पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Singheswar News Cm Did Incredible Work By Opening Medical College 14 More To Be Opened In Five Years Mangal Pandey

मेडिकल कॉलेज खुलवाकर सीएम ने किया अविश्वसनीय काम, पांच साल में 14 और खोले जाएंगे : मंगल पांडे

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोसी अंचल के मधेपुरा में जननायक कर्पूरी ठाकुर के नाम पर मेडिकल कॉलेज अस्पताल की स्थापना कराकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अविश्वसनीय काम किया है। इस मेडिकल कॉलेज से कोसी और सीमांचल के पौने दो करोड़ लोगों को लाभ मिलेगा। यह मेडिकल कॉलेज विश्व स्तरीय सुविधाओं से लैस है। भगवान न करे कोई कभी बीमार हो, पर अगर इलाज की जरूरत पड़े तो अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस अस्पताल मधेपुरा में ही तैयार खड़ा है। उक्त बातें स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने कही। वे शनिवार को मधेपुरा के जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 6 जून 2013 को इस मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया था।

इसका काम पूरा कराने के लिए वे बार-बार मुझसे और अधिकारियों से पूछताछ करते रहते थे। इसे जल्दी बनवाने के लिए सोचते रहते थे। आज जब इसका उद्घाटन किया गया, तो इस समारोह में शामिल होने का मुझे भी गौरव प्राप्त हुआ है। यहां उच्च गुणवत्ता का ऑपरेशन थियेटर, एक्सरे, अल्ट्रासाउंड शुरू, आईसीयू आदि सुविधाएं बहाल की गई हैं। कुछ दिनों में अन्य कई सुविधाएं बहाल कर दी जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री श्री पांडे ने कहा कि सीएम जो सपना देखते और लोगों को दिखाते हैं, उसे साकार कर रहे हैं। वर्ष 2005 और वर्ष 2020 की स्वास्थ्य सुविधाओं की तुलना किजिए, फर्क खुद नजर आ जाएगा। एनडीए की पहली बार बिहार में बनी सरकार में फर्स्ट फेज में स्वास्थ्य सेक्टर में आधारभूत संरचनाओं का विकास करना था। वह काम मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी और उनका मंत्रालय मिलकर कर रहा है। अब सेकेंड फेज में अच्छे अस्पताल, लैब आदि पर काम हो रहा है। पूर्णिया, समस्तीपुर और छापरा में तीन मेडिकल काॅलेज बन रहे हैं। 6 अन्य स्थानों पर इसकी स्थापना के लिए टेंडर निकाला गया है। पटना का पीएमसीएच को दुनिया का सबसे बड़ा अस्पताल बनाने पर काम किया जा रहा है।

शिलापट्‌ट में नाम नहीं होने पर बिदके मधेपुरा विधायक

मेडिकल कॉलेज के उद्घाटन के दौरान जदयू के एक विधायक जी बिदक गए। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो शिलापट्‌ट पर मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, मंत्रियों, सांसद, विधायक, एमएलसी व राजद के विधायक प्रो. चंद्रशेखर तक का नाम था। लेकिन जब वे विधायक जी ने शिलापट्‌ट पर अपना नाम नहीं देखा ताे वहीं पर मुख्यमंत्री को इशारा करते हुए इसकी जानकारी दी। तो सीएम ने उनसे कहा कि यह ठीक हो जाएगा। दूसरी घटना सभा मंच पर भी घटी। यहां भी एक विधायक और एक एमएलसी को सम्मानित करना अधिकारी भूल गए। जबकि एक बड़े पदाधिकारी को सम्मानित किया जा रहा था। इसका एहसास होते ही स्वास्थ्य मंत्री ने इशारा किया तो पदाधिकारी को छोड़कर बिदके हुए विधायक जी को सम्मानित किया गया। बावजूद एक एमएलसी सम्मानित होने से वंचित रह गए।

चप्पे-चप्पे पर तैनात रही पुलिस

मुख्यमंत्री के आगमन से उनके जाने तक सिंहेश्वर से मधेपुरा तक चप्पे-चप्पे में पुलिस बल तैनात थे। मेडिकल काॅलेज में सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था देखी गई। बिना पास के किसी को भी मेडिकल कालेज के परिसर में नहीं आने दिया जा रहा था। वहीं मंच की तरफ गुजरने वाले हर व्यक्ति को मेटल डिटेक्टर होकर ही गुजरना पड़ता था। हेलीपैड के पास भी सुरक्षा के व्यापक प्रबंध थे। जहां गिने चुने नेता विधायक, जिलाध्यक्ष ही जा सके और गुलदस्ता भेंट। उद्घाटन समारोह के लिए बने पंडाल में 5 हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था थी। जिसके लिए विधिवत पास की सुदृढ़ व्यवस्था की गई थी। सभा स्थल तो तय समय से पहले ही पूरी तरह भर गया था। लेकिन बाहर जो लोग मुख्यमंत्री को सुनने आए थे, पास नहीं रहने के कारण लगभग 10 हजार से ज्यादा लोग आयोजक को भला बुरा कहते मायूस होकर वापस चले गए। शनिवार को जन औषधि दिवस भी था। इस खास दिवस कोसी और सीमांचल के लोगों के लिए भी खास बन गया। मौके पर एमएलसी ललन सर्राफ, विधायक निरंजन मेहता, विधायक अनिरुद्ध यादव, पूर्व विधायक मणींद्र मंडल, अरुण यादव, निखिल मंडल,जदयू जिलाध्यक्ष प्रो. विजेंद्र नारायण यादव, भाजपा जिलाध्यक्ष स्वदेश यादव, लोजपा जिलाध्यक्ष दिनेश पासवान, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, आयुक्त के सेंथिल कुमार, डीआईजी सुरेश चौधरी, नवदीप शुक्ला, एसपी संजय कुमार व अन्य मौजूद थे।

{781.25 करोड़ की लागत से बना है 500 बेड का मेडिकल कॉलेज और अस्पताल

{एंटी बैक्टीरियल पेंट की गई दीवारों से बनी है 10 मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर

{मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरी की पढ़ाई शुरू कराने के लिए अप्रैल में निरीक्षण करने आएगी एमसीआई की टीम

{मेडिकल कॉलेज अस्पताल परिसर में अगस्त तक लग जाएगी जननायक कर्पूरी ठाकुर की आदमकद प्रतिमा

{अबतक 92 प्रोफेसरों और 120 नर्स की हो चुकी है बहाली

{10 दिनों में 76 जूनियर डॉक्टर और मिलेंगे

{सिटी स्कैन फैसिलिटी, सीएसएसडी, मेडिकल गैस पाइपलाइन, नर्स कॉल सिस्टम, किचन, लॉन्ड्री और कैफेटेरिया की सुविधा

मधेपुरा वासियों के लिए गौरव का दिन

मधेपुरा के सांसद दिनेशचंद्र यादव ने कहा कि आज इस इलाके के लिए गौरव का दिन है। इस क्षण की कल्पना वर्ष 2005 से पहले नहीं की जा सकती थी। सीएम नीतीश कुमार ने पहली बार मधेपुरा में मेडिकल कॉलेज स्थापित करने की घोषणा की, तो वह सिर्फ घोषणा भर नहीं था। उन्हें इसके बनने की चिंता रहती थी कि यह जल्दी से बने। सांसद ने कहा कि कोसी के इलाके के लिए मुख्यमंत्री ने काफी कुछ किया है। पहले की सरकार में 10 लाख की मामूली रुपए की सड़क बनाने का फंड नहीं मिलता था। अबकी सरकार में गांव-गांव, गली-गली में सड़क बन रही है। सीएम के प्रति उद्गार व्यक्त करते हुए सांसद श्री यादव ने कहा कि आपको इस इलाके के लोग बहुत चाहते हैं। यही कारण है कि लोकसभा चुनाव में उन्हें 6 लाख से अधिक वोट मिले। 3 लाख से अधिक वोटों से जीत हुई। आपका काफिला बढ़ेगा, यह कामना है। सुपौल के सांसद दिलेश्वर कामत ने कहा कि मधेपुरा जिले के सबैला में बना मेडिकल कॉलेज उनके ही संसदीय क्षेत्र में है। इसका गौरव मुझे प्राप्त हुआ है। अस्पताल में इलाज और बगल में बाबा सिंहेश्वर का आशीर्वाद मरीजों को मिलेगा।

विधि मंत्री नरेंद्र नारायण यादव ने कहा कि आज गौरव का दिन है। पहले लोगों को इलाज के लिए पटना जाना पड़ता था। मेरे आवास पर अभी भी कई मरीज रहकर इलाज करा रहे हैं। अब कोसी और सीमांचल के लोगों का मधेपुरा में ही बेहतरीन इलाज संभव होगा। एससी-एसटी कल्याण मंत्री डॉ. रमेश ऋषिदेव ने कहा कि कोसी क्षेत्र का विकास देश की आजादी के बाद से अबतक के सभी मुख्यमंत्री के समेकित कार्यकाल की तुलना के रूप में देखा जाए तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समय में एक साल में किए गए काम के बराबर भी नहीं होगा। वे कोसी क्षेत्र पर हमेशा इसी तरह नजर रखें।

अत्याधुनिक अस्पताल की हुई है शुरुआत : प्रधान सचिव


मधेपुरा में दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।

सीएम और स्वस्थ्य मंत्री को धन्यवाद : नरेंद्र यादव


सीएम के आने का इंतजार करते सांसद दिलेश्वर कामत।

मधेपुरा में मुख्यमंत्री

ऑपरेशन करते समय बिजली न जाए, इसके लिए बनवा रहे ग्रिड

जिले के प्रभारी मंत्री सह ऊर्जा मंत्री विजेंद्र नारायण यादव ने कहा कि आज कोसी क्षेत्र का इतिहास स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया। दो समाजवादी नेताओं का आज सच्ची श्रद्धांजलि दी गई। बीपी मंडल के नाम से बने विश्वविद्यालय द्वारा दी गई 25 एकड़ जमीन में जननायक कर्पूरी ठाकुर के नाम पर मेडिकल कॉलेज खोला गया। इसके लिए मुख्यमंत्री को कोसीवासियों की ओर धन्यवाद है। उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज अस्पातल में ऑपरेशन करते समय अचानक से बिजली न गुल हो जाए, इसके लिए 2.25 करोड़ की लागत से ग्रिड का निर्माण कराया जाएगा। जिसे सिंहेश्वर ग्रिड से जोड़ा जाएगा। उन्होंने अपने संक्षिप्त संबोधन में मुख्यमंत्री से मांग की कि मेडिकल कॉलेज में कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा लगाई जाए।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने विषय प्रवेश कराया। उन्होंने कहा कि मधेपुरा में अत्याधुनिक मेडिकल कॉलेज और अस्पताल की शुरुआत है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 6 जून 2012 को इसका शिलान्यास किया था। अप्रैल में एमसीआई की टीम निरीक्षण के लिए आएगी। जल्द ही मान्यता मिल जाएगी। इसके बाद यहां एमबीबीएस में 100 सीटों पर नामांकन होगा। यह कॉलेज और अस्पताल 60 फीसदी वातानुकूलित है। बिल्डिंग मैनेजमेंट सिस्टम के तहत भवनों का निर्माण कराने काे लेकर इसे गृहा से रेटिंग 3 मिला है। यहां के लिए अबतक 92 प्रोफेसरों की नियुक्ति हो गई है।

सीएम को पौधा सौंपते स्वास्थ्य मंत्री।

मेडिकल कॉलेज में व्यवस्था की जानकारी लेते सीएम।

मंच से लोगों का अभिवादन करते मुख्यमंत्री।

सभा काे संबाेधित करते स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे।

उद्‌घाटन और शिलान्यास के शिलापट्‌ट।

कार्यक्रम में मौजूद लोग।

स्वास्थ्य मंत्री के साथ मेडिकल कॉलेज के भवन को देखते मुख्यमंत्री।

मेडिकल कॉलेज का उद्‌घाटन करने जाते मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री व अन्य।

शनिवार को मधेपुरा में मेडिकल कॉलेज के शिलापट पर लिखे नाम को पढ़ते सीएम नीतीश कुमार, मंगल पांडे व अन्य।
खबरें और भी हैं...