• Hindi News
  • Bihar
  • Motihari
  • Madhuban News nathu sahani making an income of 25 million annually by cultivating marigold in one and a half acres is presenting for the farmers

डेढ़ एकड़ में गेंदा की खेती कर ढाई लाख सालाना आमदनी कर रहा नथु सहनी, किसानों के लिए पेश कर रहा नजीर

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:15 AM IST

Motihari News - परंपरागत खेती के अलावा गेंदा की खेती कर अच्छी आमदनी की जा सकती है। इसे सिद्ध कर दिखाया है प्रखंड क्षेत्र के...

Madhuban News - nathu sahani making an income of 25 million annually by cultivating marigold in one and a half acres is presenting for the farmers
परंपरागत खेती के अलावा गेंदा की खेती कर अच्छी आमदनी की जा सकती है। इसे सिद्ध कर दिखाया है प्रखंड क्षेत्र के सवंगिया गांव निवासी नथु सहनी ने। गेंदा फूल की खेती कर महज पचास हजार की सलाना लागत से डेढ़ एकड़ भूमि में दो लाख से ढाई लाख सलाना आमदनी कर रहा है।

वह गांव के उन किसानों के लिए एक बेहतरीन उदाहरण बना है, जो कृषि कार्य के प्रति उदासीन हो चुका हैं। नथु अपने पूरे परिवार का भरण पोषण पहले से ठीक ढंग से नहीं कर पा रहा था। फूल की खेती से उसकी तकदीर बदल गई है।

मधुबन प्रखंड के सवंगिया गांव में गेंदा के खेत में किसान नथु सहनी।

डेढ़ सौ रुपए में बिकती है 20 लड़ियों की एक कूंड़ी

फूलों को तोड़ कर लगभग आधे मीटर सुतली में पिरोकर 20 लड़ी की एक कूंड़ी बनाई जाती है। जिसकी बिक्री डेढ़ सौ रुपए में होती है। लग्न में फूलों की मांग बढ़ने पर दाम भी बढ़ जाता है। तब आमदनी अधिक होती है। अन्य दिनों में भी फूल का डिमांड अधिक रहता है। नथु बताता है कि अब हर मौसम में फूल की मांग होती है। फूल की खेती करना पारंपरिक खेती-किसानी से अधिक लाभकारी है।

शादी-विवाह सहित हर फंग्शन में होती है मांग

बताया जाता है कि शादी-ब्याह के मौसम में तो फूल की अधिक मांग होती है। मरवा सजावट, जयमाला स्टेज सजावट, दूल्हे की गाड़ी सजावट, घर की सजावट, गेट की सजावल सहित अन्य काम में गेंदा के फूल का प्रयोग होता है। नथु सहनी ने बताया कि गेंदा का पौधा अच्छी सिंचाई, उर्वरक, कीटनाशक आदि पर टीका हुआ फसल है। जिसकी खेती गर्मी के दिनों में चुनौती से कम नहीं है।

X
Madhuban News - nathu sahani making an income of 25 million annually by cultivating marigold in one and a half acres is presenting for the farmers
COMMENT