पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Patna News 1127 Madrasas Will Have Computers 25 Lakh Students And 12 Thousand Teachers Will Get Benefit

1127 मदरसों में लगेंगे कम्प्यूटर, 2.5 लाख छात्र व 12 हजार शिक्षकों को मिलेगा फायदा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बिहार मदरसा बोर्ड के अधीन सरकारी 1127 मदरसों के छात्र केवल अरबी, दिनयात, फारसी और उर्दू ही नहीं पढ़ेंगे। मदरसा से पढ़ने वाले मौलवी व मौलाना भी माउस से एक क्लिक कर देश व दुनिया के बारे में जानकारी लेेंगे। यही नहीं वस्तानिया से लेकर मौलवी तक के 1127 मदरसे भी ऑनलाइन हो जाएंगे।

केंद्र सरकार ने चार साल पहले ही मदरसाें में आधुनिक शिक्षा देने के लिए एसपीक्यूईएम यानी स्कीम टू प्रोवाइड क्वालिटी एजुकेशन इन मदरसा 5.63 करोड़ आवंटित किए थे। इन चार सालों में मदरसा बोर्ड के दो चेयरमैन आए और चले गए पर किसी ने मदरसों में कंप्यूटर लगाने में दिलचस्पी नहीं दिखाई और यह रकम मदरसा बोर्ड में ही पड़ा रह गया।

बोर्ड के चेयरमैन अब्दुल कय्यूम अंसारी ने बताया कि केंद्र सरकार से इस रकम से कंप्यूटर लगने की इजाजत जल्द ही मिल जाएगी। इस बाबत केंद्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी से बातचीत हो चुकी है। रकम की मंजूरी के लिए चेयरमैन दिल्ली में कैंप किए हुए हैं। मदरसों में कंप्यूटर व प्रिंटर लग जाने से करीब 12 हजार शिक्षकों व 2.5 लाख छात्रों को फायदा होगा।

केंद्र सरकार से हरी झंडी मिल जाने के बाद एक माह में बिहार सरकार के गवर्नमेंट ई मार्केटिंग यानी जेम पोर्टल पर टेंडर निकाल दिया जाएगा। टेंडर होने के बाद मदरसों में हरेक मदरसे में 26 हजार का एचपी का कंप्यूटर और 11 हजार का केनन का प्रिंटर लगना शुरू हो जाएगा।

एक माह में हो जाएगा टेंडर

5.63 करोड़ की लागत से 1127 मदरसों में कंप्यूटर ओर प्रिंटर लगेगा। इसके लिए एक माह में बिहार सरकार के पोर्टल पर टेंडर निकाला जाएगा। कंप्यूटर लग जाने से मदरसे ऑनलाइन हो जाएंगे। चार साल से यह रकम पड़ी हुई थी। -अब्दुल कय्यूम अंसारी, चेयरमैन, बिहार मदरसा बोर्ड

कंप्यूटर लग जाने से होगा फायदा

मदरसा का सारा काम ऑनलाइन हो जाएगा।

बोर्ड ने परीक्षा फार्म ऑनलाइन कर दिया, छात्र मदरसे से ही फार्म आनॅलाइन भर देंगे।

परीक्षा से पहले रजिस्ट्रेशन करने में भी छात्रों को आसानी हो जाएगी।

बोर्ड द्वारा मदरसों को निर्देश देने में आसानी हो जाएगी।

बोर्ड मदरसों को ईमेल से सूचना दे देंगे। इससे कार्यप्रणाली में तेजी आएगी।

खबरें और भी हैं...