--Advertisement--

ट्रेनों में पेंट्रीकार के स्टाफ खाने का बिल नहीं दे तो पैसे का नहीं करें भुगतान, दो ट्रेनों में 'नो बिल, फ्री फूड पॉलिसी लांच'

आप ट्रेनों में सफर करते हैं और ट्रेन के पेंट्रीकार से भोजन खाते हैं तो आपको पेंट्रीकार कर्मी खाने का बिल नहीं देता होगा।

Danik Bhaskar | Jul 10, 2018, 10:48 AM IST

समस्तीपुर. आप ट्रेनों में सफर करते हैं और ट्रेन के पेंट्रीकार से भोजन खाते हैं तो आपको पेंट्रीकार कर्मी खाने का बिल नहीं देता होगा। अब अगर वह ऐसा करें तो उसे खाने का भुगतान नहीं करें। चुकी रेलवे मंत्रालय ने 'नो बिल, फ्री फूड पॉलिसी' लांच की है। यानी खाने का बिल नहीं तो पैसा नहीं।

रेलवे मंत्रालय के निर्देश पर समस्तीपुर मंडल प्रशासन ने भी मंडल के दरभंगा से खुलने वाली बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस व मुजफ्फरपुर से खुलने वाली सप्तक्रांति एक्सप्रेस ट्रेन में बिल की व्यवस्था शुरू कर दी है। आईआरसीटीसी के क्षेत्रीय प्रबंधक राजेश कुमार ने बताया कि धीरे-धीरे पूर्व मध्य रेलवे के सभी लंबी दूरी की ट्रेनों में यह व्यवस्था की जाएगी, जिसमें पेंट्रीकार लगी हो।

यात्री से कर्मी नहीं ले पाएंगे अधिक बिल
रेलवे सूत्रों ने बताया कि रेल यात्रियों की यह भी शिकायत रहती है कि उनसे खाने की तय मूल्य से अधिक कीमत वसूल की गई है। रेलवे के इस फैसले से अब यात्रियों से ट्रेनों में खाने की अधिक कीमत कर्मी वसूल नहीं पाएंगे। आईआरसीटीसी के अधिकारियों का कहना है कि यात्री खाना लेने के बाद बिल अवश्य मांगें और अगर कोई वेंडर बिल देने से मना करता है तो खाने का पैसा नहीं दें।

खाने के बॉक्स के ऊपर लिखना है भोजन का कीमत
आईआरसीटीसी के क्षेत्रीय अधिकारी ने बताया कि ट्रेनों में चलने वाले वेंडरों को भोजन बॉक्स के ऊपर भोजना का दाम लिखना है। अगर कोई वेंडर कीमत नहीं लिखता है और जांच के दौरान वह पकड़ा जाता है तो उसका लाइसेंस रद्द किया जा सकता है।

दरभंगा से खुलने वाली बिहार संपर्क क्रांति व मुजफ्फरपुर से खुलने वाली सप्तक्रांति में बिल की व्यवस्था शुरू की गई है। धीरे-धीरे लंबी दूरी की सभी ट्रेनों में यह व्यवस्था लागू होगी।

राजेश कुमार, क्षेत्रीय प्रबंधक, आईआरसीटीसी