पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

7 उर्वरक विक्रेताओं के लाइसेंस रद्द किए गए

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला कृषि पदाधिकारी के द्वारा विभागीय निर्देश के आलोक में कई खुदरा उर्वरक विक्रेताओं की जांच की गई। कई अनियमितता पाए जाने पर रामगढ़वा, आदापुर व कोटवा के सात उर्वरक विक्रेताओं के लाइसेंस को निलंबित किया गया है। निलंबन के बाद नियमानुसार लाइसेंस रद्द करने की कार्रवाई होगी। इस संबंध में डीएओ डॉ ओंकारनाथ सिंह ने बताया की जांच में कई कमियां पायी गई थी। उर्वरक को किसानों के बीच उचित मूल्य पर वितरण करने के लिए आवंटित किया गया था। लेकिन विक्रेताओं ने कालाबाजारी के कई तरीके अपनाए थे। पॉश मशीन में उर्वरक के बिक्री का कोई रिकार्ड नही था। जांच के क्रम में भंडारण पंजी व बिक्री पंजी का संधारण नहीं किया गया था। वहीं प्रतिष्ठान पर मूल्य तालिका भी गायब थी। प्रतिष्ठान के सामने दिवाल पर थोक उर्वरक विक्रेता कंपनी के प्रतिनिधि, बीएओ व डीएओ का मोबाइल नंबर भी अंकित नहीं था। उन्होंने कहा कि नियमों का अनुपालन नहीं करने वाले विक्रेताओं के लाइसेंस को निलंबित किया गया। निलंबन अवधि तक विक्रेताओं को उर्वरक के आवंटन पर रोक रहेगी।

खबरें और भी हैं...