakhisarai News - daily sweepers of city council are still on strike on 13th day
जहां दो शिफ्ट में सड़कों पर लगता था झाड़ू, अब एक बार भी मुश्किल

नगर परिषद के 20 स्थाई सफाईकर्मियों के सहारे शहर की सफाई व्यवस्था टिकी है। नगर परिषद के दैनिक एवं एनजीओ के तहत काम करने वाले सफाईकर्मी 2 फरवरी से हड़ताल पर डटे हैं। हड़ताल के पूर्व तक शहर की सफाई के लिए 200 से ज्यादा कर्मी काम करते थे। हड़ताल में 200 सफाईकर्मियों के बदले मात्र 20 कर्मी ही काम कर रहे हैं। दैनिक सफाई कर्मियों को काम से हटाने के बाद एनजीओ से जुड़े सफाईकर्मी भी हड़ताल का समर्थन कर हैं। या फिर काम से हटाए गए सफाईकर्मियों द्वारा अन्य कर्मियों को काम करने से रोका जा जा रहा रहा है।

बाधा पहंुचाई जा रही है। शहर के मुख्य व व्यवसायिक क्षेत्रों में जहां दो शिफ्ट में सफाई होती थी, हड़ताल के बाद सड़ाकों पर एक बार भी झाड़ू लगाना मुश्किल हो गया है। डोर टू डोर कचड़ा कलेक्शन प्रभावित हो रहा है। नगर परिषद ने हाल ही ई रिक्शा कंटेनर के माध्यम से कचड़ा कलेक्शन शुरू किया था। कर्मी हड़ताल पर अडिंग है। फिलहाल हड़ताल खत्म होने के आसार नहीं दिख रहा है।

वार्ता विफल, नहीं मान रहे सफाईकर्मी

नगर एवं जिला प्रशासन द्वारा हड़ताली कर्मियों से कई बार वार्ता का प्रयास किया गया। हड़ताली सफाईकर्मी नहीं माने। नगर परिषद सभापति अरविंद पासवान ने कहा कि लोकायुक्त के फैसले के बाद दैनिक सफाईकर्मियों को हटाया गया है। उन्होंने कहा कि कर्मियों से कई बार वार्ता का प्रस्ताव भेजा गया। बावजूद इसके सफाईकर्मी हड़ताल पर डटे हैं। नगर प्रशासन सफाईकर्मियों के भावना के साथ है। लोकायुक्त का फैसला सिर्फ लखीसराय ही नहीं बल्कि पूरे राज्य के लिए है।

स्थाई सेवा की मांग कर रहे सफाईकर्मी

सफाईकर्मी स्थाई सेवा की मांग पर हड़ताल पर 13 दिनेां से डटे हैं। सफाईकर्मियों की मांग आऊट सोर्सिंग को बंद करने एवं दैनिक व एनजीओ के तहत काम करने वाले कर्मियों की सेवा स्थाई करने की हैं। सफाईकर्मियों ने साफ कर दिया है कि सेवा स्थाई करने की घोषणा तक हड़ताल पर रहेंगे। हड़ताल की अगुवाई कर रहा बिहार राज्य स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ ने कहा कि दैनिक एवं एनजीओ के तहत काम करने वाले कर्मियों का लगातार आर्थि शोषण हो रहा है। नगर प्रशासन एवं एनजीओ संचालक मनमानी कर रहे हैं।

मुख्य सड़कों के साथ गलियों का भी हाल बुरा

हड़ताल से शहर की सफाई 2 फरवरी से ही प्रभावित है। हालांकि शहर की सफाई के लिए लिए नगर परिषद के स्थाई कर्मियों को लगाया गया है,लेकिन एक लाख से ज्यादा की बाादी वाले शहर की सफाई संभव नहीं हो रहा। कर्मियों की कमी से एक दिन बाद दूसरे दिन मुख्य सड़काें पर झाड़ू लगाए जा रहे है। मुख्य रोड़ को छोड़ अन्य मोहल्लों मंे हड़ताल के बाद से झाड़ू तक नहीं लगे है। गली मोहल्लों में कचड़े सड़कों पर फैल रहे है। सफाई नहीं होने से नालियां बज बजाने लगी हैं।

नियमित रूप से सफाई नहीं होने से शहर में लगा कचरे का अंबार।

X
Lakhisarai News - daily sweepers of city council are still on strike on 13th day
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना