मुजफ्फरपुर / अपराधियों ने ताबड़तोड़ की आठ राउंड फायरिंग, टूर-ट्रैवल एजेंसी संचालक को मारी 4 गोली



bihar news crime muzaffarpur businessman shot 4 times saved his life by help of garment shopkeeper
X
bihar news crime muzaffarpur businessman shot 4 times saved his life by help of garment shopkeeper

  • 20 सेकेंड में वारदात को अंजाम देकर बाइक से भागे अपराधी 
  • सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से पुलिस कर रही पहचानने का प्रयास

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 10:26 AM IST

 

मुजफ्फरपुर. निजी टूर एंड ट्रेवल्स एजेंसी के संचालक निशांत ठाकुर उर्फ सोनू को बाइक सवार अपराधियों ने दुकान में घुसकर ताबड़तोड़ 8 राउंड फायरिंग कर उसे गोली मार दी। निशांत को 4 गोली लगी हैं। 3 पेट में व एक हाथ में है। घटना ब्रह्मपुरा स्थित इमलीचट्टी की है। जहां निशांत सुबह करीब 7 बजे दुकान खोल कर अंदर बैठा था। 7 बजकर 27 मिनट 45 सेकंड पर सफेद रंग का शर्ट पहने एक अपराधी उसकी दुकान में घुसकर 4 गोली मार दी। निशांत के पेट में तीन व बांह में एक गोली लगी है। वारदात को अंजाम देकर गोली मारने वाला अपराधी 7 बजकर 28 मिनट 5 सेकंड पर दौड़ते हुए बाहर आ गया। 

 

अपराधी के आने व वारदात को अंजाम देकर भागने का दृश्य बगल में लगे सीसीटीवी में कैद हो गया है। वारदात के बाद एसएसपी मनोज कुमार, सिटी एसपी नीरज कुमार सिंह समेत ब्रह्मपुरा, काजी मोहम्मदपुर, नगर थाना की पुलिस समेत एसआरएफ के जवान पहुंचे। एसएसपी व अन्य पुलिस अधिकारियों ने घटनास्थल पर छानबीन की। जांच के दौरान, निशांत के कार्यालय से पिस्टल का 4 खोखा बरामद किया गया है। 

 

कार्यालय में जगह-जगह खून पसरा था। फर्श पर गिरा हुआ दो मोबाइल भी मिला। पुलिस ने स्टेशन रोड तक कई दुकान व होटलों में लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाला। सिटी एसपी नीरज कुमार सिंह ने बताया कि 4 खोखा बरामद किया गया है। घटना का कारण अभी स्पष्ट नहीं है। ऑपरेशन में निशांत के शरीर से तीन गोली निकाली गई। उसकी हालत आईसीयू में स्थिर है। देर शाम तक बयान दर्ज नहीं किया जा सका। इससे पहले अस्पताल में चिकित्सक के नहीं रहने पर निशांत के इलाज में देरी हुई। इसे लेकर परिजन गुस्से में आकर हंगामा करना शुरू कर दिया। 

 

हर दिन सुबह 7 बजे निशांत ही खोलते हैं दफ्तर 
कार्यालय कर्मी उपेंद्र कुमार ने बताया कि निशांत मूल रूप से औराई के बभनगामा का रहने वाला है। वर्तमान में बैरिया स्थित आवास नगर में परिवार के साथ रहता है। उसके पिता ललित मोहन ठाकुर रिटायर्ड रेल कर्मी हैं। करीब 5 साल से ज्यादा हो गए वहां कार्यालय खोले हुए। हाल में उसका किसी से कोई झगड़ा नहीं हुआ था। हर दिन सुबह करीब 7 बजे वह कार्यालय पहुंचते है और शाम के 7 बजते-बजते वापस घर चले जाते हैं। उनकी एक पुत्री है। निशांत का रेलवे स्टेशन के एक क्लर्क से विवाद चलने की बात बताई गई है। कुछ दिन पहले चक्कर रोड के एक पुराने साथी से एडमिशन कंसल्टेंसी एजेंसी को लेकर भी अदावत की बात सामने आ रही है। 

 

फर्जी नंबर वाली बाइक छोड़ भागा अपराधी 
वारदात के बाद कंपनीबाग रोड में मुजफ्फरपुर क्लब के पास ब्लैक पल्सर लावारिश स्थिति में मिली। पुलिस को शक है निशांत को गोली मारने वाले दोनों अपराधी इसी बाइक से आए होंगे। वारदात के बाद लावारिश छोड़ कर अन्य वाहन से फरार हो गए। उसके कई साथी कंपनीबाग रोड, जूरनछपरा और स्टेशन रोड में रहे होंगे, ताकि फंसने पर साथी को आसानी से निकाल सके। मुजफ्फरपुर क्लब के पास से लावारिश मिली बाइक को जब्त कर लिया गया है। बाइक पर पेंट से पटना का नंबर लिखा है। पुलिस का मानना है कि अपराधियों ने गलत नंबर लगाया होगा। बाइक भी चोरी की होगी। 

 

भगवानपुर का टिकट कटाने की बात कही, फिर तड़तड़ाई गोलियां दाग दी 
सुबह करीब 7 बजे कार्यालय खोलने के बाद अपने काउंटर पर बैठा था। सफेद रंग के शर्ट में एक युवक अंदर आया। उसने भगवानपुर के लिए टिकट की बात कही। मैंने पूछा भगवानपुर कहां, जवाब दिया कि उसका एक साथी बाहर है। वो आ रहा है। इसके बाद मैं कम्प्यूटर खोलने लगा। तब तक वह बाहर जाकर दुबारा अंदर आया। कम्प्यूटर खोल कर उसकी तरफ देखा ही था की वह पिस्टल निकालकर तड़ातड़ फायरिंग करने लगा। मैं चिल्लाने लगा-काहे गोली मार रहे हो। करीब 8 राउंड फायरिंग के बाद तेजी से बाहर भाग गया। उसे पकड़ने की कोशिश की। परंतु, मैं कार्यालय के बाहर ही लड़खड़ा कर गिर गया। दर्द से छटपटा रहा था। देखा, एक काले रंग का शर्ट पहने हुआ था। वह बहार में बाइक स्टार्ट कर रखा था। दोनों बाइक से तेजी से भाग निकले। पास के एक चाय दुकानदार ने ऑटो से बैरिया स्थित मां जानकी अस्पताल पहुंचाया।

(जैसा कि घायल निशांत ठाकुर ने बताया)

 

COMMENT