पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अब अभिभावकों को सताने लगी बच्चों की पढ़ाई की चिंता

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

समान काम समान वेतन समेत सात सूत्री मांगों को लेकर प्राथमिक शिक्षक संघ हड़ताल पर हैं। वहीं, माध्यमिक शिक्षक संघ भी हड़ताल पर डटे हुए हैं। शिक्षक अपनी मांगों के समर्थन के लिए सड़क पर उतरे हैं। वहीं विभिन्न विद्यालयों में विरानगी छाया हुई है। जबकि छात्र शिक्षक हड़ताल के कारण काफी परेशान है। वहीं उनके अभिभावक भी अपने बच्चों की पठन-पाठन के लिए हैरान हो चुके हैं। एक तो प्राकृतिक आपदा समेत सरकारी कार्यों को लेकर विद्यालयों का बंद होना स्वभाविक है। वहीं शिक्षकों के हड़ताल से छात्र छात्राओं का पठन-पाठन चौपट हो गया है। जबकि प्राथमिक और मध्य विद्यालय के छात्रों का होली के बाद फाइनल परीक्षा भी होनी है। लेकिन सरकार के करियर रूख और शिक्षकों के हड़ताली तेबर का रुख देखकर अभिभावकों में परीक्षा के लिए संशय बना हुआ है और सजग अभिभावकों काफी चिंतित नजर आ रहे हैं। अभिभावकों का मानना है कि एक तो सरकारी स्कूल के शिक्षक हो या सरकारी कोई भी मुलाजिम उनके बच्चे सरकारी स्कूल में नहीं पड़ते, उनके बच्चे की पढ़ाई प्राइवेट स्कूल में होती है।

स्कूल में छाई वीरानगी।
खबरें और भी हैं...