पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Madhubani News Political Or Administrative Proving Itself As These Women Are Becoming Examples

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राजनीतिक हो या प्रशासनिक, खुद को साबित कर ये महिलाएं बन रहीं मिसाल

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मधुबनी | आज पूरे विश्व में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जा रहा है। कई राजनीतिक संगठन और सामाजिक संगठन उन महिलाआें का सम्मान करते हैं जिन्होंने अपने कार्यों से क्षेत्र के नाम को ऊंचा करने के साथ ही दूसरों के लिए प्रेरणा स्रोत हैं। इस क्रम में मधुबनी जिले की कुछ महिलओं ने तो राजनीतक और प्रशासनिक कार्याें में खुद को साबित कर दूसरों के लिए मिसाल बन रही हैं।

संकल्प के रुप में मनाएं महिला दिवस : भावना झा
बेनीपट्टी विधानसभा क्षेत्र की विधायक भावना झा ने बताया कि महिला दिवस को उत्सव नहीं अपितु संकल्प के रुप में मनाया जाना चाहिए। आज की महिलाएं अपने जीवन क्षेत्र में कई प्रकार के सामाजिक रुढिवादिता को तोड़कर ही आगे बढ़ सकती हैं। आज मैं विधायक हूं तो अंगरक्षक मिला हुआ है, पर एक ऐसा भी समय था जब मैं अकेले ही निर्भीक होकर प्रत्येक कार्य को स्वंय से करती आई हूं। हांलाकि सहयोग भी सभी का मिला।

प्रत्येक दिन चुनौती से कम नहीं होती है: कामिनी बाला
सदर एसडीपीओ कामिणी वाला ने बताया कि प्रशासनिक क्षेत्र में भी महिलाओं को काफी चुनौती का सामना करना परता है। पर मुसीबतो से लड़कर ही हमारे समाज की महिलाएं आगे बढ सकी है। पर सामान्य तौर पर ऐसा देखा जाता है कि मजबूरी के आगे हमारी महिला घुटना टेक देती है। घुटना टेकने के बजाय वे यदि इसका सामना करे तो प्रत्येक फैसला उसके पक्ष में ही आएगा। वहीं महिलाओं के आगे बढने न देने में हमारे समाज का भी महत्वपूर्ण योगदान है।

सभी महिलाओं को स्वयं ही आना होगा आगे : मीनाक्षी
शहर के शिवगंगा प्लस 2 विद्यालय में कार्यरत शारीरिक शिक्षा के शिक्षिका मीनाक्षी कुमारी बताती हैं मैं एथलिटिक बनना चाहती थी, पर नहीं बन सकी। अपने सपने को पूरी करने के लिए आज लड़कियों को प्रशिक्षण दे रही हूं। यही मेरी कामयाबी है। इस तरह से आगे बढ़ने के लिए सभी महिलाओं को स्वंय आगे आना होगा। कारण सड़क पर उतरने के बाद ही मंजिल की वास्तविक स्थिति का ज्ञान किया जा सकता है।

महिलओं ने संघर्ष करके बनाया अपना वजूद : डॉ. भारती मेहता
संस्कृत िशक्षा बोर्ड की अध्यक्ष डॉ. भारती मेहता ने कहा कि महिला दिवस पर खुद को गौरावन्वित महसूस कर रही हूं। हम महिलाओं ने संघर्ष करके अपना वजूद इस विश्व में कायम किया है और इस वजूद को खत्म करना अब नामुमकीन है। मैंने भी खुद को बनाने के साथ-साथ महिलओं को स्वाबलंबी बनाने के लिए काम कर रही हूं। इसके अलावा राजनीतक जीवन में भी पूरी सक्रियता के साथ क्षेत्र में हूं। अन्य महिलाओं को भी खुद पर भरोसा कर आगे आने की आवश्यकता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

    और पढ़ें