चित्रांश समाज से प्रतिनिधि के राजनीति में आगे आने की जरूरत : रणवीर नंदन / चित्रांश समाज से प्रतिनिधि के राजनीति में आगे आने की जरूरत : रणवीर नंदन

Muzaffarpur News - चित्रांश समाज ने हमेशा समाज के अंतिम पायदान के लोगों को शिक्षा के माध्यम से ऊपर उठाने का कार्य किया है। लेकिन, यह...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2018, 03:57 AM IST
Muzaffarpur - need to come forward in the politics of delegation from society ranvir nandan
चित्रांश समाज ने हमेशा समाज के अंतिम पायदान के लोगों को शिक्षा के माध्यम से ऊपर उठाने का कार्य किया है। लेकिन, यह समाज स्वयं आज भी राजनीतिक क्षेत्र में काफी कमजोर है। कायस्थ समाज के प्रतिनिधि के लिए अब राजनीतिक क्षेत्र में आगे आने की जरूरत है, ताकि समाज विशेष रूप से लोगों के उत्थान में सहयोग कर सके। ये बातें छाता चौक स्थित चित्रगुप्त एसोसिएशन के सभागार में 89वें वर्षीय स्मारिका का लोकार्पण करते हुए पटना से पहुंचे विधान पार्षद रणवीर नंदन ने कहीं।

उन्होंने कहा कि समाज में सांप्रदायिक सद्भाव के लिए शिक्षित समाज का निर्माण जरूरी है। लोकार्पण के बाद चित्रगुप्त एसोसिएशन परिसर में बिरादरी भोज किया गया। इसमें सांसद अजय निषाद, बोचहां विधायक बेबी कुमारी, पूर्व विधायक विजेंद्र चौधरी, बीएन मंडल विवि के पूर्व कुलपति डॉ. रिपुसूदन श्रीवास्तव, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. राजीव कुमार, एडीएम रंगनाथ चौधरी, एसोसिएशन अध्यक्ष राजकुमार, महामंत्री डॉ. अजय नारायण सिन्हा, कोषाध्यक्ष आलोक कुमार, मीडिया प्रभारी संतोष रंजन, युवा अध्यक्ष राकेश चंद्र सम्राट, उपाध्यक्ष नरेश प्रसाद व सतीश कुमार, संगठन मंत्री प्रो. अजय श्रीवास्तव, मंत्री हरेश्वरनाथ श्रीवास्तव, चिरंजीव कुमार अन्नू, अरविंद वर्मा, विकास कुमार चरण, प्रभात कुमार, उदय नारायण सिन्हा, विश्वंभर प्रसाद, सुधांशु रंजन, प्रो. कृष्ण मोहन, पुरुषोत्तम प्रसाद वर्मा, अंबरीश सिन्हा, चक्रधर सिन्हा, राजेश रोशन, विवेक गौरव, प्रो. कुमार गणेश, डॉ. एसएन दास, श्याम किशोर, भूपेंद्र मोहन समेत 4 हजार से अधिक लोग शामिल हुए। एसोसिएशन की ओर से हर वर्ष चित्रगुप्त पूजा के अगले दिन बिरादरी भोज किया जाता है।

छाता चौक स्थित एसोसिएशन परिसर में आयोजित बिरादरी भोज में शामिल हुए एमएलसी

स्मारिका का लोकार्पण करते विधान पार्षद और अतिथिगण।

X
Muzaffarpur - need to come forward in the politics of delegation from society ranvir nandan
COMMENT