पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक-दूसरे से जरूरी दूरी व आइसोलेशन ही संक्रमण से बचाव का सबसे कारगर उपाय

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

विश्व में फैली महामारी के चलते ही सही, लेकिन हमारे पास एक अच्छा मौका है कि हम इन दिनों अपने परिवार को कुछ ऐसा सिखाएं जिसकी हमारे बच्चों और परिवार के अन्य लोगों को जानकारी कम है या आज की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में हम उन्हें नहीं बता पाए। अभी अापके पास मौका है कि परिवार को समय देकर इन चीजों पर बातचीत करें।

{रिश्ते: अपने बच्चों को रिश्तों के महत्व को समझाएं और उन्हें अपने सभी परिवार के लोगों और रिश्तेदारों के बारे में बताएं, ताकि उन्हें अपनों की पहचान हो सके।

{एजुकेशन: बच्चों की पढ़ाई को लेकर इस समय आप बेहतर प्लानिंग कर सकते हैं और साथ ही साथ उन्हें क्या करना है कैसे करना है इसके बारे में भी परिपक्व करें।

{सफाई: जीवन में आगे बढ़ने के लिए सबसे जरूरी साफ-सफाई है, बच्चों को इसके फायदे व महत्व बताएं। साफ-सफाई से भी मन प्रसंन्न रहेगा।

{संस्कार: हमें जीवन में सफल होने के लिए संस्कारों की सख्त जरूरत है। बच्चों को अच्छे संस्कारों के बारे में बताएं और पूरा समय दें।

{प्लानिंग: इस समय अाप अपने भविष्य के लिए भी कुछ प्लानिंग कर सकते हैं। इसके साथ ही अच्छी किताबों व अखबारों के साथ समय निकालें।

बेहद जरूरी न हो, तो अाज घर से नहीं निकलें : डीएम

मुजफ्फरपुर | डीएम डाॅ. चंद्रशेखर सिंह ने जिलेवासियाें से जनता कर्फ्यू काे लेकर 22 मार्च को घर से बाहर नहीं निकलने की अपील की है। कहा कि कोरोना वायरस मौजूदा समय में राष्ट्र के लिए ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया के लिए घातक सिद्ध हो रहा है। इसे देखते हुए अति आवश्यक होने पर ही लाेग घर से निकलें। डीएम ने कहा कि इस संकट की घड़ी में सरकार के प्रयास को सफल बनाना अधिकारी, कर्मचारी व देश के सभी नागरिकों का कर्तव्य व जिम्मेदारी है। कहा कि कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए “सोशल डिस्टेंसिंग” और आइसोलेशन ही बचाव का एक कारगर रास्ता है। उन्हाेंने इस दिन सभी अनिवार्य सेवाअाें के जारी रहने की बात कही तथा लाेगाें काे अफवाहों से बचने की सलाह दी।

जनता कर्फ्यू मानवता अाैर स्वास्थ्य के लिए अावश्यक : | प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विवि की बिहार सेवा केंद्रों की जाेनल इंचार्ज राजयाेगिनी बीके रानी दीदी ने रविवार काे हाेने वाले जनता कर्फ्यू काे मानवता अाैर स्वास्थ्य के लिए अावश्यक बताया। उन्होंने कहा कि सेवाकेंद्रों से संबंधित सभी ब्रह्माकुमारीज केंद्र पूर्ण रूप से बंद रहेंगे। उन्हाेंने लाेगाें से जनता कर्फ्यू काे सफल बनाने की अपील की।

पुरानी धर्मशाला स्थित महामाया स्थान मंदिर 31 तक बंद | मुजफ्फरपुर|बिहार राज्य धार्मिक न्यास के निर्देश पर पुरानी धर्मशाला चाैक स्थित महामाया स्थान मंदिर काे 31 मार्च तक श्रद्धालुअाें के लिए बंद कर दिया गया है। मंदिर के प्रबंधक सूरज प्रसाद ने बताया कि मंदिर में 31 मार्च तक किसी तरह का अायाेजन नहीं किया जाएगा। इस दाैरान केवल मंदिर के पुजारी तीनाें पहर पूजा-अर्चना करेंगे।

विवि कैंपस सेनेटाइज कराने के लिए कुलसचिव ने नगर निगम काे लिखा पत्र

मुजफ्फरपुर | काेराेना वायरस के बढ़ते खतरे के बावजूद साफ-सफाई नहीं हाेने पर बीअारए बिहार विश्वविद्यालय प्रशासन ने नाराजगी जताई है। इसको लेकर कुलसचिव डाॅ. मनाेज कुमार ने नगर निगम के अायुक्त काे पत्र लिखा है। उन्हाेंने कहा है कि विश्वविद्यालय प्रशासन निगम काे बड़ा राजस्व देता है। लेकिन, कैंपस में ठीक तरीके से साफ-सफाई नहीं हाे रही है। काेराेना से बचाव के लिए कैंपस की साफ-सफाई अावश्यक है। वीसी अावास के ठीक सामने ही काफी गंदगी पसरी है। कैंपस में ही शिक्षक एवं कर्मचारी अावास भी हैं, जहां छिड़काव अादि जरूरी है। उन्हाेंने कहा कि नगर अायुक्त से टेलीफाेन पर भी बातचीत की गई है। जिसमें अायुक्त ने जल्द ही सफाई कराने एवं विश्वविद्यालय कैंपस काे सेनेटाइज कराने का भराेसा दिलाया है।

जनता कर्फ्यू
राष्ट्रहित में


मुजफ्फरपुर | कोरोना वायरस विश्वभर में महामारी का रूप ले चुका है। दुनिया के लगभग सभी देशों में कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन की स्थिति पैदा हो गई है। इससे बचाव के लिए आपस में एक डिस्टेंस मेंटन करना होगा। पर्सनल साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। इसका वायरस छींक के जरिए फैलता है। जहां लोगों के घरों और लोगों के बीच की दूरी बेहद कम होती है। वहां, इस हालात में कोरोना वायरस के फैलने का खतरा और बढ़ जाता है। ऐसे में सोशल डिस्टेंस के लिए हमें प्रधानमंत्री की अपील पर जनता कर्फ्यू को सफल बनाना है। ताकि कोरोना वायरस के खतरे को खतरनाक स्तर पर पहुंचने से पहले खत्म किया जा सके।

खुद काे अाइसाेलेट करने के अलावे दूसरा काेई विकल्प नहीं है। इसलिए कम से कम एक दिन अपने घर में खुद काे अाइसाेलेट कीजिए। बाजार में काैन कहां से अाया है, कोई नहीं जानता। भीड़ में किसी के जरिए किसी को भी संक्रमण फैल जाएगा।
-डाॅ. ब्रज माेहन

काेराेना वायरस के संक्रमण के खतरे से बचाव के लिए रविवार काे खुद घर में सुरक्षित रहें। बुजुर्गाें काे ताे अाैर ज्यादा इस पर ध्यान देने की जरूरत है। हम लाेगाें काे डाॅक्टराें का भी मनाेबल बढ़ाने के लिए अागे अाना हाेगा।
- त्रिलाेकी प्रसाद वर्मा, महामंत्री, सीनियर सिटीजन काउंसिल

{मेयर सुरेश कुमार व डिप्टी मेयर मानमर्दन शुक्ला ने लोगों से अपील की है कि जनता कर्फ्यू में सहयोग करें। भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें।

काेराेना से बचाव के लिए सबसे पहले सावधानी बरतने की जरूरत है। लाेगाें से अपील है कि वे अफवाह पर ध्यान नहीं दें। विदेश से लाैटे हैं ताे सेल्फ काेरेंटिन के तहत घर पर रहे। स्वास्थ्य विभाग काे हेल्पलाइन नंबर पर जानकारी दें। लगातार 14 दिनाें तक माॅनिटरिंग के बाद यदि कोरोना संक्रमण के लक्षण सामने अाते हैं ताे एसकेएमसीएच में जांच कराई जाएगी। इसके लिए आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है।
डॉ. शैलेश प्रसाद सिंह, सिविल सर्जन

कोरोना संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा भीड़ में है। एेसे में ज्यादा आवश्यक न हों तो अस्पताल न जाएं। सभी अस्पतालों में नियमित ऑपरेशन लगभग बंद किए जा रहे हैं। कोरोना से घबराने नहीं, सतर्क रहने की जरूरत है। अगर आप में कोरोना वायरस के लक्षण हैं और विदेश से लौटे हैं तो सीधे एसकेएमसीएच आइसोलेशन वार्ड जाकर अपनी जांच कराएं।
संजय कुमार, अाईएमए अध्यक्ष

जनता कर्फ्यू राष्ट्रहित में है इसमें जाति, धर्म व राजनीति से उठ कर सबकाे मिलकर सहयाेग करने की जरूरत है। रविवार काे काेई भी व्यक्ति अपने घराें से बाहर नहीं निकले। यह मानव जाति काे धरती पर सुरक्षित करने की प्रधानमंत्री की अनाेखी पहल है।
पं. विनय पाठक, प्रधान पुजारी बाबा गरीबनाथ मंदिर

जनता कर्फ्यू प्रधानमंत्री की सराहनीय पहल है। काेराेना जैसी विपदा से निपटने का एक ही उपाय है कि लाेग सुरक्षा के लिए घराें से नहीं निकले। भीड़-भाड़ वाले इलाके में जाने से परहेज करें। उत्सव व सार्वजनिक स्थानाें पर नहीं जाएं।
सरदार अवतार सिंह, अध्यक्ष, रमना गुरुद्वारा कमेटी

यह मानव जीवन काे बचाने के लिए किया गया आह्वान है। इसलिए रविवार काे घराें से नहीं निकले ताकि इस पर नियंत्रण हाे सके। काेराेना वायरस से बचाव का यही बेहतर तरीका है। अतिअावश्यक परिस्थितियां उत्पन्न हाें तभी घराें से निकलें।
फादर वीरेंद्र कुमार सिंह, क्राइस्ट चर्च

जनता कर्फ्यू एक अच्छी पहल है। जिस तरह से काेराेना वायरस पूरे संसार में फैलता जा रहा है, इसे नजरअंदाज करना खतरनाक साबित हाे सकता है। इस महामारी काे ध्यान में रखते हुए भीड़-भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचें।
मुफ्ती शमीमुल कादरी, काजी-ए-शहर

घर में ही डॉक्टर न बनें: यदि आपको इन दिनों स्वास्थ्य से संबंधित कोई भी दिक्कत होती है, जैसे फीवर, खांसी, बार-बार छींक आना या फिर कोई और दिक्कत तो आप सीधे डॉक्टर से संपर्क करें। कई लोग यह सोचकर घर में ही इलाज शुरू कर देते हैं कि यह मौसमी बुखार है और यही गलती कई बार जानलेवा तक हो जाती है।

घर में ऐसे यूज करें समय..
खबरें और भी हैं...