पैसे के अभाव में 18 घंटे तक पड़ा रहा शव, चंदा जुटा कर किया अंतिम संस्कार

Muzaffarpur News - गरीबी अाैर बीमारी से जूझ रहे 45 वर्षीय राम देव मांझी की मौत हो गई। वह बरूराज थाना क्षेत्र के ताजपुर गांव का निवासी...

Bhaskar News Network

Oct 12, 2019, 08:20 AM IST
Motipur News - dead body for 18 hours due to lack of money cremation done by collecting donations
गरीबी अाैर बीमारी से जूझ रहे 45 वर्षीय राम देव मांझी की मौत हो गई। वह बरूराज थाना क्षेत्र के ताजपुर गांव का निवासी था। दाह संस्कार के लिए आवश्यक सामान खरीदने के लिए राशि नहीं होने के कारण उसका शव 18 घंटे तक उसकी झोपड़ी में ही पड़ा रहा। परिजनों ने सामाजिक संगठनों से मदद मांगी। जिसके बाद हिन्दुस्तान संपूर्ण आजाद पार्टी के अध्यक्ष धर्मचन्द्र यादव और उपाध्यक्ष संताेष कुमार उर्फ चौथी, मनोज साह ने अंतिम संस्कार के आवश्यक सामान की व्यवस्था कर शव का अंतिम संस्कार कराया। रामदेव मांझी के घर में अब प|ी रोझनी देवी व पांच छोटे- छोटे बच्चे हैं। अब उसके परिवार के समक्ष भरण-पोषण की समस्या उत्पन्न हो गई है।

आसपास रहने वाले भी मदद को नहीं आए

राशि के अभाव में समुचित इलाज नहीं हो पाया और 6 अक्टूबर को उनकी मौत हो गई। रोझनी ने बताया कि आसपास से कोई मदद नहीं मिली। अंतिम संस्कार के लिए आवश्यक सामान खरीद के लिए राशि नहीं होने के कारण शव 18 घंटे तक झोपड़ीनुमा घर में पड़ा रहा। डीलर ब्रजकिशोर सिंह ने बताया कि रामदेव मांझी का पीला अंत्योदय कार्ड है। जिसमें सितंबर माह का खाद्यान उठाव किया गया है। स्थानीय मुखिया लालबिहारी दास ने बताया कि रामदेव मांझी का मौत टीबी की बीमारी व गरीबी से हुई है। कबीर अंत्येष्ठि योजना मद से 3 हजार रुपए देने की बात कही।

अंत्योदय योजना से मिला राशन भी महीने के खर्च के लिए कम

रोझनी देवी ने बताया कि उसका परिवार बहुत ही गरीब है। हालांकि उसे अंत्योदय योजना का लाभ मिलता है, परन्तु उससे मिला राशन महीने भर के खर्च के लिए कम पड़ जाता है। 15 दिनों में ही अनाज खत्म हो जाता है। अनाज के अभाव में परिवार के लोग कई बार भूखे सो जाते हैं। भूख के कारण जब बच्चे रट लगाते हैं तो कई बार उनकी पिटाई कर उसे सुलाना पड़ता है। काम भी नहीं मिलता है। रोझनी ने बताया कि इस कारण उसके पति बीमार रहने लगे। उन्हें टीबी की बीमारी हो गई। अब तक प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं मिला है।

इधर, सूची में नाम होने के बावजूद नहीं मिला राशन कार्ड, किया प्रदर्शन

सरैया प्रखंड कार्यालय पर प्रदर्शन करते उपभोक्ता।

सरैया | प्रखण्ड के बहिलवारा गोविंद पंचायत के राशन कार्ड सूची में नाम होने के बावजूद राशन कार्ड नहीं होने के कारण विगत 4 वर्षों से राशन से वंचित अाक्रोशित महिला व पुरुष उपभोक्ताओं ने शांति देवी के नेतृत्व में शुक्रवार को प्रखंड कार्यालय पर प्रदर्शन किया। मौके पर उपस्थित शांति देवी, रिंकू देवी, राजकली देवी, विमल देवी, दिनेश्वर पासवान,लक्ष्मी पासवान,सीता कुंवर सहित अन्य उपभोक्ताओं ने बताया कि एसईसीसी जनगणना के बाद विगत 4 वर्षों से पंचायत के राशन लाभार्थियों की सूची में नाम होने के बावजूद राशन कार्ड उपलब्ध नहीं कराया गया। जनवितरण प्रणाली विक्रेता राशन कार्ड उपलब्ध नहीं होने के कारण आवंटन नहीं होने का बहाना बनाकर राशन देने से इनकार कर रहे हैं। मामले को लेकर दर्जनों बार अधिकारियों को आवेदन देने के बावजूद भी किसी ने सुधि नहीं ली। बाध्य होकर हम लोग प्रखंड कार्यालय पर प्रदर्शन करने मजबूरी वश पहुंचे हैं। इस बाबत मुखिया पति सुबोध शर्मा ने बताया कि पंचायत के लगभग 300 से ज्यादा अत्यंत गरीब परिवार राशन कार्ड के अभाव में राशन से वंचित है। एमओ ने अाक्रोशिताें को दिसंबर माह से राशन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया, तब जाकर वे शांत हुए।

X
Motipur News - dead body for 18 hours due to lack of money cremation done by collecting donations
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना