आरडीएस कॉलेज में कक्षा व पढ़ाई में छात्रों की रुचि जगाने को चलेगा डोर टू डोर कैंपेन

Muzaffarpur News - एजुकेशन रिपोर्टर | मुजफ्फरपुर अब तक छात्र-छात्राओं के बिन सूनी पड़ी कॉलेज की कक्षाएं फिर से गुलजार होंगी। कैंपस...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 04:26 AM IST
Muzaffarpur News - door to drive campaign will help students to learn interest in class and study at rds college
एजुकेशन रिपोर्टर | मुजफ्फरपुर

अब तक छात्र-छात्राओं के बिन सूनी पड़ी कॉलेज की कक्षाएं फिर से गुलजार होंगी। कैंपस में छात्र-छात्राएं एकबार फिर दिखलाई पड़ेंगे। इसको लेकर बीआरएबीयू का पहला नैक ग्रेडेड संस्थान आरडीएस कॉलेज अब डोर टू डोर कैंपेन चलाएगा। कॉलेज के शिक्षक और छात्र शहर के विभिन्न मोहल्लों के साथ-साथ लॉज में पहुंचकर स्टूडेंट्स को जागरूक करेंगे। इतना ही नहीं इस क्रम में अभिभावकों से भी यह गुजारिश की जाएगी कि वे अपने बच्चे को कॉलेज में भेजे। इससे परिसर में एकेडमिक माहौल बनेगा। रामदयालु सिंह महाविद्यालय के इतिहास विभाग के शिक्षक डॉ एमएन रिजवी ने बताया कि समाज में जागरूकता पैदा करने की जरूरत है। कॉलेज सिस्टम के पठन-पाठन में लोगों का भरोसा बहाल करने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। समाज विशेषकर युवाओं को जागृत करने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि कई कॉलेजों के विभाग शिक्षक बिना ही संचालित हो रहे हैं। ऐसे में अगर छात्र कक्षाओं में पहुंचेंगे, तो कॉलेज प्रशासन भी पठन-पाठन की व्यवस्था करेगा। गेस्ट लेक्चर की बहाली होने के बाद और सरकार की ओर से नए शिक्षकों की भर्ती के बाद कॉलेज को शिक्षक मिलेंगे। ऐसे में अगर कक्षाओं में छात्र लौटेंगे, तो विवि के अकादमिक माहौल के लिए बेहतर होगा।

फॉर्म भरने के लिए 75 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य

कायदे से विवि के कॉलेजों में परीक्षा फॉर्म भरने के लिए 75 फीसदी उपस्थिति होना अनिवार्य है। लेकिन शायद ही किसी कॉलेज में छात-छात्राओं की उपस्थिति मानक के अनुरूप होती होगी। दूसरी ओर वोकेशनल कोर्स में इसे कुछ हद तक लागू किया गया है। कॉलेजों की स्थिति यह है कि नामांकन के बाद सीधे छात्र परीक्षा फॉर्म भरने कॉलेज पहुंचते हैं। उन्हें अपने कॉलेज के विभाग की भी पूरी जानकारी नहीं होती है। कैंपस से उनका परिचय होना तो दूर की बात है।

बीआरएबीयू के छात्र और शिक्षकों के साथ अभिभावक पीएम से कर सकेंगे सीधी बात

परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में भाग लेकर पा सकेंगे यह सुनहरा अवसर

29 जनवरी को परीक्षा के तनाव को दूर करने पर पीएम करेंगे चर्चा

एजुकेशन रिपोर्टर | मुजफ्फरपुर

बीआरएबीयू के छात्र, अभिभावक और शिक्षक पीएम नरेंद्र मोदी से सीधी बात कर सकेंगे। इस दौरान वे अपनी बात उन तक पहुंचा सकेंगे। दरअसल 29 जनवरी को परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में पीएम दिल्ली के तालकोटरा स्टेडियम में देशभर के यूजी, पीजी और अन्य छात्रों से परिचित होंगे। इसके लिए एक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है। इसमें छात्रों को भाग लेने के लिए सभी विवि को प्रेरित करना है। छात्रों को इसके लिए मायजीओवी इंडिया पोर्टल के माध्यम से आवेदन करना है। इसमें कैची कैप्शन प्रतियोगिता और माई सक्सेस मंत्र को शामिल किया गया है। साथ ही साथ प्रोग्राम के लाइव स्ट्रीमिंग के लिए भी कॉलेज और विवि को उचित व्यवस्था करनी है। इसको लेकर भी यूजीसी की ओर से सभी विवि को निर्देश दिया गया है। विवि के पदाधिकारियों की मानें, तो यूजीसी का निर्देश मिलते ही इसकी पूरी व्यवस्था कराई जाएगी।

दो तरह की है प्रतियोगिता

परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में यूजी और पीजी के छात्र शामिल हो सकते हैं। इसके लिए उनकी उम्र 25 वर्ष से कम होनी चाहिए। कैची कैप्शन के दौरान छात्र-छात्राओं को 150 शब्द में परीक्षा पे चर्चा 2.0 में उपलब्ध कराई गई तस्वीर पर अपना विचार लिखना है। दूसरी ओर माई सक्सेस मंत्र के तहत छात्र 60 सेकंड का वीडियो अपलोड करना है। इसे रिकॉर्ड कर इसका लिंक पोर्टल पर अपलोड करना है। टेक्स्ट के रूप में इसे 500 शब्दों तक शामिल किया जा सकता है। कार्यक्रम की लाइव स्ट्रीमिंग के फोटो और वीडियो सभी विवि को यूजीसी के यूनिवर्सिटी मॉनिटरिंग पोर्टल पर अपलोड करना है।

X
Muzaffarpur News - door to drive campaign will help students to learn interest in class and study at rds college
COMMENT