--Advertisement--

नफरत की दीवार / खुदा के बंदों ने अपने गांव की सड़क दो हिस्सों में बांटी; पहले हिस्से में शेख, दूसरे पर चलेंगे अंसारी



People divided road into two parts
X
People divided road into two parts

  • मुजफ्फरपुर के पानापुर हवेली पंचायत के दामोदरी टोला के निवासियों का अजीब फैसला
  • 70 घरों का यह मुस्लिम टोला शेख और अंसारी की आग में झुलस रहा, इस्लाम के पैगाम से दूर

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 12:10 AM IST

गुलशाद (मुजफ्फरपुर). एक ही सफ (कतार) में खड़े हो गए महमूद व अयाज, न कोई बंदा रहा और न ही कोई बंदा नवाज। इस्लाम में जाति और ऊंच-नीच का कोई स्थान नहीं है। यह पैगाम कांटी प्रखंड की पानापुर हवेली पंचायत के दामोदरी टोला के लोग नहीं समझते। 70 घरों का यह मुस्लिम टोला शेख और अंसारी की आग में झुलस रहा है।

 

गांव में लोगों में नफरत की ऐसी आग है कि उन्होंने सार्वजनिक सड़क को दीवार घेरकर बांट लिया है। आधी सड़क पर अंसारी बिरादरी और आधी पर शेख बिरादरी वाले चल रहे हैं। सड़क पर दीवार हो जाने से अब गांव में गाड़ियां नहीं जा सकतीं। बीते 17 नवंबर को बशीर मियां के बेटे की शादी के भोज में मारपीट के बाद शेख और अंसारी के बीच विवाद ने तूल पकड़ा। पहले जमकर मारपीट हुई। इसके बाद 18 नवंबर को मोहल्ले की सड़क पर 300 फीट लंबी दीवार खड़ी कर दी गई।

 

सुरक्षा के लिए दीवार खड़ी की
मो. नसीरुद्दीन अंसारी ने बताया कि सड़क सरकारी नहीं है। 15 साल पहले मन मिला तो सड़क बनी। अब हमलोग बाहर रहते हैं, घर पर शेख लोग अक्सर हमारी जाति को नीचा दिखाकर मारपीट करते हैं। सुरक्षा के लिए दीवार बनाई गई है। अब दीवार के उस पार से हम लोगों को कोई मतलब नहीं है।

 

कुछ लोग फैला रहे हैं नफरत  
शेख बिरादरी के मो. सलीम ने कहा कि हमारा खुदा एक, नबी एक और कुरान भी एक। दशकों से हमने एक ही दस्तरखान पर खाना खाया है, लेकिन कुछ लोगों ने इसे जातीय रंग दे दिया है। 50 परिवारों का रास्ता बंद है। मस्जिद तक जाने वाली इस सड़क को बंद कर दिया गया है।

 

इस्लाम में ऊंच-नीच का कोई स्थान नहीं : काजी-ए-शहर
काजी-ए-शहर मुफ्ती शमीमुल कादरी ने कहा कि इस्लाम में दिल में नफरत रखना सख्त गुनाह है। इसे माफ नहीं किया जा सकता। नबी-ए-पाक सड़क से कांटे व रोड़े चुनकर हटा देते थे ताकि किसी को तकलीफ नहीं हो। नफरत फैलाने वालों को अल्लाह का खौफ होना चाहिए।

 

यह गंभीर मामला है। इसकी जांच कराई जा रही है। सार्वजनिक सड़क को दीवार से घेर देना गलत है। इसे प्राथमिकता के आधार पर देखा जाएगा। -मोहम्मद सोहैल, डीएम, मुजफ्फरपुर

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..