--Advertisement--

सीएम बोले- ऐतिहासिक धरोहरों से भरा है बिहार, जरूरत सिर्फ उनकी ब्रांडिंग की

शुरुआत: 'ब्रांडिंग बिहार डॉट कॉम' का शुभारंभ, वेबसाइट पर बिहार से जुड़ी जानकारी

Danik Bhaskar | Jun 08, 2018, 06:13 AM IST
वेबसाइट के शुभारंभ अवसर पर पत् वेबसाइट के शुभारंभ अवसर पर पत्

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार का कोई भी क्षेत्र चाहे वह रोहतास हो या चंपारण या मगध, सब ऐतिहासिक धरोहरों से भरा पड़ा है। उन स्थानों की ब्रांडिंग की जरूरत है। दूसरे देश में रह रहे बिहार के लोगों की अपने राज्य के बारे में जिज्ञासा बनी रहती है। इसके लिए हमसे भी लोग संपर्क करते रहते हैं। यहां तक कि हमें वहां बुलाना चाहते हैं। वह गुरुवार को 1, अणे मार्ग में ब्रांडिंग बिहार डॉट कॉम की शुरुआत के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

- उन्होंने कहा कि बिहार से जुड़ी हर तथ्य को विश्वसनीयता के पैमाने पर आकलन कर वेबसाइट पर जानकारी दी जा सकती है। ब्रांडिंग बिहार डॉट कॉम के जरिए लोगों की प्रदेश के बारे रुचि बढ़ेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार का इतिहास गौरवशाली है, इससे जुड़े पुरातात्विक स्थलों के बारे में और विस्तार से बताने की जरूरत है, ताकि नई पीढ़ी को अधिक से अधिक व सही जानकारी मिल सके।

- बोधगया, राजगीर, वैशाली, नालंदा, तेल्हाड़ा के पुरातात्विक स्थलों पर काम किया जा रहा है। राजगीर में जू सफारी, नेचर सफारी, घोड़ा कटोरा पर्वत लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बनेगा। राजगीर में सबसे पुराना पत्थर निर्मित सायक्लोपियन बॉल है। यहां वेणु वन का एक्सपेंशन किया जा रहा है। बोधगया को भी विकसित किया जा रहा है।

लखीसराय में महिला बौद्ध विहार का पता चला

- मुख्यमंत्री ने कहा कि चंपारण का मिर्चइया चूड़ा और भागलपुर का कतरनी चावल बिहार की विशिष्ट खाद्य उत्पादों में से एक है। इन सब चीजों को लोगों को दिखाकर बताने की जरूरत है। हाल ही में लखीसराय के क्रिमिला में लाल पहाड़ी की खुदाई की गई है, जिससे यह पता चला है कि यह महिला बौद्ध विहार था।

- वैशाली में राजा का विशालगढ़ किला अद्‌भुत है। वैशाली में ही बुद्ध के अग्नि संस्कारों के 8 जगहों में से एक स्तूप का प्रमाण मिला है, वहां पर हमलोग स्तूप बनवा रहे हैं। नालंदा विश्वविद्यालय और विक्रमशिला विश्वविद्यालय के साथ उदवंतपुरी विश्वविद्यालय, तेल्हाड़ा की खुदाई से भी विश्वविद्यालय का पता चला है। तेल्हाड़ा की खुदाई में प्रथम शताब्दी ईसा पूर्व तक की जानकारी मिलती है।

गांधी की गलत तस्वीर पर मुख्यमंत्री ने टोका
- मुख्यमंत्री ने वेबसाइट पर चंपारण सत्याग्रह के दौरान महात्मा गांधी की गलत तस्वीर दिखाए जाने पर एसएयूसी के निदेशक उदय सहाय को टोका। मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि यह तस्वीर असली नहीं है। इसकी सही तस्वीर आप यहां के अधिकारियों के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं।

- वेबसाइट का निर्माण एसएयूसी कम्यूनिकेशन ने किया है। इससे पहले उदय सहाय ने वेबसाइट पर बिहार से जुड़ी कला-संस्कृति, संगीत, मीडिया, सिनेमा, साहित्य, खानपान, वाइल्ड लाइफ, यहां से जुड़े व्यक्तित्व, पुरातात्विक स्थलों के बारे में बताया।

- इस अवसर पर मुख्य सचिव दीपक कुमार, विकास आयुक्त शशि शेखर शर्मा, प्रधान सचिव पर्यटन रवि परमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव अतीश चंद्रा, विनय कुमार, मनीष कुमार वर्मा, विशेष सचिव अनुपम कुमार, सीएम के ओएसडी गोपाल सिंह मौजूद थे।