बेतिया / त्रिवेणी नहर में जमा बालू से सिंचाई बाधित, नहीं हटाने वाले अफसरों व कर्मियों पर होगी कार्रवाई: सीएम



जीविकोपार्जन योजना की लाभार्थी को चेक देते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। जीविकोपार्जन योजना की लाभार्थी को चेक देते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।
X
जीविकोपार्जन योजना की लाभार्थी को चेक देते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।जीविकोपार्जन योजना की लाभार्थी को चेक देते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।

  • सीएम ने कहा- समस्याओं के निराकरण के मकसद से ही चार योजनाओं का उद्घाटन व 54 योजनाओं का शिलान्यास किया गया है

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2019, 09:11 AM IST

मैनाटांड़ (बेतिया). मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि 2017 की बाढ़ में त्रिवेणी नहर में बालू जमा हो गया। इससे सिंचाई व्यवस्था बाधित हो रही है। इसको 2018 तक दुरुस्त करना था। नहीं हुआ। इसके लिए जो भी अफसर, कर्मचारी दोषी हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। यह काम 2020 तक हो जाएगा।

 

मुख्यमंत्री, उच्च विद्यालय मैदान (रमपुरवा) में शुक्रवार को करीब 306 करोड़ रुपए की चार योजनाओं का उद्‌घाटन एवं 54 योजनाओं का शिलान्यास करने के बाद सभा को संबोधित कर रहे थे।उक्त आयोजनों में शिरकत करने के बाद मुख्यमंत्री वाल्मीकिनगर पहुंचे। ईको पार्क का उद्‌घाटन किया। गंडक नदी के बांयी ओर सुरक्षा कार्य का निरीक्षण किया और अफसरों को जरूरी निर्देश दिए। 

 

जल-जीवन-हरियाली यात्रा की शुरुआत चंपारण से ही
नीतीश ने कहा-मेरी अगली यात्रा जल-जीवन-हरियाली के लिए होगी। इसकी भी शुरुआत चंपारण से होगी। लोग, पर्यावरण की रक्षा के लिए पुआल (पराली) को खेतों में नहीं जलाएं। पुआल से आमदनी कराने वाली मशीन को खरीदने के लिए सरकार, किसानों को 75 से 80 % अनुदान दे रही है। यह मशीन पुआल का बंडल बनाएगी।

 

अगले साल सूबे के हर गांव और टोलों तक पक्की सड़क 
बेतिया में करीब 306 करोड़ की योजनाओं के उद्‌घाटन और 54 योजनाओं का शिलान्यास करने के बाद सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा-हमारा लक्ष्य हर गांव व टोलों को पक्की सड़क से जोड़ना है। अगले साल तक यह काम हो जाएगा। सात निश्चय के तहत चार साल से काम हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव के समय भी यहां आया था, तब यहां के लोगों ने समस्याएं बताई थीं। इन्हीं समस्याओं के निराकरण के मकसद से आज मैनाटांड़ व सिकटा प्रखंड में चार योजनाओं का उद्घाटन व 54 योजनाओं का शिलान्यास किया गया है।

 

कहा-हर घर बिजली के बाद, अब हर खेत को बिजली मुहैया कराने का काम
मुख्यमंत्री ने कहा-हर घर बिजली के बाद, अब हर खेत को बिजली मुहैया कराने का काम हो रहा है। जिनका आवेदन मिला है, उनको इस साल और अगस्त के बाद जिनका आवेदन मिला है, उनको अगले साल खेतों के लिए बिजली कनेक्शन दिया जाएगा। हमारी सरकार बनने के पहले 700 मेगावाट बिजली की खपत होती थी। आज पूरे बिहार में साढ़े पांच हजार मेगावाट की खपत हो रही है। सभी लोग सोलर लाइट लगाएं।

 

हर घर शौचालय और शुद्ध पेयजल
नीतीश ने कहा-हर घर के लिए शौचालय व शुद्ध पेयजल की व्यवस्था की जा रही है। सरकार पोखर, तालाब व कुआं के जीर्णोद्धार का कार्य कर रही है। जल-जीवन-हरियाली अभियान के लिए व्यापक कार्ययोजना बनी है। एक करोड़ परिवार की महिलाएं, जीविका की दीदी, स्वयं सहायता समूह से जुड़कर आमदनी कर रही हैं।

 

प्रदर्शनी देखी, चेक-चाबी सौंपी
मुख्यमंत्री ने इन योजनाओं का उद्घाटन किया-भंगहा पाइप जलापूर्ति योजना, मैनाटांड़ में सुखलही पथ में हरपत बेनी नदी पर पहुंच पथ व आरसीसी पुल, नरकटियागंज बलथर मार्ग में करताहा नदी पर पहुंच पथ व आरसीसी पुल, सिकटा प्रखंड में शिकारपुर भवानीपुर पीसीसी रोड।

 

मुख्यमंत्री ने विकास कार्यों की पुस्तिका का विमोचन किया। कृषि, परिवहन, स्वास्थ्य, समाज कल्याण, ग्रामीण विकास, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति एवं श्रम संसाधन विभाग द्वारा चलायी जा रही योजनाओं से संबंधित प्रदर्शनी देखी। सतत जीविकोपार्जन योजना के लाभार्थियों एवं जीविका समूहों को चेक दिया। मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना अंतर्गत तीन लाभुकों को वाहन की चाबी दी। गोद भराई कार्यक्रम एवं मुख्यमंत्री अंर्तजातीय विवाह प्रोत्साहन अनुदान योजना के लाभुकों को प्रमाणपत्र दिए।

 

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना