िदव्यांगता प्रमाण पत्र बनाने पीएचसी आई महिला को चिकित्सकों ने किया रेफर

Nawada News - वारिसलीगंज |पीएचसी में गुरुवार को िदव्यांगता प्रमाण पत्र बनाने पहुंची शाहपुर ग्रामीण स्वारथ यादव की प|ी संजू...

Sep 14, 2019, 09:00 AM IST
Nawada News - physicians refer phc i woman to make disability certificate
वारिसलीगंज |पीएचसी में गुरुवार को िदव्यांगता प्रमाण पत्र बनाने पहुंची शाहपुर ग्रामीण स्वारथ यादव की प|ी संजू देवी को इलाज कराने के लिए नवादा रेफर कर दिया गया। पीड़ित संजू ने बताया कि वह बचपन से ही कमर से लाचार है और भटक कर चलती है। विकलांग होने से सम्बन्धित प्रमाण पत्र के लिए जब अस्पताल पहुंची तो डाक्टर ने उसे इलाज के लिए नवादा रेफर कर दिया। जदयू प्रखंड अध्यक्ष शहदेव यादव व भाजपा के जिला पंचायत राज संयोजक वैधनाथ यादव ने अस्पताल पहुंच कर अापत्ति दर्ज की। चिकित्सा पदाधिकारी के स्टाम्प लगा रेफर पर्ची को काट कर दो से तीन दिन में प्रमाण पत्र बनाने की बात कही गई। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी राम कुमार ने बताया सम्बन्धित महिला निर्धारित समय से आवेदन जमा नहीं कर सकी थी। जब ओटी में चला गया तो नेताओं ने जबरन प्रमाण पत्र बनाने दबाव बनाया। इसी क्रम में स्टाम्प के साथ रेफर करने की प्रक्रिया कर दी गई।

प्रोफेसर सतीश चंद्र िमतल के िनधन पर जताया गया शाेक

िसटी िरपाेर्टर। नवादा

भारतीय इतिहास संकलन याेजना के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्राे सतीश चंद्र िमतल के अाकस्मिक िनधन पर इतिहासकाराें ने गहरी संवेदना प्रकट की है। प्राे सतीश चंद्र िमतल गाेरखपुर में गाेरखनाथ मंिदर में एक सेमिनार में शामिल हाेने पहुंचे थे लेकिन उनकी अचानक तबियत खराब हाे गइर् अाैर माैत हाे गइर्। उनके िनधन पर दक्षिण िबहार इतिहास संकलन समिति ने गहरी संवेदना प्रकट िकया है। समिति के अध्यक्ष प्राे राजीव रंजन ने कहा िक उनके िनधन से देश अाैर समाज के िलए अपूरणीय क्षति हुइर्। उनकी देखरेख में देश में इतिहास संकलन समिति कई महत्वपूर्ण खाेज अाैर अन्वेषण का काम कर रही थी। लेकिन उनके िनधन से गहरा झटका पहुंचा है। प्राे राजीव ने कहा िक प्राे सतीश चंद्र िमतल ने कई पुस्तकाें की रचना की जाे देश के इतिहास के िलए मील का पत्थर साबित हाे रहा है। उनकी देख रेख में देश में कई अहम शाेध अाैर अन्वेषण अाैर इतिहास लेखन का काम िकया जा रहा है। समिति के महासचिव शैलेश कुमार शर्मा ने कहा िक सतीश चंद्र िमतल अाधुनिक भारत के िनर्माता थे। उनके शाेधपरक पुस्तक अाैर शाेधाें से नए इतिहासकाराें के िलए प्रमुख स्त्राेत रहे हैं। शैलेश कुमार शर्मा ने कहा िक इतिहास के स्त्राेत िब्रटिश जमाने के रहे हैं, लेकिन प्राे सतीश चंद्र ने देसी स्त्राेत पर बल िदया है। मगध यूनिवर्सिटी के इतिहास िवभाग के हेड प्राे मनीष िसन्हा प्राे नृपेन्द्र कुमार समेत कई इतिहासकाराें ने कहा िक उनके िनधन से इतिहास की खाेज काे झटका लगा है। इसके अलाव प्राे रामाकांत शर्मा, सूर्यनारायण प्रसाद, डाॅ अशाेक िप्रयदर्शी, अरुण कुमार, िसवेन्द्र कुमार, बीएल चाैधरी, गाैरीनाथ, िनगम भारद्वाज, हे गाेयल समेत अनेक इतिहासकाराें ने उनके अाकस्मिक िनधन पर गहरी संवेदना प्रकट की है।

X
Nawada News - physicians refer phc i woman to make disability certificate
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना