पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Jamalpur News The Young Women Understand Their Existence Then No Obstacle Can Stop Them

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

युवतियां अपने अस्तित्व को समझें तब कोई बाधा उन्हें रोक नहीं सकती

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हर वर्ष 8 मार्च को महिला दिवस मनाया जाता है। महिला दिवस का उद्देश्य साल दर साल बदलता रहता है। हर साल महिला दिवस अलग थीम पर आधारित होता है। इस बार थीम है बैलेंस फॉर बेटर। यह दिन इस तथ्य के मूल्यांकन का भी दिन है कि वर्तमान समाज में महिलाओं की स्थिति में किस हद तक बदलाव आया है तथा वे किन-किन क्षेत्र में अपने-आप को स्थापित कर खुद की अलग पहचान बना चुकी हैं। दैनिक भास्कर उन बेटियों के बारे में बता रहा है जिन्होंने खुद के प्रयास से एक मुकाम ताे हासिल किया ही है वे दूसरों का भी संबंल बन रही हैं।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
बैलेंस फॉर बेटर
परिवार प्रोत्साहित करे तो लड़कियां हर क्षेत्र में साबित कर सकती हैं श्रेष्ठता
श्यामा रानी जिले के जमालपुर प्रखंड स्थित ईटहरी गांव की बेटी हैं तथा छोटी उम्र में वह कई उपलब्धियां अपने नाम कर चुकी हैं। रतनुपर स्टेशन के समीप बने फुटबॉल मैदान में खेलने वाली श्यामा कब राष्ट्रीय से लेकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उपलब्धियां हासिल कर लीं यह उसे भी पता नहीं चला। श्यामा राष्ट्रीय स्तर पर महिला फुटबॉल में बिहार का नेतृत्व कर चुकी है तथा श्रीलंका में भी अपनी खेल प्रतिभा का लोहा मनवा चुकी है। श्यामा कहती है कि जब आस-पास की लड़कियां उसके पास आकर यह कहती है कि मुझे भी आपके तरह बनना है तो मुझे अहसास होता है कि मेरे ऊपर बड़ी जिम्मेदारी आ गई है। श्यामा का कहना है कि यदि युवतियाें को उसके परिवार वाले प्रोत्साहित करें तो लड़कियां हर क्षेत्र में श्रेष्ठ मुकाम हासिल कर सकती है।

श्यामा रानी

आत्मबल हो तब लड़कियां वह सबकुछ कर सकती हैं जिसे सोचकर भी लगता है डर
नयागांव ठाकुरबाड़ी रोड निवासी कविता कुमारी चौरसिया पेशे से शिक्षिका हैं। इनकी सामाजिक कार्यों में भी खासी रुची है। इसके अलावा ये राज्यस्तरीय आपदा प्रबंधन की प्रशिक्षक भी है। कविता कुमारी चौरसिया अपने जिले के विभिन्न विद्यालयों में तो जाकर वहां के छात्र एवं छात्राओं को तो आपदा से क्षति कम करने तथा जानमाल की सुरक्षा को लेकर प्रशिक्षित तो करती ही हैं जिले के बाहर जाकर भी लोगों को आपदा प्रबंधन के लिए प्रशिक्षण देती हैं। उनका कहना है कि लक्ष्य प्राप्ति तथा जीवन में आगे बढ़ने के लिए हममें दृढ़ इच्छाशक्ति तथा आत्मबल होना चाहिए। फिर हम वो सब कुछ कर सकते हैं जिसके बारे में सोंचकर हम डरने लगते हैं। वह युवतियों को यह संदेश देना चाहती है कि वे अपने कल को आज से ही संवारें।

कविता कुमारी

सिर्फ एक दिन महिला दिवस मनाने से नहीं होगा उत्थान,सतत प्रय| की जरूरत
बेकापुर निवासी आवर हुनर सोसाईटी संस्था की सचिव एवं कई सामाजिक संस्थाओं से जुड़ी प्रीति कुमारी वैश्य विगत 2012 से अपनी संस्था के माध्यम से गरीब परिवार की युवतियों को कंप्यूटर, हस्तकला, ब्यूटीशियन, मेंहदी कला आदि का प्रशिक्षण देकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का काम कर रही है। प्रीति कहती हैं कि युवतियां अपने अस्तित्व को समझें तथा अपना आत्मबल मजबूत करें। जीवन के रास्ते में कुछ बाधाएं आती हैं लेकिन वह हमें रोक नहीं सकती हैं। आपको अपना प्रयास निरंतर जारी रखना होगा। इसमें घरवाले का सहयोग भी आवश्यक है। केवल एक दिन महिला दिवस मनाने से महिला का उत्थान नहीं हो सकता। इसके लिए सतत प्रय| की आवश्यकता है।

प्रीति कुमारी

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

    और पढ़ें