--Advertisement--

25 से रक्सौल से होने लगेगा विद्युत इंजन चालित ट्रेनों का परिचालन

Muzaffarpur News - रक्सौल से सीधे बरौनी व अन्य स्थानों के लिए विद्युत इंजन से चालित ट्रेनों का परिचालन दिसंबर के अंतिम सप्ताह से शुरू...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:11 AM IST
Muzaffarpur News - operation of electric engine driven trains will start from 25 km from raxaul
रक्सौल से सीधे बरौनी व अन्य स्थानों के लिए विद्युत इंजन से चालित ट्रेनों का परिचालन दिसंबर के अंतिम सप्ताह से शुरू हो जाएगा। समस्तीपुर मंडल ने 25 दिसंबर को तिथि निर्धारित कर स्वीकृति के लिए रेलवे बोर्ड को भेजा है। स्वीकृति मिलने पर इस दिन से परिचालन शुरू कर दिया जाएगा। फिलहाल रक्सौल से सुगौली तक प्रतिदिन दो मालगाड़ियों का परिचालन किया जा रहा है। 6-7 दिसंबर को सीआरएस निरीक्षण कर इस रेलखंड पर स्पीड ट्रायल भी कर लिया गया था। इसके बाद सीआरएस अब पूर्व मध्य रेलवे काे अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे। समस्तीपुर मंडल के डीआरएम आरके जैन ने बताया कि दिसंबर के अंतिम सप्ताह से बरौनी व अन्य स्थानों के लिए परिचालन शुरू कर दिया जाएगा। वर्तमान में बरौनी से रक्सौल जाने वाली ट्रेनों व मालगाड़ियों का इंजन मुजफ्फरपुर जंक्शन पर बदलना पडता है। इससे मुजफ्फरपुर में मैनपावर के साथ काफी समय लग रहा था। यह अब नहीं करना होगा। रक्सौल जाने-आने वाली ट्रेनें व मालगाडियां सीधे आ-जा सकेंगी। वहीं स्पीड भी बढ़ जाएगी। इससे यात्रियों के समय की भी बचत होगी।

जयनगर-पटना इंटरसिटी में जांच से यात्रियों में हड़कंप, कूद कर भागे कई

मुजफ्फरपुर | डीआरएम के निर्देश पर फ्लाइंग स्क्वाॅड की टीम ने जयनगर-पटना इंटरसिटी में शनिवार को जांच की गई। इस दौरान यात्रियों में हड़कंप मच गया। जंक्शन पर यात्री ट्रेन से कूदकर भागने लगे। इसी बीच जांच दल ने बेटिकट यात्रियों से जुर्माना वसूलने के बाद एसी बोगी को खाली कराया। एसीएम टीसी नरेंद्र कुमार ने बताया, डीआरएम के निर्देश पर टीम गठित की गई। टीम समस्तीपुर से जांच करती हुई मुजफ्फरपुर पहुंची। इस क्रम में 247 बेटिकट यात्रियों को पकड़ा गया। उनसे 22445 रुपए बतौर जुर्माना वसूला गया। ट्रेन के जंक्शन पहुंचने पर एसी बोगी में यात्रा कर रहे यात्रियों को आरपीएफ व एस्कॉर्ट पार्टी के सहयोग से खाली कराया गया। एसीएम ने बताया, फ्लाइंग स्क्वाॅड की टीम लगातार छापेमारी कर रही है।

रेलवे की जमीन में बनीं 114 दुकानों की सत्यता की जांच के लिए बनी कमेटी

मुजफ्फरपुर | रेलवे की जमीन में स्थित 114 दुकानों की सत्यता की जांच के लिए एक कमेटी बनाई गई है, जो असली दुकानदारों की पहचान कर उनसे शपथ पत्र लेगी। जिसके नाम से दुकानें आवंटित हैं और उनकी जगह दूसरे व्यक्ति यदि दुकान चला रहे होंगे तो उस दुकान का लाइसेंस रद्द करने की अनुशंसा की जाएगी। आरपीएफ इंस्पेक्टर वीपी वर्मा के नेतृत्व में इन दुकानों की जांच शुरू कर दी गई है। इस क्रम में धर्मशाला चौक पर अवैध रूप से चल रहीं आधा दर्जन दुकानों को हटा दिया गया है। बताया जाता है कि धर्मशाला चौक से मालगोदाम चौक तक रेलवे की 114 दुकानें हैं। इन्हें इंजीनियरिंग विभाग की ओर से लीज पर दिया गया है। इसके बदले हर माह किराया वसूला जाता है। इस बीच कुछ लोगों ने अवंटित दुकानों से अधिक किराया लेने के लिए दूसरे को देने की शिकायत की है। कमेटी इसकी भी जांच करेगी। कमेटी ने सभी दुकानदारों से एग्रीमेंट की कॉपी के साथ आधार कार्ड की कॉपी के मांगी है। इनसे असली दुकानदार की पहचान की जाएगी। यदि असली दुकानदार की जगह दूसरे व्यक्ति दुकान चला रहें होंगे तो उनका एग्रीमेंट रद्द करने की अनुशंसा की जाएगी।

ऑटो की ठोकर से गोबरसही गुमटी का बूमर टूटा, आरपीएफ में प्राथमिकी दर्ज

मुजफ्फरपुर | गोबरसही गुमटी का बूमर शनिवार को एक ऑटो की ठोकर से टूट गया। घटना के बाद चालक ऑटो लेकर फरार हो गया। गुमटीमैन की निशानदेही पर ऑटो चालक पर आरपीएफ में प्राथमिकी दर्ज की गई। आरपीएफ इंस्पेक्टर वीपी वर्मा ने बताया कि शनिवार को ट्रेन नंबर 63267 और 12408 को पास कराने के लिए गोबरसही गुमटी को बंद किया गया था। इसी क्रम में तेज रफ्तार से आई एक ऑटो ने धक्का मार कर बूमर को तोड़ दिया। गुमटीमैन प्यारेलाल मीणा की सूचना पर प्राथमिकी दर्ज कर जांच की जा रही है।

चार अवैध वेंडर गिरफ्तार | इधर, जंक्शन पर जांच के क्रम में चार अवैध वेंडरों को गिरफ्तार किया गया। इसमें समस्तीपुर के टुनटुन साह, सकरा के संतोष चौधरी, समस्तीपुर के श्रवण कुमार और कुढ़नी के रमेश महतो शामिल हैं। चारों को जेल भेज दिया गया।

X
Muzaffarpur News - operation of electric engine driven trains will start from 25 km from raxaul
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..