पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Jhanjhapur News Jahurpur Mohalla Is Worse Than Rural Area By Staying In Urban Area Deprived Of All Basic Amenities

शहरी क्षेत्र में रहकर ग्रामीण क्षेत्र से भी बदतर है जहुरपुर मोहल्ला, सभी मूलभूत सुविधाओं से वंचित

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

झंझारपुर नगर पंचायत मुख्यालय से मात्र दो किलोमीटर की दूरी पर कमला नदी के पूर्वी तटबंध के नीचे वार्ड-11 का जहुरपुर मोहल्ला अस्थित है। शहरी क्षेत्र के हर मूलभूत सुविधाओं से जहुरपुर मोहल्ला वंचित है। आज भी यहां सड़क, बिजली, शिक्षा, चिकित्सा सहित बुनियादी सुविधाओं से लोग महरूम है। यहां पेयजल, सड़क व शिक्षा की समस्या प्रमुख है। चुनाव के समय पार्टी के लोगों को वोट की जरूर याद आती है। उन्हें तो बस याद है सिर्फ अपनी पार्टी के नारे और झंडे। चुनावी बिगुल बजते ही हर पार्टी के नेता मोहल्ले में आकर तरह-तरह के प्रलोभन तथा विकास की गंगा बहाने की बात करते हैं। लेकिन चुनाव बीत जाने के बाद वही नेता फिर दुबारा उस मोहल्ले में कभी कदम रखना मुनासिब नहीं समझते हैं।

सरकारी स्तर पर नहीं है कोई सुविधा | सरकारी स्तर पर कोई व्यवस्था नहीं रहने से मोहल्ले का समुचित विकास नहीं हो पाया है। लोगों में प्रशासन व जन प्रतिनिधियों के प्रति आक्रोश है। लोगों का कहना है कि अपने स्तर पर पीने के पानी के लिए गांव में चापाकल लगाया गया है। मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना का यहां नामोनिशान नहीं है।

क्या कहते हैं मुख्य पार्षद| विरेन्द्र नारायण भंडारी ने कहा कि नया मोहल्ला बसा है। बिजली की खंभा लगायी है। नगर पंचायत प्रशासन की नजर जहुरपुर मोहल्ला पर है। सरकार के सात निश्चय योजना के तहत विकास का कार्य किया जाएगा।

नगर पंचायत की कच्ची सड़क।

शिक्षा का घोर अभाव

शिक्षा के नाम पर मोहल्ले में दीनी तालीम को लेकर अपने स्तर से मो. जहुर के प्रयास से एक मदरसा संचालित है जिसमें 30 बच्चे तालीम हासिल कर रहे हैं। यहाँ के बच्चों को समुचित शिक्षा का घोर अभाव है। मोहल्ले के लोगों का कहना है कि नगर पंचायत मुख्यालय की सड़क तक पहुंचने के लिए कोई सड़क नहीं है। लोगों के निजी जमीन होकर बगीचे से गुजरना पड़ता है। नतीजतन वारिस के मौसम में आने-जाने में कठिनाई होती है। मो. जहुर बताते हैं कि स्थानीय विधायक गुलाब यादव के प्रयास से बिजली का खंभा तो विभाग ने लगाया परन्तु बिजली चालू नहीं की गई है। आज भी सुशासन की सरकार में गांव के लोग लालटेन, ढिबरी भी नहीं जला पाते। चूंकि नगर पंचायत में मिट्टी तेल मिलना बंद हो गया। मोमबत्ती और टाॅर्च के सहारे रात बिताना पड़ता है। इस वजह से यहां के बच्चों को पढ़ने में काफी परेशानी हो रही है। यहां के वार्ड सदस्य कुमरकान्त पासवान पर आक्रोश करते हुए कहा कि चुनाव जीतने के बाद वार्ड पार्षद एवं नपं के मुख्य पार्षद ने एक बार भी उनके मोहल्ले का भ्रमण नहीं किया। स्थानीय लोगों ने बताया कि सरकारी आवास योजना, केसीसी ऋण,डीजल अनुदान, पेंशन योजना, पारिवारिक लाभ सहित तमाम सरकारी लाभकारी योजनाओं का कोई लाभ आज तक नहीं दिया है। बीमार हो जाए तो सड़क के अभाव में अस्पताल तक पहुंचना एक चुनौती भरा कदम होता है। ग्रामीण सहित अन्य लोगों ने कई बार नपं के कार्यालय से मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराने की गुहार लगाई है।
खबरें और भी हैं...