‘सिस्टम से थक-हार कर व्यक्ति पत्रकारिता को हथियार बनाता है, पत्रकार जिम्मेदारी को समझें’

Motihari News - महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के मीडिया अध्ययन विभाग की ओर से शुक्रवार को विद्यार्थी उन्मुखीकरण समारोह...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 08:41 AM IST
Motihari News - 39tired of system person makes journalism a weapon journalists understand responsibility39
महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के मीडिया अध्ययन विभाग की ओर से शुक्रवार को विद्यार्थी उन्मुखीकरण समारोह का आयोजन किया गया। इसकी अध्यक्षता प्रति कुलपति प्रो. अनिल राय ने की। कार्यक्रम में विभाग में नामांकित सभी विद्यार्थी शामिल हुए। मीडिया अध्ययन विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. अरुण कुमार भगत ने संचालित कोर्स व पत्रकारिता के महत्व के बारे में विस्तार से बताया। समारोह में विशेष वक्ता के रूप में जी न्यूज पटना के राजनीतिक संपादक शैलेंद्र सिंह, ईटीवी भारत के ब्यूरो प्रमुख प्रवीण बागी, राजस्थान पत्रिका पटना के विशेष संवाददाता प्रियरंजन भारती मौजूद थे। इसके अलावा प्राध्यापक, जनसंपर्क अधिकारी तथा मीडिया विभाग के शोधार्थी और विद्यार्थी मौजूद शामिल हुए। अतिथियों का स्वागत चंपा का पौधा, अंगवस्त्र व बुके भेंट कर किया गया। प्रवीण बागी ने कहा कि पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए।

विभागाध्यक्ष ने संचालित कोर्स व पत्रकारिता के महत्व के बारे में विस्तार से बताया

केंद्रीय विवि में मीडिया कार्यशाला को संबोधित करते वक्ता।

मैक्सिमम जानकारी इंट्रो में समेटें : शैलेंद्र सिंह

वहीं शैलेंद्र सिंह ने कहा कि पत्रकारिता से आप अच्छी चीज की शुरुआत कर रहे हैं। अब आप सभी को उड़ान भरना है। महात्मा गांधी को पढ़ कर आप सफल पत्रकार बन सकते हैं। सूचना क्रांति के इस युग में सभी पत्रकार हैं। पत्रकारिता के कारण ही सड़क पर गाने वाली रानू मंडल रातोरात सेलिब्रेटी बन गयी। बताया कि अखबारों में जगह की कमी है। इसलिए मैक्सिमम जानकारी इंट्रो में समेटने की कोशिश करें, ताकि यदि खबर नीचे कट भी जाए तो सही सूचना लोगों तक पहुंच जाए। उन्होंने विद्यार्थियों को यह भी सलाह दी कि जो लिखें उसे अपने जीवन में भी उतरें।

आयोजित मीडिया कार्यशाला में उपस्थित कुलपति व अन्य अतिथि।

पत्रकारिता में सच को लाना ही हमारा धर्म

जेपी आंदोलन से निकले प्रियरंजन भारती ने छात्रों को “भारत भाग्य विधाता’’ की संज्ञा देते हुए कहा कि जज्बा, जज्बात, हौसला, ऊर्जा आपके अंदर हो तब ही आप कुछ कर सकते हैं। आप स्वयं को पहचाने, यथेष्ट को पहचाने। पत्रकारिता में सच को लाना ही हमारा धर्म है। प्रतिकुलपति प्रो. अनिल राय ने कहा कि पत्रकारिता जिम्मेदारी और जवाबदेही है। हम कामना करते हैं कि देश में 130 करोड़ पत्रकार हो जाएं और सब जिम्मेदार हो जाएं। प्राध्यापक डॉ सुनील घोड़के ने धन्यवाद ज्ञापित किया। मंच संचालन जनसंपर्क अधिकारी शेफालिका मिश्र ने किया।

पत्रकारिता समाज की धड़कन होने के साथ-साथ संस्कृति का संवाहक

विभागाध्यक्ष प्रो. अरुण कुमार भगत ने सभी विद्यार्थियों व शोधार्थियों को स्वागत किया। साथ ही उन्हें पत्रकारिता की जिम्मेदारियों व महत्व का अहसास कराया। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता समाज व जीवन का दर्पण है। सत्य की खोज करना पत्रकारिता है। पत्रकारिता समाज की धड़कन होने के साथ-साथ सभ्यता और संस्कृति का संवाहक है। पत्रकारिता समाज का चौथा स्तम्भ है यह संवैधानिक नहीं है लेकिन इसकी लोक मान्यता है। पत्रकार ही पीड़ित व प्रताड़ितों की आवाज बनते हैं। सिस्टम से थक-हार कर व्यक्ति पत्रकारिता को हथियार बनाता है। इसलिए आप सभी अपनी जिम्मेदारी को समझें। इस क्षेत्र में अनंत संभावनाएं हैं। कोर्स पूरा करने के पश्चात आप अध्यापन के क्षेत्र में भी जा सकते हैं।

Motihari News - 39tired of system person makes journalism a weapon journalists understand responsibility39
X
Motihari News - 39tired of system person makes journalism a weapon journalists understand responsibility39
Motihari News - 39tired of system person makes journalism a weapon journalists understand responsibility39
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना