पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जन औषधि केंद्र के माध्यम से देशभर में गरीबों के प्रति माह बच रहे हैं 45 हजार करोड़ रुपए : नित्यानंद

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जिले के खादी भंडार के बगल में जन औषधि केंद्र पर पीएम माेदी के कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा, देश में 6500 से अधिक जन औषधि केंद्र चल रहे हैं। इनके माध्यम से पचास हजार करोड़ की दवाएं गरीबाें काे पांच हजार करोड़ में मिल रही हैं। इसके कारण देश के गरीबाें का प्रत्येक वर्ष 45 हजार करोड़ रुपए बच रहे हैं। बाजार में जो दवाएं 50 रुपए में मिलती हैं, वह जनऔषधि केंद्र पर पांच रुपए में मिल रही हैं। उन्हाेंने इसका प्रचार-प्रसार करने काे कहा। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने स्पष्ट तौर पर सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, जिला स्वास्थ्य केंद्र पर जेनरिक दवाओं का उपयोग करने की हिदायत दी है। इसका सीधा लाभ गरीबाें काे मिलेगा। कार्यक्रम में संवाद के दौरान नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश कुमार शर्मा, सांसद अजय निषाद, जिलाध्यक्ष रंजन कुमार, प्रदेश उपाध्यक्ष देवेश कुमार, प्रदेश मंत्री राजेश कुमार वर्मा, विधायक केदार गुप्ता, बेबी कुमारी, पूर्व विधायक राजू सिंह समेत डाॅ. ममता रानी, डाॅ. अरविंद कुमार सिंह, रामकुमार झा, मनीष कुमार, मनोज सिंह, सचिन कुमार, धर्मेंद्र साहू, मनीष कुमार, हरिमोहन चौधरी, सुनीता सहनी, संजीव झा, इंदिरा सिंह, ऋतुराज, प्रभात कुमार अादि उपस्थित थे।

दिव्यांगों के काैशल की विकास में हिस्सेदारी हो

प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कहा, 21वीं सदी में भारत की अर्थव्यवस्था में दिव्यांग जनाेंे के काैशल का, उनकी प्राेडक्डिविटी का राज्य के विकास में अधिक से अधिक हिस्सेदारी हाेनी चाहिए। यही कारण है बीते पांच वर्षाें से दिव्यांग जनाें की सुविधा एवं उनके काैशल विकास पर व्यापक ध्यान दिया जा रहा है। दिव्यांग जनाें के शिक्षा, राेजगार व उनके अधिकार के लिए जरूरी कानूनी बदलाव किए हैं। निश्चित रूप से जनऔषधि जैसी हमारी याेजनाअाें में भी दिव्यांगाें की अधिक से अधिक भागीदारी हम सबाें काे सुनिश्चित करनी है।

कार्यक्रम में मौजूद केंद्रीय राज्यमंत्री, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, मंत्री, जिलाध्यक्ष, सांसद व अन्य।
खबरें और भी हैं...