बाढ़ / उत्तर बिहार की नदियां फिर लाल निशान पार, कांटी में रिंग बांध टूटा



Rivers of North Bihar again crossed the red mark, broken ring dam in Kanti
X
Rivers of North Bihar again crossed the red mark, broken ring dam in Kanti

  • बागमती नदी का जलस्तर लाल निशान से 1.62 मी. ऊपर, गंडक, लखनदेई में वृद्धि 

Dainik Bhaskar

Jul 26, 2019, 11:19 AM IST

मुजफ्फरपुर. जलग्रहण क्षेत्रों में गुरुवार को हुई भारी बारिश के बाद उत्तर बिहार की नदियां फिर खतरे के निशान से काफी ऊपर बहने लगी हैं। बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में वृद्धि के साथ ही कांटी के कोठिया में रिंग बांध टूट गया। इससे नए इलाकों में पानी घुस गया है। सैकड़ों एकड़ में लगी फसल बर्बाद हो गई है। 

 

प्रशासन ने लोगों को निचले क्षेत्र से बाहर निकलने को कहा है। मीनापुर में बूढ़ी गंडक नदी में कटाव जारी रहने से घोसौत गांव में चार घर नदी में बह गए। मोतिहारी के सुगौली में सिकरहना व तिलावे नदी तो पताही में लालबकेया व बागमती नदी के जलस्तर में हुई वृद्धि से कई गांव में बाढ़ का पानी घुस गया है। सीतामढ़ी में बागमती, लखनदेई समेत अन्य नदियों के जलस्तर में वृद्धि से आधा दर्जन इलाकों में पानी प्रवेश कर गया है।

 

शिवहर के बेलवा व पिपराही में जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। पश्चिम चंपारण जिले की बूढ़ी गंडक सहित सभी पहाड़ी नदियां उफान पर हैं। लौरिया से नरकटियागंज एवं लौरिया से रामनगर जाने वाली मुख्य सड़क पर करीब तीन फीट पानी बह रहा है। समस्तीपुर में बूढ़ी गंडक, कमला, करेह व कोसी नदी के जलस्तर में वृद्धि से स्थिति गंभीर बनी हुई है। 

 

वाल्मीकिनगर बराज से गंडक में 86 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। बागमती के जलस्तर में अत्यधिक वृद्धि के कारण औराई, कटरा व गायघाट प्रखंड में बाढ़ की स्थिति विकराल हो गई है। प्रशासन ने आगे भी अच्छी बारिश के कारण नदियों के तटबंधों पर सघन चौकसी का निर्देश दिया है। मुशहरी प्रखंड के रजवाड़ा बांध से हो रहा रिसाव रुक गया है। मुजफ्फरपुर के कटौझा में बागमती 1.8 मीटर बढ़कर खतरे के निशान से 2.57 मीटर ऊपर है।
 
मुजफ्फरपुर में गुरुवार को बाढ़ के पानी में डूबने से 3 लोगों की मौत हो गई। वहीं, दरभंगा में 4 व मधुबनी में 4 लोगों की डूबने से मौत हो गई।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना