9वें अखिल भारतीय छात्र सम्मेलन में राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर होगा विमर्श

Muzaffarpur News - एजुकेशन रिपोर्टर|मुजफ्फरपुर शिक्षा के निजीकरण-व्यापारीकरण; सांप्रदायीकरण अाैर फांसीवादी केंद्रीकरण के...

Nov 11, 2019, 08:55 AM IST
एजुकेशन रिपोर्टर|मुजफ्फरपुर

शिक्षा के निजीकरण-व्यापारीकरण; सांप्रदायीकरण अाैर फांसीवादी केंद्रीकरण के खिलाफ 9वें अखिल भारतीय छात्र सम्मेलन का आयोजन हैदराबाद में 26 से 29 नवंबर तक होगा। ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन (एआईडीएसओ) 9वें अखिल भारतीय छात्र सम्मेलन का आयोजन करने जा रहा है। इसमें प्रख्यात शिक्षाविद् राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2019 पर संगोष्ठी और विचार-विमर्श करेंगे। यह जानकारी ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन के बिहार राज्य अध्यक्ष रोशन कुमार रवि एवं राज्य सचिव विजय कुमार ने दी। उन्हाेंने कहा कि पुनर्जागरण काल के मनीषियों का सपना है कि सभी के लिए वैज्ञानिक, धर्मनिरपेक्ष और जनतांत्रिक शिक्षा हो।

यह मांग भारतीय आजादी आंदोलन में देश को अंग्रेजों की गुलामी से आजाद कराने के साथ साथ उठाई गई, लेकिन आजाद भारत में यह मांग पूरी नहीं हुई। सभी केंद्र और राज्य सरकारों ने एक तरफ शिक्षा को संकुचित किया और दूसरी तरफ जनतांत्रिक और वैज्ञानिक तत्व को खत्म किया है। 1986 में केंद्र की सरकार ने शिक्षा को ‘निवेश का अद्वितीय क्षेत्र’ माना और राष्ट्रीय शिक्षा नीति के माध्यम से खुले तौर पर शिक्षा के निजीकरण और व्यावसायीकरण की प्रक्रिया शुरू हुई। तत्पश्चात कई समितियों और आयोगों का गठन किया गया है और उनकी सिफारिशों ने इस प्रक्रिया को और तेज कर दिया। इसके बाद संसद में बहुमत वाली भाजपा सरकार उन नीतियों को और भी अधिक सख्ती और नृशंसता से लागू कर रही है। इस सम्मेलन को सफल बनाने के लिए, देश के कई प्रतिष्ठित हस्तियों ने भी इस कार्यक्रम में अपना समर्थन देने की अपील की है। शिक्षा संस्कृति और मानवता को बचाने के प्रयास में, एआईडीएसओ देश के छात्रों से सम्मेलन में सक्रिय रूप से भाग लेने का आग्रह किया है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना