जहां-तहां फेंक रहे बायाेमेडिकल वेस्ट गंभीर बीमारी फैलने की रहती है अाशंका

Lakhisarai News - राज्य स्वास्थ्य समिति बिहार के तत्वावधान में छोटे बड़े निजी क्लिनिक, नर्सिंग होम, एक्सरे सेंटर, पैथोलॉजी सहित...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 09:20 AM IST
Surajgarha News - whereas left throwing biomedical waste is going to spread serious illness
राज्य स्वास्थ्य समिति बिहार के तत्वावधान में छोटे बड़े निजी क्लिनिक, नर्सिंग होम, एक्सरे सेंटर, पैथोलॉजी सहित अन्य स्वास्थ्य सेंटरों में प्रतिदिन उपयोग की गयी सूई, दवा के डब्बे, मरहम पट्टी सहित अन्य बायोमेडिकल वेस्ट कचरे का क्लीनिक के संचालक कैसे निष्पादन करते हैं इसकी सर्वे कराकर जांच की गठित करने का निर्देश दिया गया था। लेकिन दो माह के बाद भी कार्रवाई नहीं की गर्इ। इस मामले को गंभीरता से नहीं लेने के कारण सूर्यगढ़ा बाजार सहित पीएचसी के प्रवेश द्वारा के दोनों साइड स्थानीय मेडिकल स्टोर के दुकानदारों के द्वारा कचरे में मेडिकल वेस्ट का कचरा फेंका जाता है। जिससे संक्रमण सहित कई गंभीर बीमारियों फैलने की आशंका बनी रहती है।

प्रखंड क्षेत्र अन्तर्गत विभिन्न बाजार सूर्यगढा, मेदनीचौकी, कजरा, पीरीबाजार, माणिकपुर, अलीनगर आदि बाजारों के अलावे अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में अवस्थित छोटे बड़े निजी क्लिीनक, नर्सिंग होम, एक्सरे सेंटर, पैथोलॉजी सहित अन्य स्वास्थ्य सेंटरों में प्रतिदिन उपयोग की गयी सूई, दवा के डब्बे, मरहम पट्टी सहित अन्य बायोमेडिकल वेस्ट कचरा निकलता है। जिसका उठाव नहीं होने से कचरे के ढेर, नदी के किनारे या फिर नाली में जहां तहां फेंक या जला दिया जाता है। प्रखंड में करीब 80-100 की संख्या में निजी क्लिनिक, नर्सिंग होम, एक्सरे सेंटर,पेथोलाॅजी आदि है जिसमें प्रतिदिन करीब एक क्विंटल बायोमेडिकल वेस्ट जमा होता है एवं निजी क्लीनिक संचालक के द्वारा बायोमेडिकल वेस्ट को जहां तहां फेंक दिया जाता है या फिर जला दिया जाता है।

जिससे वातावरण के साथ आस पास के लोगो को गंभीर बीमारी फैलने का खतरा बना हुआ है। पीएचसी चिकित्सक डाॅ. योगेन्द्र कुमार दिवाकर ने बताया कि बायोवेस्ट को खुले में फेंकना या जलाना गंभीर अपराध है। इनके निष्पादन की व्यवस्था करना अनिवार्य है। बायोवेस्ट से निकलने वाली कीटाणु, विषाणुओं से जलवायु सहित आम लोगों के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। नर्सिंग होम, निजी क्लीनिक एवं पैथोलाॅजी की यह लापरवाही प्रखंड वासियों के लिए कभी भी अभिशाप बन सकता है।

2 माह पूर्व राज्य स्वास्थ्य समिति ने जारी किया था निर्देश, पहल भी नहीं हुई, सूर्यगढ़ा प्रखंड क्षेत्र में अस्पतालाें से एक क्विंटल प्रतिदिन निकलता है बायाेमेडिकल वेस्ट

खुले में मेडिकल कचरा फेेंका हुआ।

अवहेलना कर रहे पीएचसी प्रभारी

पीएचसी प्रभारी धीरेन्द्र कुमार के द्वारा उक्त पंचायत के एएनएम पर कार्रवाई नहीं करना उनके कार्य में उदासीनता बता रहा है। विभाग के द्वारा दी गयी जिम्मेदारियों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। 2 माह में 10 से अधिक बार एएनएम की बैठक हुर्इ लेकिन पीएचसी प्रभारी ने उनसे रिपाेर्ट नहीं मांगी। सीएस का भी मामले काे गंभीरता से नहीं लेेना सवाल खड़े कर रहा है।

रिपाेर्ट आने पर कमेटी का गठन


खुले में मेडिकल कचरा फेंका हुआ।

एएनएम से मांगी गयी निजी क्लीनिक और अन्य सेंटरों की रिपाेर्ट

प्रखंड स्थित विभिन्न क्षेत्रों में स्थित छोटे बड़े निजी क्लिनिक, नर्सिंग होम, एक्सरे सेंटर,पेथोलाॅजी सहित अन्य स्वास्थ्य सेंटरों की सूची उपलब्ध कराने के लिए एएनएम के द्वारा अपने-अपने क्षेत्राधिकार में अवस्थित निजी क्लीनिक व अन्य सेंटरों का सर्वे कर जानकारी मांगी गयी थी। जिसमें 28 पंचायत में कुल 21 पंचायत के एएनएम ने सर्वे रिपाेर्ट जमा किया जबकि 9 पंचायत उरैन, जगदीशपुर, सूर्यगढ़ा बाजार, सूर्यपुरा, अभयपुर, सलेमपुर, राजपुर, किरणपुर, मानो के एएनएम ने दो माह बीतने के बाद भी अभी तक रिपाेर्ट नहीं दिया है जिससे आगे की कार्रवाई नहीं किया गया।

Surajgarha News - whereas left throwing biomedical waste is going to spread serious illness
X
Surajgarha News - whereas left throwing biomedical waste is going to spread serious illness
Surajgarha News - whereas left throwing biomedical waste is going to spread serious illness
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना