• Hindi News
  • Bihar
  • Madhubani
  • Madhubani News awareness among parents against porn sites is necessary this will stop sexual offenses dr ravi

पोर्न साइट्स के खिलाफ अभिभावकों में जागरूकता जरूरी, इससे यौन अपराधों पर लगेगी रोक : डॉ. रवि

Madhubani News - दैनिक भास्कर द्वारा पोर्न साइट्स पर प्रतिबंध को लेकर जिले में चलाए जा रहे अभियान के छठे दिन जिला मुख्यालय स्थित...

Feb 15, 2020, 08:31 AM IST
Madhubani News - awareness among parents against porn sites is necessary this will stop sexual offenses dr ravi

दैनिक भास्कर द्वारा पोर्न साइट्स पर प्रतिबंध को लेकर जिले में चलाए जा रहे अभियान के छठे दिन जिला मुख्यालय स्थित मिल्लत टीचर ट्रेनिंग कालेज में प्राेफेसर, स्टूडेंट्स व अन्य कर्मी के बीच परिचर्चा आयोजित की गई। इसमें पोर्न साइट्स पर प्रतिबंध लगाने व बच्चों व किशोरों को इसकी लत से दूर करने जैसे मुद्दों पर काफी सुझाव आए। बीएड काॅलेज के प्रिंसिपल डॉ. एनआर रवि ने भास्कर की इस पहल की सराहना करते हुए कहा कि इस तरह के अभियान से समाज में जागरूकता फैलेगी व यौन अपराध पर रोक लगेगी। सरकार को पोर्न साइट्स पर पूर्णत: प्रतिबंध लगा देना चाहिए। ताकि समाज में व्यभिचार व महिलाओं के साथ यौन हिंसा, दुष्कर्म पर रोक लग सके। अश्लील पोस्ट पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। डॉ. परमानन्द प्रभाकर ने कहा कि पोर्न देखना एक लत की तरह है। इसके शिकार मानसिक व शारीरिक रूप से अस्वस्थ हो जाते हैं। किशोर व युवाओं में इससे यह मानसिक विकृति का रूप ले लेता है। जिसके कारण यौन अपराध दिनोदिन बढ़ते जा रहे हैं।

आप इस तरह अभियान से जुड़ सकते हैं

बच्चों-युवाओं को विकृति से बचाने के लिए पोर्न साइट्स पर पाबंदी हर हाल में जरूरी है। अभियान को आप इस तरह अपना समर्थन दे सकते हैं...

इंटरनेट से गलत जानकारी का हिस्सा है पोर्न साइट, इसपर प्रतिबंध अत्यंत जरूरी

प्रो. रेणु कुमारी ने कहा कि इंटरनेट से जहां हमें अच्छी जानकारी मिलती है, वहीं, गलत भी। पोर्न साइट उसी गलत जानकारी का हिस्सा है। इस पर निश्चय ही प्रतिबंध लगना चाहिए। ताकि निर्भया दुष्कर्म जैसी घटनाओं की पुनरावृति नहीं हो सके। परिचर्चा में प्रो सुमन कुमार झा, डॉ.शहाबुद्दीन, डॉ अरविंद चौधरी, प्रो रामपुकार ठाकुर, प्रो. उदय चौधरी सहित दर्जनों शिक्षकों व छात्र-छात्राओ ने भाग लिया। सबो ने एक स्वर में पोर्न साइट्स पर प्रतिबन्ध के लिए कठोर कानून बनाने की बात कही।

दुष्कर्म रोकने के लिए सेक्स एजुकेशन को प्रारंभिक पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए

डॉ. सविता कुमारी ने कहा कि सेक्स एजुकेशन को बचपन से ही पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना चाहिए। बच्चों को माता-पिता के साथ सहज रह कर सभी ऐसी बाते शेयर करनी चाहिए। नैतिक शिक्षा को पाठ्यक्रम में सम्मिलित किया जाना चाहिए। सोशल मीडिया का निर्माण समाज के विकास और कल्याण के लिए हुआ पर इसके दुरुपयोग से समाज में विकृति आ रही है और महिलाएं व बच्चियों को इसकी शिकार हो रही है।

बच्चों को न दें स्मार्ट फोन

अभिभावक कम उम्र के बच्चों को स्मार्ट फाेन नहीं दें। अभिभावकों की यह नैतिक जिम्मेवारी बनती है कि वे अपने बच्चों की काउंसलिंग करें व उन्हें बताए कि क्या ठीक है व क्या गलत। पोर्न साइट्स का सबसे अधिक दुष्प्रभाव, किशोरों व युवाओं पर ही होता है। पोर्न साइट को देखकर वे मानसिक रूप से रोगी हो जाते हैं। कठोर नियमावली बनाया जाना चाहिए, जिससे इंटरनेट का दुरुपयोग करने वालों के विरुद्ध कठोर व दंडनीय कार्रवाई की जा सकें। बीएड कालेज के कई छात्र-छात्राओ ने कहा कि समाज में अशिक्षा के कारण सोशल मीडिया का दुरुपयोग हो रहा है। शिक्षा का उपयोगी माध्यम बनाया जा सकता है। समाज को जागरूक किए जाने की आवश्यकता है।

पोर्नसाईट पर प्रतिबंध विषय पर परिचर्च करते शिक्षक व छात्र।

आप हमारे फेसबुक पेज के माध्यम
से भी इस अभियान से जुड़ सकते हैं।

वेबसाइट और भास्कर App पर दिए गए लिंक पर क्लिक करके भी आप समर्थन दे सकते हैं।

मिस्ड कॉल कर अभियान से जुड़ सकते हैं।

91900 00074

X
Madhubani News - awareness among parents against porn sites is necessary this will stop sexual offenses dr ravi
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना