पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Madhubani News Registration Of Bihar Building And Other Construction Workers Was Hampered By Five Years

बिहार भवन व अन्य सन्निर्माण कर्मकार की निबंधन की बैधता पांच साल कर दी गई

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार भवन व अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की ओर से मिलने वाले लाभ लेने को लेकर 2019 मार्च से 2020 मार्च तक जिले में कूल 13 हजार 209 कर्मकाराें ने अपना निबंधन कराया है। विदित हो कि ऐसे लोग जो भवन निर्माण व सड़क निर्माण कार्य के अकुशल कामगार, राज मिस्त्री, राज्य मिस्त्री के हेल्फर, बढई, लोहार, पेंटर, भवन मेंं बिजली व उससे जुड़े अन्य कार्य करने वाले इलैक्ट्रिशियन सहित अन्य क कार्य करते है उनकी ओर से निबंधन कराया जाता है, ताकि उन्हें सरकार की ओर से दिए जाने वाला लाभ मिल सके। कर्मकार के लिए यह खुशी की बात है कि अब उन्हें एक बार निबंधन कराने पर उनकी निबंधन पांच साल तक बैद्य माना जाएगा। पहले एक साल के निबंधन कराने पर निबंधन शुल्क के रूप में विभाग को 20 रूपया देना होता था। अब ऐसा नही होगा। उन्हें अब निबंधन शुल्क के रूप में 30 रूपया देने होगा सरकार ने निबंधन शुल्क 10 रूपया बढाने के साथ ही निबंधन की वैद्यता पांच साल कर दिया है। इस तरह देखे तो निबंधन शुल्क में भी कर्मकार को 70 रूपया की छुट दी गई है। विभाग ने कर्मगार को जिला व प्रखण्ड कार्यालय की चक्कर लगाने से बचने के लिए ऑन लाईन निबंधन करने के लिए अपना बेबसाइड लांच किया है। जिसपर कर्मकार घर बैठे ऑन लाईन आवेदन कर सकते है। निबंधन करने के लिए श्रमिकों की उम्र 18 से लेकर 60 वर्ष होनी चाहिए, निबंधन के लिए कर्मकार के पास पहचान के लिए आधर कार्ड,बैंक का पास बुक की छायाप्रति,उम्र प्रमाण पत्र, नियोजकों की ओर से 90 दिनों कार्य करने का प्रमाण पत्र ,स्व घोषणा पत्र, दो रंगीन पासपोर्ट साइज फोटा का होना अनिवार्य माना गया है।

22 हजार 865 कर्मकार का निबंधन हुआ

जिले में अब तक 22 हजार 865 कर्मकार का निबंधन हो चुका है जिन्हे सरकार की ओर से चिकित्सा सहायता के रूप मंे 3 हजार रूपये दिए जाएगें। वहीं अब तक बिहार भवन व अन्य सन्निर्माण कर्मकार के 542 श्रमिकों ने अपने निबंधन का नवीकरण करवा लिया है अब इन्हें 5 साल बाद अपने निबंधन का नवीकरण करना होगा। निबंधित कर्मकार में से 6 लोगों को विवाह सहायता योजन के तहत 50 हजार राशि दिया जा चुका है। जानकारी श्रमअधीक्षक अजिरिक्त प्रभार जगन्नाथ पासवान ने दी।

श्रम अधीक्षक कार्यालय।
खबरें और भी हैं...