मुजफ्फरपुर में दो कराेड़ पेमेंट करने पर रंजन समैयार को नौकरी से हटाया

Muzaffarpur News - सृजन घाेटाले में डूडा की 16 कराेड़ रुपए की हेराफेरी मामले में सीबीअाई की जांच चल रही है। इस मामले में पूर्व में ही...

Aug 15, 2019, 01:15 PM IST
सृजन घाेटाले में डूडा की 16 कराेड़ रुपए की हेराफेरी मामले में सीबीअाई की जांच चल रही है। इस मामले में पूर्व में ही प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। इसमें बताया गया है कि तीन फरवरी 2016 काे एक कराेड 21 लाख भागलपुर डीएम ने विभिन्न याेजनाअाें के लिए पूर्व एग्जीक्यूटिव इंजीनियर रंजन प्रसाद समैयार ने प्राप्त की थी। वह राशि पूर्व के पासबुक की इंट्री में डिपाेजिट दिखाया गया अाैर वर्तमान में मिलान पर यह राशि बैंक अाॅफ बड़ाैदा के स्टेटमेंट में अंकित व डिपाेजिट नहीं है। वहीं एक अाैर चेक से 20 अप्रैल 2016 काे 2.32 कराेड़ रुपए डीएम ने विभिन्न याेजनाअाें के लिए पूर्व एग्जीक्यूटिव इंजीनियर काे दी गई थी। इसके अलावा 25 अप्रैल 2016 काे बैंक अाॅफ महाराष्ट्र के खाते से 3.88 कराेड़ रुपए ने बैंक अाॅफ बड़ाैदा में ट्रांसफर किया गया। इसे पूर्व के पासबुक की इंट्री में बैंक अाॅफ बड़ाैदा में डिपाेजिट दिखाया गया अाैर वर्तमान में मिलान करने पर यह राशि बैंक अाॅफ बड़ाैदा के स्टेटमेंट में अंकित व डिपाेजिट नहीं है।

हाल की जांच में चला पता, समैयार के कार्यकाल के दाैरान हुई थी अवैध निकासी

डीएम ने 12 जुलाई काे सृजन मामले में अब तक की गई कार्रवाई काे लेकर बैठक की थी। इसमें सभी विभागाें काे निर्देश दिया था कि जिन अफसराें ने चेक के माध्यम से सीधे सृजन महिला विकास सहयाेग समिति के खाते में राशि ट्रांसफर की है, उसकी जांच कर कार्रवाई करें। इसके बाद बुडकाे के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर राजेश कुमार ने भी इंटरनल जांच की। इसमें पता चला कि दाे एग्जीक्यूटिव इंजीनियर के कार्यकाल में निकासी की अवैध निकासी की गई है। इसमें भी रंजन प्रसाद समैयार का नाम शामिल है। इसके साथ ही उस वक्त के क्लर्क भीमनंदन ठाकुर के खिलाफ सीबीअाई काे जिला प्रशासन ने अभियाेजन की स्वीकृति भेज दी है। साथ ही उसे भी सेवा से मुक्त कर दिया गया है। इसके अलावा राशि की वसूली के लिए विभाग से 55 हजार रुपए की मांग की गई है। लेकिन अब तक अावंटन नहीं मिला है। वहीं दूसरी तरफ सर्टिफिकेट केस की भी तैयारी की जा रही है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना