भास्कर इंपैक्ट / बाढ़ के पानी से घिरीं गर्भवतियों काे अस्पताल पहुंचाने के लिए पहुंची एनडीआरएफ टीम

दो एंबुलेंस के साथ प्रसूताओं का हाल जानने सीएस, डीपीएम, एसीएमओ और स्वास्थ्यकर्मी पहुंचे। दो एंबुलेंस के साथ प्रसूताओं का हाल जानने सीएस, डीपीएम, एसीएमओ और स्वास्थ्यकर्मी पहुंचे।
प्रसूताअाें के बीच दवा का वितरण करती स्वास्थ्य टीम। प्रसूताअाें के बीच दवा का वितरण करती स्वास्थ्य टीम।
X
दो एंबुलेंस के साथ प्रसूताओं का हाल जानने सीएस, डीपीएम, एसीएमओ और स्वास्थ्यकर्मी पहुंचे।दो एंबुलेंस के साथ प्रसूताओं का हाल जानने सीएस, डीपीएम, एसीएमओ और स्वास्थ्यकर्मी पहुंचे।
प्रसूताअाें के बीच दवा का वितरण करती स्वास्थ्य टीम।प्रसूताअाें के बीच दवा का वितरण करती स्वास्थ्य टीम।

  • डीएम ने एंबुलेंस के साथ मेडिकल टीम व आपदा बचाव दल काे भेजा
  • सीएस के नेतृत्व में एंबुलेंस के साथ चिकित्सक रजवाड़ा गांव पहुंचे

दैनिक भास्कर

Jul 20, 2019, 05:00 AM IST

मुजफ्फरपुर (अनुरोध प्रगट). दैनिक भास्कर में 19 जुलाई को खबर प्रकाशित होने के बाद शुक्रवार को जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया। डीएम के निर्देश पर सिविल सर्जन डॉ. शैलेन्द्र कुमार सिंह के साथ एसीएमओ डॉ. हरेन्द्र कुमार राजू, डीपीएम भगवान प्रसाद सिंह सहित अन्य चिकित्सकों की टीम सुबह 10 बजे मुशहरी सीएचसी पहुंची। वहां से एंबुलेंस के साथ पूरी टीम रजवाड़ा बांध पर बाढ़ मेंं फंसी प्रसूताओं काे लाने के लिए गई।

 

टीम ने महिलाओं की जांच की

डीएम के निर्देश के अनुसार, अंचलाधिकारी ने एनडीआरएफ की टीम काे दाे मोटरबोट के साथ भेजा। चिकित्सकों की टीम ने बाढ़ से घिरे रौशनपुर चक्की गांव में प्रसूताओं का चेकअप किया तथा उनके प्रसव का अंतिम समय जाना। उमेश सहनी के घर पहुंचकर आशा कार्यकर्ता आरती कुमारी ने प्रसूता अनीता देवी व शांति देवी की जांच के बाद उन्हें विभाग की ओर से सुरक्षित डिलिवरी के लिए किए गए पहल की जानकारी दी। टीम ने प्रसूताओं की जांच व दवा उपलब्ध कराने के साथ ही मोबाइल नंबर उपलब्ध कराया ताकि किसी भी प्रकार की आवश्यकता हाेने पर तत्काल सहायता उपलब्ध कराई जा सके। साथ ही गांव में स्वास्थ्य कैंप लगाकर 35 लाेगाें का इलाज भी किया गया।

 

भास्कर ने उठाया था मामला

उल्लेखनीय है कि दैनिक भास्कर के 19 जुलाई के अंक में “बाढ़ के पानी में घिरीं रजवाड़ा पंचायत की 9 गर्भवती महिलाएं ; प्रसव का अंतिम सप्ताह, लेकिन अस्पताल पहुंचने काे लेकर बना है संकट’ हेडिंग से खबर छपी थी। जिस पर संज्ञान लेते हुए डीएम आलाेक रंजन घाेष ने सिविल सर्जन काे मेडिकल टीम व एंबुलेंस लेकर रजवाड़ा जाने के साथ ही एनडीआरएफ टीम काे गर्भवती महिलाओं काे सुरक्षित निकालने का निर्देश दिया। साथ ही डीएम ने रजवाड़ा के अलावा जिले के कहीं भी इस प्रकार की गर्भवती महिलाओं काे सुरक्षित निकलने में परेशानी हाेने पर संबंधित सीअाे काे तत्काल सहायता का निर्देश दिया है।

 

कार्य में लापरवाही पर दाे आशा से मांगा स्पष्टीकरण

डीएम के निर्देश पर सीएचसी प्रभारी डाॅ. उपेंद्र चौधरी ने रजवाड़ा की अनुपस्थित आशा फैसिलेटर्स परनीता ठाकुर व आशा रेणु देवी से स्पष्टीकरण मांगा है। सूचना के बावजूद दाेनाें ने अब तक इस माह की प्रसूताओं की कोई सूची उपलब्ध नहीं कराई है। सीएचसी प्रभारी ने 24 घंटे के भीतर स्पष्टीकरण मांगा है। संतोषजनक जबाब नहीं देने पर दाेनाें पर चयनमुक्त करने की कार्रवाई की चेतावनी दी है।

 

राज्य मुख्यालय की टीम दिन भर लेती रही हाल

सुबह से शाम तक राज्य मुख्यालय की स्वास्थ्य टीम मुशहरी में जमे सिविल सर्जन से लेकर प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक से फोन पर मामले की जानकारी लेती रही। सीएस ने बताया कि स्वास्थ मंत्री से लेकर प्रधान सचिव और निदेशक तक का फोन आया। मुख्यालय ने निर्देश दिया कि इस माह नवजात को जन्म देने वाली महिलाओं को नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया जाए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना