पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मां व छाेटे भाई का पहले छूट गया था साथ, अब उठा बड़े भाई का भी साया

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

छोटे भाई और मां के बाद रानी देवी के सिर से अब बड़े भाई का भी साया उठ गया। अब वह किसकी कलाई पर राखी बांधेगी? शनिवार को एसकेएमसीएच में चीत्कार मार कर राेते हुए रानी बार-बार यही पूछ रही थी। वह बेहोश हो जा रही थी। उसके बड़े भाई मीनापुर थाना के चैनपुर निवासी अरुण ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया। दो वर्ष पूर्व रानी के छाेटे भाई सुनील की बीमारी से मौत हो गई थी। चार वर्ष पूर्व मां का निधन हाे चुका है। रानी पिता संतलाल सहनी, भाभी पूनम देवी, अरुण की ढाई साल की बेटी चांदनी अाैर बहन सरमनिया के साथ सदमे की स्थिति में है। अरुण की प|ी पूनम देवी की तबीयत बिगड़ गई है। दिवंगत अरुण को देखने उसके गांव के सैकड़ों लोग एसकेएमसीएच पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे थे। सभी की आंखें नम थीं। राजमिस्त्री संतलाल सहनी का 30 वर्षीय पुत्र अरुण सहनी डीहजीवर निवासी भवन निर्माण से जुड़े ठेकेदार रामवरण सहनी के साथ यूपी गया था। ठेकेदार की ससुराल चैनपुर में ही है।

अाैर बहन सरमनिया के साथ सदमे की स्थिति में है। अरुण की प|ी पूनम देवी की तबीयत बिगड़ गई है। दिवंगत अरुण को देखने उसके गांव के सैकड़ों लोग एसकेएमसीएच पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे थे। सभी की आंखें नम थीं। राजमिस्त्री संतलाल सहनी का 30 वर्षीय पुत्र अरुण सहनी डीहजीवर निवासी भवन निर्माण से जुड़े ठेकेदार रामवरण सहनी के साथ यूपी गया था। ठेकेदार की ससुराल चैनपुर में ही है।

अरुण सहनी के घर पर जुटी लोगों की भीड़।
खबरें और भी हैं...