स्नातक में ऑनलाइन एडमिशन : प्रति छात्र वसूले गए 300, दो-दो सौ कॉलेजों को मिलेंगे

Muzaffarpur News - एजुकेशन रिपोर्टर | मुजफ्फरपुर सूबे के सभी विश्वविद्यालयों में हुए ऑनलाइन एडमिशन के दौरान आवेदन शुल्क के रूप...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 04:17 AM IST
Muzaffarpur News - online admission in graduation 300 two to two hundred colleges will be recovered per student
एजुकेशन रिपोर्टर | मुजफ्फरपुर

सूबे के सभी विश्वविद्यालयों में हुए ऑनलाइन एडमिशन के दौरान आवेदन शुल्क के रूप में छात्रों से वसूली गई 300 रुपये में से कॉलेजों के अंश की राशि लौटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इसको लेकर प्रति छात्र 200 रुपये कॉलेज के खाते में वापस की जाएगी। बीआरए बिहार विवि के अधिकांश कॉलेजों ने अब तक इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से मांगी गई जानकारी अब तक कॉलेजों ने उपलब्ध नहीं कराई है। सत्र 2018-21 के तहत हुए नामांकन के लिए कॉलेज अब 18 फरवरी तक आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए हर कॉलेज को ओएफएसएस के पोर्टल पर अप्लाई करना होगा। इसमें कॉलेज को बैंक खाता समेत अन्य अहम जानकारी उपलब्ध करानी होगी। बोर्ड ने स्पष्ट कर दिया है कि अगर किसी संस्थान की ओर से सही खाते की जानकारी नहीं दी जाती है तो ऐसी स्थिति में गलत विवरण भरने पर इसकी राशि दूसरे कॉलेज के अकाउंट में चली जाएगी। इसकी जिम्मेदारी संबंधित कॉलेज के प्राचार्यों की होगी।

नैड आईडी जेनरेट करने में छात्रों के छूट रहे पसीने

ऑनलाइन सर्टिफिकेट हासिल करने की प्रक्रिया से पहले ही छात्र-छात्राओं के पसीने छूट रहे हैं। इसको लेकर बुधवार को विवि में छात्र-छात्राएं दिनभर टहलते नजर आए। छात्र-छात्राओं ने इसको लेकर विवि पदाधिकारियों से भी शिकायत की है। परेशानी यह है कि नैड आईडी ही जेनरेट नहीं हो पा रही है। साइट स्लो होने के कारण छात्रों को ऐसी परेशानी हो रही है। मामले को लेकर विवि के विकास पदाधिकारी डॉ. आशुतोष ने बताया कि शिकायत लेकर छात्र-छात्राएं पहुंचे थे। उन्होंने आईडी जेनरेट करने में होने वाली परेशानी से अवगत कराया है।

इस वर्ष से हर विवि अपने स्तर से कराएगा ऑनलाइन एडमिशन

शैक्षणिक सत्र 2019-22 में स्नातक में नामांकन की प्रक्रिया तो ऑनलाइन होगी लेकिन इस वर्ष बोर्ड को इससे अलग रखा जाएगा। इसको लेकर सरकार की ओर से पिछले दिनों फैसला लिया गया है। बताया जा रहा है कि हर विवि अपने स्तर से ही स्नातक कोर्स में ऑनलाइन एडमिशन कराएगा। ओएफएसएस पोर्टल पर नामांकन के दौरान पिछले वर्ष कई जिलों के छात्र-छात्राओं को दूर के जिलों में भेजा गया था। एक छात्र अपनी पसंद के 20 संस्थानों का विकल्प दे सकता था। कई दफा शिक्षक संगठनों के साथ-साथ छात्र-छात्राओं की ओर से भी विवि की स्वायत्तता को लेकर सवाल खड़े किए गए थे। खासकर संबद्ध कॉलेजों के मुद्दे पर स्थिति स्पष्ट नहीं होने के कारण इसको लेकर काफी विरोध हुआ था।

X
Muzaffarpur News - online admission in graduation 300 two to two hundred colleges will be recovered per student
COMMENT