• Hindi News
  • Rajya
  • Bihar
  • Motihari
  • Pakridayal News on the eastern embankment of old gandak encroachment on the dam in about 20 kilometers from the cliff to maduban

बूढ़ी गंडक के पूर्वी तटबंध पर गोढ़िया से मधुबन तक करीब 20 किलोमीटर में बांध पर अतिक्रमण

Motihari News - पकड़ीदयाल बूढ़ी गंडक के पूर्वी तटबंध से आज तक अतिक्रमण नहीं हटाया गया है। जबकि डीएम रमन कुमार ने पकड़ीदयाल एवं मधुबन...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:46 AM IST
Pakridayal News - on the eastern embankment of old gandak encroachment on the dam in about 20 kilometers from the cliff to maduban
पकड़ीदयाल बूढ़ी गंडक के पूर्वी तटबंध से आज तक अतिक्रमण नहीं हटाया गया है। जबकि डीएम रमन कुमार ने पकड़ीदयाल एवं मधुबन सीओ को गत वर्ष 24 जुलाई को अतिक्रमण हटाने का निर्देश दिए थे। करीब एक साल बाद भी डीएम के आदेश का पालन नहीं हुआ। अतिक्रमण से बांध का पूर्वी तटबंध जर्जर हो गया है। बाढ़ आने पर बांध टूट सकता है। सिकरहना के गोढ़िया हराज से लेकर मधुबन तक करीब 20 किलोमीटर बांध का ग्रामीणों ने अतिक्रमण कर लिया है। अतिक्रमणकारी बांध पर ही अस्थाई घर बना मवेशी को पाल रहे हैं। वे बांध पर ही नाद-खूंटा लगाए है। मवेशी बांधने से वहां से मिट्टी उखड़ रहा है। जिससे बांध लगातार कमजोर होता जा रहा है। विभाग ने सीओ को अतिक्रमणकारियों की सूची उपलब्ध करा दी है। फिर भी वहां से अतिक्रमण नहीं हटाया गया है।

2017 में आई बाढ़ में टूटने से बचा था बांध

बता दें कि 19 अगस्त 17 को नेपाल से आई प्रलयकारी बाढ़ से बूढ़ी गंडक बांध का पूर्वी तटबंध गोढ़िया हरराज से लेकर हरकवारा, फुलवार, पकड़ीदयाल जगतिया, सुंदरपट्टी, भेलवा, मधुबन आदि जगहों पर टूटने की कगार पर था। ग्रामीणों ने कड़ी मेहनत कर बांध को बचाया था। पकड़ीदयाल के नवयुवकों ने बांध बचाओ संघर्ष समिति बनाकर बांध को बचाने के लिए संघर्ष शुरू किया था।

गत वर्ष कराई गई थी जर्जर पूर्वी तटबंध की मरम्मत

गत वर्ष डीएम रमन कुमार के निर्देश पर पकड़ीदयाल बूढ़ी गंडक बांध के जर्जर पूर्वी तटबंध की मरम्मत कराई गई थी। मरम्मत के दौरान अतिक्रमणकारी अपना अस्थायी घर, नाद-खूंटा आदि नहीं हटाए। जिससे उन जगहों की मरम्मत ठीक से नहीं हो सकी। उस समय बांध पर उगे जंगल-झाड़ी को साफ कराया गया था। जगतिया सेमर के पेड़ के नजदीक के जर्जर बांध का एनसी बेस तरीके से मरम्मत किया गया। हालांकि, अतिक्रमण को लेकर बांध बचाओ संघर्ष समिति ने कड़ा विरोध किया। जिसके बाद डीएम ने गत वर्ष 27 जून बांध का निरीक्षण किया। उन्होंने एक सप्ताह में अतिक्रमण खाली कराने का निर्देश पकड़ीदयाल एवं मधुबन सीओ को दिया था।

अतिक्रमण से बांध हाे रहा कमजाेर


अभी नहीं मिली है अतिक्रमणकारियों की सूची


X
Pakridayal News - on the eastern embankment of old gandak encroachment on the dam in about 20 kilometers from the cliff to maduban
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना