मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: खुला नाबालिग की मौत का राज, श्मशान में जमीन खोदकर निकाला कंकाल

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मुजफ्फरपुर (बिहार)| बालिका गृह कांड में रिमांड पर लिए गए ब्रजेश ठाकुर के प्रेस के स्टाफ और साहू रोड निवासी गुड्‌डू पटेल ने 13 दिनों की पूछताछ के बाद एक किशोरी की मौत का राज खोल दिया है। किशोरी के शव को श्मशान में दफना दिया गया था। चालक की निशानदेही पर सीबीआई टीम ने बुधवार को सिकंदरपुर श्मशान से किशोरी का कंकाल खोज निकाला। गुड्‌डू ने श्मशान में शव दफनाए गए स्थल की निशानदेही की। बॉबकट मशीन से खुदाई करने पर मानव कंकाल, नर मुंड और हड्डियों के अवशेष मिले। सीबीआई विशेष पॉक्सो कोर्ट में गुरुवार को इन हड्डियों को पेश करेगी। कंकाल मिलने के बाद अब यह मामला बालिका गृह की 34 किशोरियों से यौन हिंसा, दुष्कर्म और उन्हें सुविधा मुहैया कराने के नाम पर योजना की राशि गबन का नहीं रह जाएगा। इस कांड के आरोपियों पर अब हत्या और लाश छिपाने की साजिश को लेकर भी कार्रवाई शुरू होगी।

तीन भाग में मिला कंकाल, ये हड्डियां एक ही व्यक्ति के अलग-अलग अंग की

कंकाल मिलने के संदर्भ में सीबीआई के अधिकारी ने कुछ भी बताने से परहेज किया। लेकिन, खुदाई करने वाले मजदूरों ने बताया कि बरामद हड्डियों से लग रहा है कि वह एक ही लाश की हैं। एक व्यक्ति के अलग-अलग अंग की हड्डियां हैं। तीन भाग में खोपड़ी का अंश मिला है। आरोपियों पर अब हत्या का केस भी चलेगा।

बता दें कि मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में यौन शोषण का खुलासा हुआ था। यहां 29 नाबालिग लड़कियों में से 6 लड़कियां गर्भवती हो गई थीं। गर्भवती लड़कियों की उम्र 7 से 14 के बीच थीं। इस यौन उत्पीड़न की घटना की जांच की मांग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सीबीआई से की थी।

खबरें और भी हैं...