संकुल का मॉडल विद्यालय ही संसाधन विहीन तो बाकी स्कूलों का क्या कहना

Nawada News - रोह प्रखंड का सम्हरीगढ़ उच्च विद्यालय अपने संकुल का माॅडल स्कूल है लेकिन सुविधाएं नदारद है। ऐसे में सवाल उठता है कि...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:11 AM IST
Roh News - model of the package is not the only school and the rest of the schools say
रोह प्रखंड का सम्हरीगढ़ उच्च विद्यालय अपने संकुल का माॅडल स्कूल है लेकिन सुविधाएं नदारद है। ऐसे में सवाल उठता है कि जब माॅडल स्कूल की यह हालत है तो बाकी के स्कूलों और विद्यार्थियों का क्या होगा। इस विद्यालय को अब उच्च विद्यालय का भी दर्जा मिल गया है लेकिन सुविधाएं आज भी जस की कस है। ग्रामीण बताते हैं कि बच्चों को शिक्षित करने के लिए स्कूल की दीवारों में सर्व शिक्षा अभियान का नारा तो दिखता है लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और है। स्कूलों में लचर व्यवस्था शिक्षा की राह में रोड़ा अटका रही है। हालात यह है कि क्लास रूम में बिजली तक नहीं है। जनप्रतिनिधि और अफसर तो एसी कमरों में बैठकर विकास का खाका तैयार करते हैं लेकिन यहां बच्चों को परेशानी झेलनी पड़ती है। बच्चे तपिश भरी गर्मी में बिना पंखे के पढ़ने को मजबूर हैं। स्कूल में पंखे तक नहीं लगे। पंखे हों भी तो क्या फायदा? यहां अबतक बिजली की कनेक्शन ही नहीं है।

400 बच्चों का है नामांकन

इस विद्यालय में 406 बच्चों का नामांकन है और उन्हें पढ़ाने के लिए सिर्फ आठ शिक्षक ही कार्यरत हैं। सहायक शिक्षक नागेंद्र कुमार बताते हैं की यह विद्यालय संकुल का मॉडल विद्यालय है। लेकिन यह सिर्फ कागज पर ही लिखा हुआ है। यहां प्रथम से दशम वर्ग तक पढाई की व्यवस्था है लेकिन सिर्फ 9 कमरे ही मौजूद है। शिक्षकों का अभाव है। विद्यालय मे विषयवार शिक्षक होना जरूरी है। रैम्प, लैब, बिजली, बेंच डेस्क नही है बच्चे को बैठने का समुचित व्यवस्था नही है। विद्यालय के बिल्डिंग भी जर्जर हालत में है। जिस जगह बच्चे को बैठाया जाता है वहां का छत हिलता है।

X
Roh News - model of the package is not the only school and the rest of the schools say
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना