मुजफ्फरपुर / शटरिंग खोलने शौचालय के टैंक में उतरे 4 मजदूरों की मौत, जहरीली गैस के हुए शिकार



टंकी में लगे इस शटरिंग को खोलने की कोशिश में चारों मजदूर की मौत हुई। टंकी में लगे इस शटरिंग को खोलने की कोशिश में चारों मजदूर की मौत हुई।
रोती-बिलखती मजदूर की परिजन। रोती-बिलखती मजदूर की परिजन।
मधुवन कांटी गांव पहुंची पुलिस। मधुवन कांटी गांव पहुंची पुलिस।
X
टंकी में लगे इस शटरिंग को खोलने की कोशिश में चारों मजदूर की मौत हुई।टंकी में लगे इस शटरिंग को खोलने की कोशिश में चारों मजदूर की मौत हुई।
रोती-बिलखती मजदूर की परिजन।रोती-बिलखती मजदूर की परिजन।
मधुवन कांटी गांव पहुंची पुलिस।मधुवन कांटी गांव पहुंची पुलिस।

  • टंकी की दीवार तोड़ कर चारों की डेडबॉडी को निकाला गया
  • मिस्त्री के मना करने के बाद खुद ही उतर गए टैंक में

Dainik Bhaskar

Sep 11, 2019, 09:20 AM IST

कांटी (मुजफ्फरपुर). ग्रामीण परिवेश में रिश्ते की डोर आज भी कितनी मजबूत है, इसकी बानगी मीनापुर प्रखंड की बड़ा भारती पंचायत अंतर्गत कांटी मधुबन गांव में मंगलवार की सुबह देखने को मिली। निर्माणाधीन शौचालय की टंकी की सेंटरिंग खोलने के लिए टैंक में घुसे गृहस्वामी मधुसूदन सहनी को बचाने में उनके पुत्र, भाई और भतीजा ने एक एक कर दम तोड़ दिया। इन चारों की मौत के बाद दो और रिश्तेदार टंकी में घुसने के प्रयास में बेहोश हो गए। हालांकि, दोनों की जान बच गई है। 

 

टंकी की दीवार तोड़ कर चारों की डेडबॉडी को निकाला गया। घटना के बाद गांव में कोहराम मचा हुआ है। जिला प्रशासन की ओर से मृतक के आश्रितों को चार-चार लाख रुपए मुआवजा की घोषणा की गई है। माना जा रहा है कि टंकी में जमा पानी के कारण निकले मिथेन व अन्य जहरीले गैस की वजह से मधुसूदन, उनके पुत्र कौशल सहनी, चचेरा भाई वीर कुंवर सहनी और भतीजा धर्मेंद्र सहनी की मौत हुई है।

 

मिस्त्री के मना करने के बाद खुद ही उतर गए टैंक में
मंगलवार सुबह 7 बजे राज मिस्त्री ने टंकी देख बताया कि दो दिन बाद सेंटरिंग खोलेंगे। मिस्त्री के जाते ही मधुसूदन टंकी में उतर गया। गैस की वजह से मधुसूदन छटपटाने लगा तो उसका बेटा कौशल टंकी में उतरा। दोनों की कोई हलचल न देख कर मधुसूदन का भतीजा धर्मेंद्र उतरा। फिर मधुसूदन का चचेरा भाई वीर कुंवर अंदर घुसा। चारों की मौत हो गई। बाद में दो पट्‌टेदारों ने भी अंदर जाने की कोशिश की पर दम घुटने लगा तो लौट आए और बेहोश हो गए। (जैसा कि ग्रामीण रामनाथ सहनी ने बताया)

 

सेप्टिक टैंक की नमी से बनी जहरीली गैस से मौतें
ऐसी टंकियों में नमी की वजह से मिथेन गैस बन जाती है और यह बेहद जहरीली है। संभव है कि टैंक के अंदर कुछ अन्य तत्व हों या आसपास के किसी स्रोत से टैंक में रिसाव हो रहा हो। आमतौर पर शौचालय या कुएं में सड़े-गले तत्वों के कारण फर्मन्टेशन से मिथेन, कार्बन डायआक्साइड, जैसी जहरीली गैस तैयार होती है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना