राजनीतिक दलों से चुनावों में मुसलमानों के लिए मांगीं 10 सीटें

Patna News - बिहार में मुसलमान राजनीतिक रूप से हाशिए पर चले गए हैं। मुसलमानों की 17 फीसदी आबादी होने के बावजूद लोकसभा चुनाव में...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 04:47 AM IST
Patna News - 10 seats sought by political parties for muslims in elections
बिहार में मुसलमान राजनीतिक रूप से हाशिए पर चले गए हैं। मुसलमानों की 17 फीसदी आबादी होने के बावजूद लोकसभा चुनाव में धर्मनिरपेक्ष पार्टियां टिकट नहीं देती हैं। इस बार लोकसभा चुनाव में कम से कम 10 सीट पर मुसलमानों को टिकट दिया जाए। राजनीतिक पार्टी और गठबंधन अपने चुनावी घोषणा पत्रों में मुसलमानों के बुनियादी समस्याओं का जिक्र करे। बिहार उर्दू अकादमी में अदल व इंसाफ फ्रंट की ओर से बिहार में मुसलमानों की सियासी हिस्सेदारी, आवश्यकता और महत्व विषय पर आयोजित की बैठक में मुस्लिम संगठनों के प्रतिनिधियों ने यह प्रस्ताव पारित किया। इमारत-ए-शरिया के नाजिम मौलाना अनिसुर रहमान कासमी ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो गई है। बेरोजगारी बढ़ गई है। मॉब लिंचिंग से लोग खौफ में हैं। मुस्लिम पर्सनल लॉ को समाप्त करने की कोशिश जी रही है। उन्होंने कहा कि धर्मनिरपेक्ष पार्टियों को आबादी और वोट के अनुपात में मुस्लिमों को हिस्सेदारी देनी हाेगी।

जमीअत उलेमा हिंद के महासचिव अलहाज हुस्ने अहमद कादरी ने कहा कि वर्तमान राजनीतिक परिस्थिति को देखते हुए यह कहा जा सकता है चार प्रतिशत की आबादी वाले विभिन्न मजहब और जात के लोगों ने अपनी सियासी जमात बना ली है और गठबंधन में शामिल हैं। मुसलमानों की राजनीतिक हिस्सेदारी का हाल यह है कि 17 प्रतिशत आबादी के बाद भी सियासी हलकों में उनका कोई वजन नहीं है।

15 सीटों पर 44% तक है वोट

जमात इस्लामी हिंद के स्थानीय अमीर मौलाना रिजवान अहमद इस्लाही ने कहा कि राजनीतिक पार्टियां मुस्लिम के साथ दोहरी नीति की बजाय इंसाफ कर लोकसभा सीटों का विभाजन करें। उन्होंने दावा किया कि 15 लोकसभा क्षेत्र ऐसे है, जहां मुसलमानों का वोट 12 से 44 प्रतिशत है। मौके पर पत्रकार अनवारुल होदा, खुर्शीद अनवर आरफी, मौलाना खुर्शीद मदनी, अमानत हुसैन, मो. आलम कासमी, अबुल कलम कासमी, डॉ. रेहान गनी, अहमद जावेद, खुर्शीद हाशमी आदि ने भी अपने विचार रखे।

X
Patna News - 10 seats sought by political parties for muslims in elections
COMMENT