खबर छपने के कारण शहाबुद्दीन ने रची हत्या की साजिश : सीबीआई

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
क्राइम रिपोर्टर | मुजफ्फरपुर

सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन समेत 8 आरोपितों के खिलाफ मंगलवार को एडीजे 11 के कोर्ट में आरोप गठन हुआ। सीबीआई चार्जशीट के अनुसार दिसंबर 2014 में एक अखबार में छपी ‘सीवान जेल से जारी हिट लिस्ट पर हत्याएं’ खबर के कारण पूर्व सांसद शहाबुद्दीन ने उनकी हत्या की साजिश रची थी। मार्च 2016 में सीवान जेल में बिहार सरकार के तत्कालीन मंत्री अब्दुल गफूर और रघुनाथपुर के विधायक हरिशंकर यादव ने शहाबुद्दीन के साथ मीटिंग की थी। इस मीटिंग का वीडियो पहले राजदेव रंजन ने सोशल साइट पर वायरल किया था। फिर सभी अखबारों में खबर छपी थी। इससे पहले भी शहाबुद्दीन ने उन्हें सीधी धमकी दी थी। गौरतलब है कि पत्रकार राजदेव की 13 मई 2016 को सीवान के स्टेशन रोड में अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से तिहाड़ जेल से हुई पेशी

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से तिहाड़ जेल से मंगलवार को पेशी के दौरान कोर्ट ने शहाबुद्दीन को चार्जशीट में सीबीआई जांच में आए तथ्यों की जानकारी दी। आईपीसी की धारा 120 बी, 302 और 27 आर्म्स एक्ट के तहत आरोप गठन किया। भागलपुर जेल से अजहरुद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां की भी कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेशी हुई। जबकि, आरोपित विजय गुप्ता, रोहित सोनी, राजेश कुमार, रिशु जायसवाल व सोनू गुप्ता को न्यायालय में लाया गया।

खबरें और भी हैं...