सेना में भर्ती के नाम पर 42 अभ्यर्थियों से 2 करोड़ रु. की ठगी, दो जवान पकड़े गए

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • दो जवानों को मिलिट्री इंटेलिजेंस यूनिट ने दानापुर छावनी से हिरासत में लिया
  • बिहार रेजिमेंट ने दोनों जवानों के खिलाफ कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी शुरू कर दी

पटना. सेना में भर्ती के नाम पर ठगी करने वाले दो जवानों को मिलिट्री इंटेलिजेंस यूनिट ने दानापुर छावनी से हिरासत में लिया है। एक को बिहार रेजिमेंट सेंटर और दूसरे को मिलिट्री हॉस्पिटल के निकट से पकड़ा। दोनों कई अभ्यर्थियों को सेना में बहाल और मेडिकल टेस्ट पास कराने का झांसा देकर रुपयों की मांग कर रहे थे। दोनों को बिहार रेजिमेंट सेंटर को सौंप दिया गया है। बिहार रेजिमेंट ने दोनों जवानों के खिलाफ कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी शुरू कर दी है। 
 
जवानों के पास से बरामद मोबाइल से सेना बहाली से संबंधित कई संदिग्ध दस्तावेज मिले हैं। ये बिहार रेजिमेंट के हैं और अभी उत्तर-पूर्व में पोस्टेड हैं। इनमें एक मनेर और एक बक्सर का है। दोनों बहाली रैली के दौरान छुट्टी लेकर दानापुर आते थे और एक अभ्यर्थी से 4 से 5 लाख रुपए तक की ठगी करते थे।
 

भोजपुर का सरगना, एक-एक से 4 से 5 लाख तक ठगे
मिलिट्री इंटेलिजेंस को मिली जानकारी के मुताबिक सेना में भर्ती कराने का झांसा देकर ठगी करने वाला एक रैकेट 42 अभ्यर्थियों से 2 करोड़ रुपए वसूल चुका है। 42 अभ्यर्थियों के नाम और पते के साथ सूची मिली है। इसमें प्रति अभ्यर्थी 4.50 लाख रुपए लेने की बात लिखी है। एक ऐसी सूची भी है, जिसे सेना के जोनल भर्ती मुख्यालय द्वारा जारी बताते हुए इन सभी अभ्यर्थियों को दौड़, शारीरिक जांच और लिखित परीक्षा में पास दर्शाया गया है। बताया जाता है कि इस रैकेट का संचालन भोजपुर से किया जा रहा है। सरगना भी भोजपुर का ही रहने वाला है। अब इस मामले में कई पूर्व सैनिकों व कोचिंग संचालकों पर भी नजर है।
 

फर्जी जाति प्रमाण पत्र पर भर्ती हुआ था जवान
पकड़ा गया एक जवान खुद फर्जी प्रमाण पत्र के सहारे सेना में बहाल हुआ था। ओबीसी होने के बावजूद एससी/एसटी का प्रमाण पत्र दिया था। सेना इस मामले की अलग से जांच कर रही है। जवान ने पकड़े जाने पर एक जेसीओ पर हमला कर भागने का प्रयास भी किया था।
 

लखनऊ में भी दो जालसाज पकड़ाए, 1 भागलपुर का
मिलिट्री इंटेलिजेंस को रैकेट से जुड़े दो ठगों के मेडिकल टेस्ट के नाम पर अभ्यर्थियों को लेकर लखनऊ जाने की सूचना मिली। दोनों को लखनऊ कैंट से गिरफ्तार किया गया। इनमें भागलपुर का मो. अनवर व कोलकाता का मो. अकबर शामिल हैं। इनके पास से 16 अभ्यर्थियों के मेडिकल टेस्ट फॉर्म मिले हैं।

खबरें और भी हैं...