मुजफ्फरपुर / 3 लाख फिरौती के लिए अपहृत किसान की हत्या, गंडक के घाट पर मिला शव

राज किशोर मिश्र राज किशोर मिश्र
X
राज किशोर मिश्रराज किशोर मिश्र

  • पिता के अपहरण के बाद शिकायत लेकर कभी बोचहां तो कभी अहियापुर थाने का चक्कर काटता रहा किसान का बेटा
  • पिता के अपहरण से एक दिन पहले बेला से पुत्र हुआ अगवा, बेला पुलिस ने कराई थी पंचायती

दैनिक भास्कर

Mar 04, 2020, 10:09 AM IST

मुजफ्फरपुर. बीते 29 फरवरी से 3 लाख रुपए की फिरौती के लिए अपहृत बोचहां के जगाई मझौली निवासी 50 वर्षीय किसान राज किशोर मिश्र उर्फ गुड्डू की अपराधियों ने हत्या कर दी। अपहरण के बाद फिरौती के लिए कॉल आते ही राज किशोर का पुत्र अभिषेक राज बोचहां थाने में शिकायत लेकर पहुंचा। बोचहां थाने की पुलिस ने उस नंबर का लोकेशन लिया, जिससे कॉल आई थी तो अहियापुर का निकला। 

एफआईआर दर्ज करने के बजाय अभिषेक को अहियापुर थाने में शिकायत दर्ज कराने के लिए भेज दिया गया। अहियापुर थाने में आने पर उसे फिर से बोचहां थाने भेजा गया। इस तरह अपहृत पिता के मामले में कार्रवाई के लिए अभिषेक हर दिन कभी बोचहां तो कभी अहियापुर थाने में दौड़ता रहा। मंगलवार की सुबह राज किशोर का शव रजवाड़ा घाट से पश्चिम कार्यालय घाट के पास बूढ़ी गंडक नदी से मिला। शव काफी गला हुआ था। मझौली पंचायत के मुखिया पति राम आगार राय ने बताया कि राज किशोर का भाई श्याम किशोर मिश्र तीन लाख रुपए लेकर जाने वाला था और साथ में हमें भी चलने को कहा था।

अभिषेक ने बताया कि 29 फरवरी की सुबह पिताजी घर से सरैया में एक दोस्त के यहां जाने की बात कह कर निकले थे। उसी शाम में पिताजी ने एक अंजान नंबर से फोन कर बताया कि गोलू नाम का एक लड़का व उसके साथियों ने अपहरण कर लिया है। छोड़ने के लिए तीन लाख रुपए की डिमांड कर रहे हैं। जान खतरे में है, ये हमें कभी भी मार सकते हैं। इसके बाद फरियाद लेकर बोचहां थाना गया। पुलिस ने अहियापुर थाने जाने को कहा। अहियापुर गया तो वहां की पुलिस बोचहां भेज दी, लेकिन पुलिस ने पिताजी की खोज-खबर नहीं ली।

बेटे ने कहा-पुलिस चाहती तो पिता जी की जान बच जाती
28 फरवरी को किसान का बेटा अभिषेक राज बेला से अगवा हो गया था। बेला थाने में राज किशोर ने फिरौती के लिए बेटे के अपहरण की शिकायत की थी। पुलिस ने फिरौती मांगे जाने वाले नंबर पर कॉल किया तो अभिषेक को बंधक बनाने वाले सदर इलाके के लोग उसे बेला थाने पर ही लेकर पहुंच गए। फिर बेला थाने पर ही पुलिस ने दोनों पक्षों में समझौता कराया। अभिषेक राज ने बताया कि बेला पुलिस ने तीन सादे चेक पर हस्ताक्षर करवा कर आरोपियों को दिलवाया। चाचा के नाम की पिकअप वैन भी गिरवी के रूप उन्हें दिलवा दी। इस तरह वह मुक्त हुआ था।

मुशहरी में बूढ़ी गंडक नदी से मिला 4 दिन से अपहृत का शव
अभिषेक ने 5 लोगों का नाम व मोबाइल नंबर दिया है। इन लोगों से रुपए के लेनदेन का विवाद बताया है। इराजकिशोर के अपहरण की एफआईआर एक मार्च को ही दर्ज कर ली गई थी। मोबाइल कॉल डिटेल पर छानबीन की जा रही थी। -पूरण कुमार झा, एएसपी सह बोचहां थानेदार

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना