जिले में सुखाड़ की मार झेल रहे किसानों को अनुदान का मरहम

Nawada News - लगातार दूसरे साल सुखाड़ की मार झेल रहे जिले के ढाई लाख किसानों के लिए राहत भरी खबर है। पानी के अभाव में धान की फसल...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 09:16 AM IST
Nawada News - grant ointment to farmers facing drought in the district
लगातार दूसरे साल सुखाड़ की मार झेल रहे जिले के ढाई लाख किसानों के लिए राहत भरी खबर है। पानी के अभाव में धान की फसल नहीं लगा पाए किसानों को प्रति हेक्टयर 6800 रुपया अनुदान मिलेगा। यह अनुदान परती खेतों के लिए मिलेगा और एक किसान को अधिकत दो हेक्टेयर परती खेत के लिए अनुदान मिल सकेगा।

इस योजना के लिए आॅन लाईन अप्लाई की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। 20 नवंबर तक आवेदन करने की अंतिम तारीख है। जिला कृषि पदाधिकारी अरविंद कुमार झा ने बताया कि खरीफ फसलों में अल्पवृष्टि के कारण सुखाड़ जैसी स्थिति को देखते हुए किसानों को भारत सरकार द्वारा अधिसूचित प्राकृतिक आपदा व राज्य सरकार द्वारा स्थानीय आपदा के लिए निर्धारित सहायता डीबीटी के माध्यम से सरकार द्वारा फसलों के नुकसान की भरपाई के लिए अनुदान दिया जाएगा। यह लाभ कृषि विभाग के पोर्टल पर पंजीकृत किसानों को ही मिलेगा। जिले भर में लगभग ढाई लाख पंजीकृत किसान है। इन किसानों को लाभ मिल सकता है। यह अनुदान वर्षाश्रित फसल क्षेत्र के लिए किसानों को 6800 रुपये प्रति हेक्टेयर है। नवादा में इसी कोटि के तहत किसानों को अनुदान मिलेगा।

परती खेतों के लिए मिलेगा प्रति हेक्टयर 6800 का अनुदान

सूखा पड़ा खेत।

सिटी रिपोर्टर | नवादा

लगातार दूसरे साल सुखाड़ की मार झेल रहे जिले के ढाई लाख किसानों के लिए राहत भरी खबर है। पानी के अभाव में धान की फसल नहीं लगा पाए किसानों को प्रति हेक्टयर 6800 रुपया अनुदान मिलेगा। यह अनुदान परती खेतों के लिए मिलेगा और एक किसान को अधिकत दो हेक्टेयर परती खेत के लिए अनुदान मिल सकेगा।

इस योजना के लिए आॅन लाईन अप्लाई की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। 20 नवंबर तक आवेदन करने की अंतिम तारीख है। जिला कृषि पदाधिकारी अरविंद कुमार झा ने बताया कि खरीफ फसलों में अल्पवृष्टि के कारण सुखाड़ जैसी स्थिति को देखते हुए किसानों को भारत सरकार द्वारा अधिसूचित प्राकृतिक आपदा व राज्य सरकार द्वारा स्थानीय आपदा के लिए निर्धारित सहायता डीबीटी के माध्यम से सरकार द्वारा फसलों के नुकसान की भरपाई के लिए अनुदान दिया जाएगा। यह लाभ कृषि विभाग के पोर्टल पर पंजीकृत किसानों को ही मिलेगा। जिले भर में लगभग ढाई लाख पंजीकृत किसान है। इन किसानों को लाभ मिल सकता है। यह अनुदान वर्षाश्रित फसल क्षेत्र के लिए किसानों को 6800 रुपये प्रति हेक्टेयर है। नवादा में इसी कोटि के तहत किसानों को अनुदान मिलेगा।

आवेदन के लिए पंजीकरण जरूरी| जिला कृषि पदाधिकारी ने बताया कि वैसे किसान जिनका मोबाइल नंबर आधार से जुड़ा हो वे घर बैठे स्वयं अपना पंजीकरण कर योजना के लाभ के लिए आवेदन कर सकते है। वहीं पूर्व से पंजीकृत किसानों को पंजीकरण नहीं कराना होगा। वे सीधे सूखाग्रस्त प्रखंडों के लिए कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। वहीं पंजीकरण व आवेदन के लिए किसान के पास मोबाइल नंबर, आधार संख्या व आधार से जुड़े बैंक खाता का होना अनिवार्य है। एक बार पंजीकरण के बाद दोबारा पंजीकरण की जरूरत नहीं होती।

योजना के लाभ के लिए ऐसे करें आवेदन

किसान कृषि विभाग के वेबसाइट पर उपलब्ध सूखाग्रस्त किसानों के लिए कृषि इनपुट सब्सिडी योजना मेनू पर जाएंगे। वहां अनुदान के आवेदन के लिए 13 अंकों का पंजीकरण संख्या भरेंगे। इस योजना का लाभ योजना के लिए चिन्हित प्रखंडों के किसानों अधिकतम दो हेक्टेयर के लिए देय होगा। इसमें नवादा के किसानों को असिंचित क्षेत्र के लिए अनुदान को चुनकर आवेदन करना है।

आवेदन स्वीकृत करने की प्रक्रिया

आॅनलाईन आवेदन करने के बाद आवेदन स्वत- कृषि समन्वयक को ट्रांसफर हो जाएगा। इसके 20 दिनों के अंदर कृषि समन्वयक आवेदन में दर्ज दावा की जांच करके निष्पादित करेंगे। समन्वय अपनी अनुशंसा के साथ जिला कृषि पदाधिकारी को अग्रसारित करेंगे या फिर कारण बताते हुए अस्वीकृत करेंगे ।

X
Nawada News - grant ointment to farmers facing drought in the district
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना