पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Motihari News Doctors Have Stopped The Apd Service Against The Murder Of Doctor In Nalanda

नालंदा में डाॅक्टर की हत्या के विराेध में डाॅक्टराें ने ठप की अाेपीडी सेवा

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भटकते रहे मरीज

नालंदा जिले में डाॅक्टर प्रियरंजन कुमार प्रियदर्शी की हत्या के विरोध में जिले के डॉक्टर शनिवार की सुबह से 12 घंटे की हड़ताल पर चले गए। इससे सदर अस्पताल समेत निजी अस्पतालों में ओपीडी सेवा ठप रही। इसकी वजह से मरीजों को वापस लौटना पड़ा। हड़ताल सुबह आठ बजे से लेकर रात के आठ बजे तक की गई। हड़ताल का आह्वान डाक्टरों के संगठन आईएमए व भासा ने किया था। हड़ताल के कारण सरकारी व निजी अस्पतालों में ओपीडी नहीं चली जिसके कारण मरीजों को काफी परेशानी हुई। हालांकि इमरजेंसी सेवा चालू रहने से मरीजों को थोड़ी राहत मिली। सदर अस्पताल में सबसे अधिक हड्‌डी अाैर एंटी रैबीज का टीका लेने के लिए पहुंचने वाले मरीज परेशान रहे। काफी देर तक टीका मिलने की आस में खड़े रहने वाले मरीज अंतिम में वापस घर लौट गए। हालांकि काफी मरीजों ने इंमरजेंसी में भी जाकर अपना इलाज करवाया।

परिजनों को 5 करोड़ का मुआवजा देने की मांग

आईएमए मोतिहारी शाखा के सदस्यों की बैठक आईएमए हॉल में डॉ. सुशील कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में डॉक्टरों ने इस हत्या की घोर भर्त्सना की। आईएमए के अध्यक्ष डॉ. सुशील कुमार सिन्हा ने कहा कि आईएमए ने तीन महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। इसमें दिवंगत डॉक्टर के परिजन को पांच करोड़ का मुआवजा व प|ी को सरकारी नौकरी देने की मांग की गई है।

नहीं हुअा इलाज

इमरजेंसी सुविधा बहाल रखी गई थी, आईएमए व भासा ने 12 घंटे की हड़ताल का किया था आह्वान

डॉक्टरों की हड़ताल के कारण बच्चे के साथ भटकती महिला और अन्य मरीज।
खबरें और भी हैं...