डॉ. राजेंद्र प्रसाद में प्रतिभा कूट-कूट कर भरी थी : प्रो. शोभाकांत चौधरी

Motihari News - भारत के निर्माण में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद का योगदान विषय पर अटल उद्यान में मंगलवार को संगोष्ठी का आयोजन किया गया।...

Dec 04, 2019, 08:15 AM IST
Motihari News - in dr rajendra prasad the talent was filled with codification prof shobhakant chaudhary
भारत के निर्माण में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद का योगदान विषय पर अटल उद्यान में मंगलवार को संगोष्ठी का आयोजन किया गया। राजेन्द्र प्रसाद सेवा समिति के बैनर तले हुए इस कार्यक्रम में वक्ताओं ने डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के जीवनी पर विस्तार से प्रकाश डाला। संगोष्ठी के विशिष्ट अतिथि शिक्षाविद प्रो. शोभाकांत चौधरी ने कहा कि डॉ. राजेन्द्र प्रसाद अच्छाई के जीते जागते प्रतिमूर्ति थे। हम सभी को उनके जीवन पथ पर चलने का अनुसरण करना चाहिए। तभी तो संविधान की मूल प्रति नहीं रहने के बावजूद उन्होंने हूबहू दूसरी कॉपी बनाई। गुलरेज शहजाद ने उनकी जीवनी के पहलुओं को साझा करते हुए कहा कि एक बार उनके गांव में मेला लगा था। उनके गांव के लोग मेला का उद्घाटन करने के लिए भोजपुरी में उन्हें पत्र लिखा। उन्होंने भोजपुरी में उसका जबाब देते हुए लिखा कि मैं अब राष्ट्रपति बन गया हूं। मेरे पास पूरे देश की जिम्मेवारी है। मेरे वहां आने पर सरकार का काफी पैसा खर्च होगा। इसलिए आप वहां के किसी बुजुर्ग से मेला का उद्घाटन करा लीजिए।

संगोष्ठी को संबोधित करते विनय श्रीवास्तव व उपस्थित अन्य वक्ता।

X
Motihari News - in dr rajendra prasad the talent was filled with codification prof shobhakant chaudhary
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना