पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हे मां दुर्गा...हमें माफ कर दीजिए

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रमुख मंदिरों का पट है बंद घर पर ही होगी पूजा-अर्चना

जिले में बुधवार से शुरू हो रही चैत्र नवरात्र के उत्साह को कोरोना वायरस के दुष्प्रभाव ने फीका कर दिया है। इसके भय से कई पूजा समितियों की मूर्तियों का निर्माण आधा-अधूरा छोड़ मूर्तिकार भ्ज्ञज्ञग् चले हैं। इससे समितियां उहापोह में पड़ गई है। दूसरी ओर प्रशासनिक सख्ती की वजह से पूजा की तैयारियों का दायरा सीमित कर लिया गया है। पटेल चौक, माईस्थान, बलुआ आदि दुर्गा पूजा समितियों में कलश स्थापित तो होंगे, लेकिन मंदिरों में आम लोगों का प्रवेश वर्जित रहेगा। ऐसा इसलिए कि कोरोना के फैलने का खतरा उत्पन्न नहीं हो सके।

मूर्तियां अधूरी छोड़ कर भाग गए मूर्तिकार, पूजा समितियां परेशान

अगरवा में नहीं होगी कलश की स्थापना

अगरवा माई स्थान दुर्गा पूजा समिति में इस बार कलश स्थापित नहीं होगी। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। दुर्गासप्तशती के पाठ हाेंगे। पुजारी रामकुमार तिवारी ने बताया कि पट बंद कर मां की पूजा-अर्चना की जाएगी। उधर, बलुआ दुर्गा पूजा समिति भी चैत्र नवरात्र पूजा की तैयारी सीमित कर ली गई है।

पटेल चौक स्थित पूजा समिति में आधा-अधूरा बनी मां दुर्गा की प्रतिमा।

खबरें और भी हैं...