• Hindi News
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • Muzaffarpur News after 9 years in mnrega ghatale charge sheet will be filed on madvan39s program officer rural development department approved

मनरेगा घाेटाले में 9 साल बाद मड़वन के कार्यक्रम पदाधिकारी पर दायर की जाएगी चार्जशीट, ग्रामीण विकास विभाग ने दी मंजूरी

Muzaffarpur News - नाै साल पहले मड़वन प्रखंड में हुए कराेड़ाें रुपए के मनरेगा घाेटाले में तत्कालीन कार्यक्रम पदाधिकारी माे. अासिफ...

Feb 15, 2020, 08:56 AM IST

नाै साल पहले मड़वन प्रखंड में हुए कराेड़ाें रुपए के मनरेगा घाेटाले में तत्कालीन कार्यक्रम पदाधिकारी माे. अासिफ इकबाल की संलिप्तता पर ग्रामीण विकास विभाग ने मुहर लगा दी है। निगरानी जांच में मिले साक्ष्य के अाधार पर ग्रामीण विकास विभाग ने माे. अासिफ इकबाल के खिलाफ अभियाेजन चलाने की स्वीकृति दे दी है। विभाग के संयुक्त सचिव सह विशेष निगरानी पदाधिकारी संजय कुमार सिंह ने डीएम काे पत्र लिखकर इस संबंध में सूचना दी है। इससे पहले निगरानी ब्यूराे के पुलिस अधीक्षक ने ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव से स्वीकृति मांगी थी। अाराेप लगाया गया था कि ग्राम पंचायत रक्सा में मनरेगा के तहत संचालित एक भी याेजना को सरकारी प्रावधानाें के अनुसार नहीं किया गया है। सिर्फ कागजों पर याेजना संचालित दिखा कर व फर्जी मस्टर राॅल के आधार पर डाकघर से फर्जी निकासी कर कराेड़ाें रुपए का गबन कर लिया गया है। इसको लेकर मुजफ्फरपुर निगरानी अन्वेषण ब्यूराे के तत्कालीन एसपी उपेन्द्र प्रसाद सिंह ने पिंकी माया, अजय कुमार, अरविंद कुमार सिंह एवं रमेश ठाकुर के अावेदन के अाधार पर जांच के बाद निगरानी थाने में एफअाईअार दर्ज कराई थी। जिसमें मड़वन के तत्कालीन कार्यक्रम पदाधिकारी, रक्सा व हरचंदा पंचायत की तत्कालीन मुखिया, रक्सा पंचायत सचिव, राेजगार सेवक सहित 54 जनप्रतिनिधि व लाेकसेवकाें के खिलाफ एफअाईअार दर्ज कराई थी।

जांच में डाकघर में खुले 270 खाते पाए गए थे फर्जी, मस्टर राॅल में भी मिली थी गड़बड़ी


जांच के क्रम में रक्सा उप डाकघर में खुले कुल 765 खातों में से 270 फर्जी पाए गए थे। 36 व्यक्तियाें के नाम से दाे-दाे तथा एक व्यक्ति के नाम से तीन खाते डाकघर में खुले हुए थे। पूछताछ में 82 खाताधारियों ने बताया था कि उसने कभी मनरेगा में काम ही नहीं किया। वहीं, 201 खाताधारियों ने बताया था कि न ताे उसने कभी खाता खुलवाया, न ही डाकघर से कभी निकासी की। जांच में पाया गया कि डाकघर से फर्जी तरीके से निकासी की गई। रक्सा उप डाकघर से रक्सा पंचायत की 133 एवं हरचंदा पंचायत की 10 याेजनाअाें में कुल 1 कराेड़ 52 लाख 62 हजार 190 रुपए के विरुद्ध अनुमानित घाेटाले की राशि 1 कराेड़ 23 लाख 40 हजार 105 रुपए पाई गई। उसी तरह पौधराेपण याेजनाअाें में लाखाें रुपए की निकासी के विरुद्ध महज 1-2 याेजनाअाें में ही नाम मात्र के पेड़ पाए गए। मस्टर राॅल में भी व्यापक गड़बड़ी पाई गई थी। मस्टर राॅल पर तथाकथित अंगूठे का निशान पाया गया। कुछ मजदूराें के न ताे हस्ताक्षर थे अाैर न ही अंगूठे का निशान। तत्कालीन कार्यक्रम पदाधिकारी के कार्यकाल में कई याेजनाअाें में व्यापक अनियमितता पाई गई। नाम मात्र के पेड़ लगाकर कागजी खानापूर्ति कर रुपयाें का गबन किया गया। लिहाजा, इनके खिलाफ धारा-409/420/467/468/471/477-ए/120-बी/ सहित अन्य धारा के तहत अाराेप पत्र का पर्याप्त साक्ष्य पाया गया है।

270 फर्जी खाते खाेलकर 1.23 कराेड़ रुपए का हुअा था गबन

मुखिया समेत 54 जनप्रतिनिधि एवं लाेकसेवक बनाए गए थे अाराेपी

मड़वन की रक्सा पंचायत में हुअा था कराेड़ाें रुपए का मनरेगा घाेटाला

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना