नो योर नंबर्स की थीम पर मनाई गई विश्व हाइपरटेंशन दिवस, बचने के दिए गए सुझाव

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:45 AM IST

Nawada News - तेजी से बदलते जीवनशैली से हाइपरटेंशन से ग्रसित होने वाले लोगों में तेजी से इजाफा हुआ है। हाइपरटेंशन यानी उच्च...

Nawada News - world hypertension day celebrated on the theme of no your numbers tips to avoid
तेजी से बदलते जीवनशैली से हाइपरटेंशन से ग्रसित होने वाले लोगों में तेजी से इजाफा हुआ है। हाइपरटेंशन यानी उच्च रक्तचाप से बचाव के लिए प्रत्येक वर्ष 17 मई को विश्व हाइपरटेंशन दिवस मनाया जाता है। शुक्रवार को जिले के सदर हाॅस्पिटल में हाइपरटेंशन दिवस मनाया गया। अस्पताल के चिकित्सकों ने हाइपरटेंशन से बचने के लिए कई सुझाव दिए। चिकित्सकाें ने बताया दो प्रकार का हाइपरटेंशन होता है। इसे सामान्य भाषा में उच्च रक्तचाप भी कहा जाता है। पहला एस्सेनशिअल हाइपरटेंशन जो मूलतः अनुवांशिक, अधिक उम्र होने पर, अत्यधिक नमक का सेवन तथा लचर एवं लापरवाह जीवनशैली से होता है। दूसरा सेकेंडरी हाइपरटेंशन जो उच्च रक्तचाप का सीधा कारण चिह्नित हो जाए, उस स्थिति को सेकेंडरी हाइपरटेंशन कहते हैं। यह गुर्दा रोग के मरीजों व गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन करने वाली महिलाओं में अधिक देखा जाता है।

शुरुआती पहचान से बेहतर इलाज में मदद

सिर में अत्यधिक दर्द रहना,लगातार थकावट का अहसास, सीने में दर्द होना,सांस लेने में कठिनाई, दृष्टि में धूंधलापन, पेशाब में खून आना, गर्दन, सीने व बांहों में दर्द का लगातार बने रहना हाइपरटेंशन का शुरुआती लक्ष्ण है। सिविल सर्जन डाॅ. श्रीनाथ प्रसाद ने बताया खराब जीवनशैली के कारण धीरे-धीरे किशोर एवं युवक भी इस गंभीर समस्या से पीड़ित हो रहे हैं। इसलिए बिगड़ती जीवनशैली को ठीक करना बहुत जरुरी है। आहार में फास्ट फूड की जगह फलों का सेवन, सुबह जल्दी उठना एवं रात में जल्दी सोना, अवसाद एवं तनाव से बचना एवं नियमित व्यायाम से इस रोग से बचा जा सकता है। अधिकतर हाइपरटेंशन के रोगियों को मालूम भी नहीं रहता की वह इससे ग्रसित हैं तथा इसके लक्षणों को नजरंदाज करते हैं। इसे अनदेखा करने वाले मरीजों को गंभीर बीमारियों जैसे हृदयघात, मस्तिष्कघात, लकवा, ह्रदय रोग, किडनी का काम करना बंद हो जाना जैसी स्थिति का सामना करना पड़ता है। तनावग्रस्त जीवनशैली हाइपरटेंशन के प्रमुख कारणों में से एक है। इसके अलावा धूम्रपान करना, मोटापा, अत्यधिक शराब का सेवन, अच्छी नींद का ना लेना, चिंता, अवसाद, भोजन में नमक का अधिक प्रयोग, गंभीर गुर्दा रोग, परिवार में उच्च रक्तचाप का इतिहास एवं थाइराइड की समस्या हाइपरटेंशन का कारण हो सकता है।

X
Nawada News - world hypertension day celebrated on the theme of no your numbers tips to avoid
COMMENT