--Advertisement--

मुआवजे के लिए एनएच पर शव रख कर प्रदर्शन, दो घंटे ठप रहा यातायात

सड़क हादसे में मृत मो. इकबाल उर्फ सोनू का शव शनिवार को उसके पैतृक गांव सदातपुर पहुंचते ही लोगों ने मुआवजे की मांग को...

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 04:45 AM IST
Saraya - demonstrating performance on the nh for compensation two hours of traffic blocked
सड़क हादसे में मृत मो. इकबाल उर्फ सोनू का शव शनिवार को उसके पैतृक गांव सदातपुर पहुंचते ही लोगों ने मुआवजे की मांग को लेकर एनएच-28 को जाम कर दिया। शुक्रवार की शाम को सदर थाना के सामने एक ट्रक ने मो. इकबाल को कुचल दिया था। शनिवार को पोस्टमार्टम के बाद शव सदातपुर पहुंचते ही उग्र ग्रामीण सुधा डेयरी के समीप सदातपुर मोड़ पर शव को रख कर प्रदर्शन करने लगे। इस कारण दोपहर 1 बजे से 3 बजे यातायात बाधित रहा। जिला पार्षद पति दिलीप कुमार की पहल पर सीओ पहुंचे और मृतक के परिजनों को चार लाख रुपए मुआवजा का चेक दिया। वहीं, मुखिया अनिल चौबे ने कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत 3 हजार रुपए दिए। तब परिजनों ने शव को उठाया। मौके पर चुलबुल शाही ने भी प्रशासन का सहयोग किया। मो. इकबाल (22 वर्ष) पलंबर का काम करता था। मो. हैदर के चार संतानों में वह इकलौता पुत्र था। इसी वर्ष इकबाल की शादी होनी थी।

सड़क पर जाम लगाए लोगों को समझाती पुलिस।

जाम हटाए बगैर मौके से चले गए अधिकारी

दोपहर 3 बजे मुआवजे का चेक मिलने के बाद परिजनों ने शव को सड़क से हटा लिया। इसके बावजूद जाम नहीं हट सका। जाम हटाए बिना अधिकारियों के मौके से चले जाने के बाद वाहन चालक अव्यवस्थित ढंग से निकलने की कोशिश करने लगे। जिस कारण शाम करीब 6 बजे तक जाम के कारण परेशानी झेलनी पड़ी।

सूचना के बावजूद एक घंटा बाद पहुंचे सीओ

आक्रोशित लोगों द्वारा एनएच पर शव रख कर जाम लगाने और प्रदर्शन करने की सूचना एक घंटा पूर्व दिए जाने के बावजूद सीओ मौके पर नहीं पहुंचे। जिस कारण एनएच पर दोनों तरफ से वाहनों की लंबी कतार लग गई। इस दौरान छठ पर्व में दूरदराज से घर जा रहे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

ट्रक पर काम करता था मो. नाजिर

ट्रक मालिक के दरवाजे पर प्रदर्शन, 4 घंटे सड़क जाम

भास्कर न्यूज | पारू

शुक्रवार को सरैया थाना क्षेत्र के कदम चौक पर हादसे में मृत ट्रक मजदूर मो. नाजिर (45 वर्ष) का शव खुटाही बतरौलिया गांव स्थित घर पहुंचते ही लोग आक्रोशित हो उठे। लोग ट्रक मालिक सुरेंद्र गुप्ता के घर जा पहुंचे और घर के सामने शव को रख कर जाफरपुर से खुटाही जाने वाली ग्रामीण सड़क पर चार घंटे तक आवागमन को ठप कर दिया। लोग मृतक के परिजनों को मुआवजा देने की मांग कर रहे थे। सूचना मिलने पर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और लोगों को जाम हटाने के लिए समझाने लगी। लेकिन, लोग मानने को तैयार नहीं थे। मौके पर सामजिक कार्यकर्ता रज अंसारी, पूर्व मुखिया मो. शकील, मो. कलाम, मुखिया नरेंद्र प्रसाद सिंह भी लोगों को समझाने का प्रयास करते रहे। बाद में बीडीओ संजय कुमार सिन्हा के आदेश पर मुखिया द्वारा पारिवारिक लाभ योजना के तहत 20 हजार रुपए परिजनों को दिया, तब जाकर लोगों ने जाम हटाया। मो. नाजिर अपने पड़ोसी के ट्रक पर मजदूरी करता था। उसका ट्रक बालू लेकर हाजीपुर से गांव आ रहा था। सरैया के कदम चौक पर वह साइड देखने लगा। इसी दौरान वाहन ने उसे कुचल दिया।



X
Saraya - demonstrating performance on the nh for compensation two hours of traffic blocked
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..