--Advertisement--

एनएच-106 पर बनेगा पुल, मधेपुरा से भागलपुर की दूरी 40 किमी होगी कम

सांसद ने बताया कि इसके अलावा भी कई अन्य एनएच के डीपीआर बनाने का आदेश गडकरी ने दिया।

Dainik Bhaskar

Mar 29, 2018, 05:49 AM IST
केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री से वार्ता करते मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव। केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री से वार्ता करते मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव।

मधेपुरा. कोसी क्षेत्र को भागलपुर से सीधी सड़क सेवा से जोड़ने वाली एनएच 106 के दुरूह इलाके के लिए अच्छी खबर है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एनएच 106 के शेष 30 किलोमीटर के हिस्से में पड़ने वाली कोसी नदी पर 1500 करोड़ रुपए के अत्याधुनिक पुल निर्माण की स्वीकृति दे दी है। यह पुल उदाकिशुनगंज से बिहपुर के बीच फुलौत में कोसी नदी पर बनाया जाएगा। इस पुल निर्माण की सहमति मिल जाने के बाद एनएच-106 के पूरे 136 किलोमीटर सड़क निर्माण का रास्ता साफ हो गया।

दैनिक भास्कर ने अपने 23 जनवरी के अंक में इससे संबंधित खबर को एनएच-106 की 30 किलोमीटर जर्जर, धारा बदल रही नदी बनी बाधक शीर्षक से प्रमुखता से प्रकाशित किया था। उस वक्त सांसद पप्पू यादव ने कहा था कि वे इस नदी पर पुल निर्माण करवाने की दिशा में प्रयास कर रहे हैं। पुल बनने से भागलपुर की दूरी 40 किमी कम हो जाएगी।


केंद्रीय मंत्री से मिलकर सांसद पप्पू यादव ने रखा था प्रस्ताव
सांसद ने कहा कि फुलौत में कोसी नदी पर अत्याधुनिक पुल निर्माण कराने को लेकर वे लगातार केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से वार्ता कर रहे थे। अब उन्होंने कोसी नदी पर अत्याधुनिक पुल निर्माण की सहमति दे दी है। जल्द ही आगे की कार्यवाही शुरू कराई जाएगी। सांसद ने बताया कि इसके अलावा भी कई अन्य एनएच के डीपीआर बनाने का आदेश गडकरी ने दिया। उन्होंने जमीन उपलब्ध कराने के लिए सीएम के प्रति भी आभार प्रकट किया।

साढ़े पांच साल बाद फिर मिली पुल निर्माण की सहमति
फुलौत के आसपास तीन नदियों पर लगभग चार किमी पुल बनाया जाना है। नदियों पर पुल निर्माण की संभावनाओं को तलाशने के लिए 19 अगस्त 2012 को जल विशेषज्ञ और अभियंताओं की टीम आयी थी। टीम ने फुलौत से बिहपुर तक नाव एवं पैदल यात्रा कर घघरी, बुढ़ोना और त्रिमुहान नदी का सर्वेक्षण किया था। जांच टीम को दरअसल यह देखना था कि कहां पुल का निर्माण होगा और किस स्थान पर बांध का निर्माण किया जाएगा। उस समय विशेषज्ञों ने महसूस किया कि जिधर से आवागमन का रास्ता मिल रहा है, नदी उधर से ही अपनी धारा मोड़ लेती है। इससे भविष्य में पुल निर्माण में कई तरह की रुकावट आ सकती है।

विशेषज्ञों का कहना था कि बीच वाली नदी बुढ़ोना को बांधकर पुल की लंबाई को कम किया जा सकता है, लेकिन इसमें सफलता की गारंटी पर भरोसा कम था। इंजीनियरों का कहना था कि कोसी नदी पर दो पुलों का निर्माण किया जाएगा। पहला पुल फुलौत के घघरी धार पर बनेगा। इसकी लंबाई करीब 1280 मीटर और दूसरा पुल बुढ़ोना से त्रिमुहान तक जिसकी लंबाई 3636 मीटर होगी। जानकारों की मानें तो पुल के निर्माण की स्वीकृति भारत सरकार ने दे दी थी। डीपीआर भी तैयार किया जा रहा था। लेकिन बाद के दिनों में कोई कुछ भी बताने से कतराते रहे। सांसद श्री यादव का कहना है कि कोसी नदी पर अब पुल निर्माण जल्द होगा। अब कोई बाधा नहीं आएगी।

573 करोड़ से एनएच-107 90 किमी तक होगा टू लेन

महेशखूंट-पूर्णिया भाया सहरसा-मधेपुरा एनएच-107 के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। इसी महीने से सड़क कार्य शुरू हो जाएगा। डीएम के पहल पर राष्ट्रीय उच्च पथ प्राधिकरण को विधिवत सड़क हस्तांतरण करा दिया गया है। गैमन इंडिया पहले चरण में मठाही से भाया मधेपुरा-पूर्णिया तक 90 किलोमीटर सड़क बनाएगी। इसके लिए एनएच विभाग ने 573 करोड़ 7 लाख रुपए जारी कर दिए हैं। 145 किलोमीटर लंबी एनएच 107 के निर्माण कार्य के लिए दो वर्ष का समय निर्धारित किया गया है।

सड़क निर्माण में वर्षों पहले फंस गया था पेंच
एनएच-107 के निर्माण के लिए राष्ट्रीय उच्च पथ से लेकर राष्ट्रीय उच्च पथ प्राधिकरण को हस्तांतरित किया जाना था। एनएच ने तो यह काम कर दिया लेकिन प्राधिकरण इसे सभी औपचारिकता पूरी कर हस्तांतरण करने पर अड़ी हुई थी। जिलाधिकारी मो. सोहैल ने इसके लिये स्वयं रुचि लेकर सभी पक्षों को एक साथ बुला कर हस्तांतरण की प्रक्रिया पूरी करायी।

सड़क बनने के बाद सहरसा जाने में सिर्फ 25 मिनट लगंगे
अभी मधेपुरा से सहरसा की 22 किलोमीटर के दूरी तय करने में एक से डेढ़ घंटा का समय लगता है। जबकि सड़क बनने के बाद यह दूरी 20 मिनट में तय की जा सकेगी। जर्जर सड़क की वजह से पूर्णिया जाने के लिए लोग इस पथ के बदले अब लोग भाया रानीगंज स्टेट हाइवे से तीन घंटे का सफर तय कर रहे हैं।

10 मीटर चौड़ा बनेगा टू लेन
गैमन इंडिया सबसे पहले इस पथ को मरम्मत करेगी ताकि वाहनों की आवाजाही शुरू हो सके। इसके बाद 145 किमी लम्बी सड़क निर्माण के पहले चरण में 90 किमी में चौड़ीकरण का काम शुरू होगा। मठाही से पूर्णिया तक इस पथ को 10 मीटर चौड़ा टू लाइन बनाया जाएगा। दूसरे चरण में महेशखूंट से सहरसा होते हुए मठाही तक चौड़ी करण कार्य होगा।

एनओसी के लिए वन विभाग को प्रस्ताव भेजा
मधेपुरा के डीएम मोहम्मद सोहैल ने बताया कि एनएच-107 के चौड़ीकरण और टू लाइन सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास प्रधानमंत्री कर चुके हैं। इसके चौड़ीकरण से पूर्व वन विभाग को औपचारिकताएं पूरी करने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है। इस कार्य में विभाग को शीघ्रता करनी चाहिए।

X
केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री से वार्ता करते मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव।केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री से वार्ता करते मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..