पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अगलगी के प्रति लोगों में लाएं जागरूकता : डीएम

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आपदा प्रबंधन की अाेर से अगलगी की रोकथाम व पूर्व तैयारी पर कार्यशाला

अगलगी रोकने के लिए सभी विभागों के अधिकारी अभी से तैयारी पूरी कर लें। सर्वेक्षण कर अग्निकांडाें के संवेदनशील इलाकाें काे सूचीबद्ध कर उन जगहाें पर अग्नि निरोधात्मक उपाय करने के साथ ही प्रशिक्षण तथा मॉकड्रिल के माध्यम से आमजनों काे जागरूक करें। अग्निकांड प्रभावितों को 24 घंटे के भीतर नियमानुसार सहायता उपलब्ध कराने की व्यवस्था करें। ये बातें शनिवार काे जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की अाेर से कलेक्ट्रेट सभागार में अगलगी की रोकथाम, जोखिम न्यूनीकरण व तैयारी पर अायाेजित कार्यशाला सह समीक्षात्मक बैठक में डीएम डाॅ. चंद्रशेखर सिंह ने कहीं। संचालन करते हुए अपर समाहर्ता अापदा प्रबंधन अतुल वर्मा ने अस्पताल, स्कूल, सरकारी भवन, सिनेमा घर, शाॅपिंग माॅल, शो रूम व सघन बाजार तथा सार्वजनिक स्थलों
का फायर ऑडिट करने के लिए कहा। स्वास्थ्य विभाग को अस्पतालों के बर्न व आइसोलेशन वार्ड में जरूरी व्यवस्था सुनिश्चित कराने के निदेश दिए।

कंसल्टेंट शाकिब खान ने जिले काे राज्य के 12 अति संवेदनशील जिलों में एक बताया। उन्होंने अगलगी से बचाव के लिए सौर ऊर्जा काे बेहतर उपाय बताया। सहायक अग्निशमन अधिकारी प्रमाेद कुमार ने अगलगी का प्रमुख कारण बिजली शाॅर्ट सर्किट व गैस सिलेंडर लीकेज काे बताया। उनके नेतृत्व में फायर ब्रिगेड टीम ने अग्निशमन में प्रयोग किए जानेवाले उपकरणों को प्रदर्शित किया।

खबरें और भी हैं...